Moradabad news

मुरादाबाद

अपना जिला चुनें

Amroha News: महिला पुलिसकर्मी को गोली मारने वाला आरोपी सिपाही निलंबित, शुरू हुई बर्खास्तगी की कार्रवाई

महिला पुलिसकर्मी को गोली मारने वाला आरोपी सिपाही निलंबित (file photo)

महिला पुलिसकर्मी को गोली मारने वाला आरोपी सिपाही निलंबित (file photo)

पुलिस अधीक्षक (SP) सुनीति ने बताया किदोनों पुलिसकर्मी किराये के एक ही मकान में साथ रहते हैं. दोनों 2018 बैच के सिपाही हैं.

SHARE THIS:

अमरोहा. गजरौला थाना क्षेत्र में उस वक्त हड़कंप मच गया जब यहां तैनात यूपी पुलिस (UP Police) के एक सिपाही ने महिला पुलिसकर्मी को गोली मार दी. महिला पुलिसकर्मी (Women Policeman) को गोली मारने के बाद आरोपी सिपाही ने खुद को भी गोली मारकर लहूलुहान कर लिया. वहीं इलाज के दौरान महिला सिपाही मेघा की मौत हो गई. घायल सिपाही को इलाज के लिए मुरादाबाद के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. घटना सामने आने के बाद एसपी सुनीति ने आरोपी मनोज कुमार को निलंबित कर दिया है. एसपी के निर्देश पर आरोपी सिपाही के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज की गई है. उधर, आरोपी के खिलाफ विभागीय जांच के साथ ही बर्खास्तगी की कार्यवाही शुरू हो गई है.

जांच के दौरान सामने आया है कि आरोपी सिपाही मनोज अपनी साथी महिला पुलिसकर्मी मेघा से शादी करने का दबाव डाल रहा था. वहीं मेघा के शादी से इनकार करने के बाद भी आरोपी सिपाही पीछा नहीं छोड़ रहा था. मामला प्रेम प्रसंग से जुड़ा बताया जा रहा है. जानकारी के मुताबिक, डायल 112 में तैनात सिपाही मनोज कुमार का महिला सिपाही मेघा के साथ पिछले कुछ समय से प्रेम प्रसंग चल रहा था. दोनों पुलिसकर्मी अलग-अलग थाना क्षेत्रों में ड्यूटी करते थे. दोनों अवंतिका नगर के किराये के एक मकान में साथ रहते थे. रविवार को दोनों के बीच मामूली कहासुनी हो गई थी. कहासुनी के बाद सिपाही मनोज ने युवती को गोली मार दी.

2018 बैच के सिपाही हैं दोनों पुलिसकर्मी
पुलिस अधीक्षक सुनीति ने बताया किदोनों पुलिसकर्मी किराये के एक ही मकान में साथ रहते हैं. दोनों 2018 बैच के सिपाही हैं. उन्होंने दानकारी देते हुए बताया कि सिपाही मनोज कुमार ने पहले महिला सिपाही को गोली मारी और फिर खुद को भी गोली मारकर खुदकुशी की कोशिश की. फिलहाल, दोनों को हायर सेंटर रेफर कर दिया गया है महिला सिपाही की इलाज के दौरान मौत हो गयी है. मामले की जांच की जा रही है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

आतंकियों की गिरफ्तारी का मामला, अमानतुल्लाह के बाद उप्र में सपा सांसद हसन ने भी खड़े किए सवाल

सपा सांसद एसटी हसन- (File Photo)

दिल्ली पुलिस ने हाल में आतंकवादियों की जो गिरफ्तारी की, उसे 'हिंदू-मुस्लिम सियासत' के रंग में देखने वाले बयानों का सिलसिला लगातार जारी है. आम आदमी पार्टी और भाजपा की बहस के बीच सपा भी कैसे शामिल हुई, जानिए

SHARE THIS:

मुरादाबाद. दिल्ली वक्फ बोर्ड के प्रमुख और आम आदमी ​पार्टी विधायक अमानतुल्लाह खान के बाद उप्र में समाजवादी पार्टी के सांसद एसटी हसन ने भी दिल्ली में कथित आतंकवादियों की गिरफ्तारी पर प्रतिक्रिया दी. मुरादाबाद से सांसद डॉ. हसन ने दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल द्वारा पकड़े गये आतंकवादियों के यूपी कनेक्शन पर कहा कि ये बहुत संवदनशील मुद्दा है. ‘देश की सुरक्षा से जुड़ी हुई बात है. अगर ये लोग वाकई आतंकवादी हैं, तो इन्हें कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए. ये फैसले अदालतें करेंगी, हम सिर्फ इतना कहेंगे कि ऐसा न हो कि लोगों के पन्द्रह-बीस साल जेलों में कट जाएं और आखिर में वो बाइज्ज़त बरी हो जाएं.’ इस मुद्दे पर बयानबाज़ी और पलटवार का सिलसिला लगातार चल रहा है, देखिए.

डॉ. हसन के बयान के समानांतर अमानतुल्लाह खान का बयान भी सामने आया जिसमें साफ तौर पर आतंकवाद को धर्म से जोड़कर पेश किया गया. उन्होंने कहा, ‘जैसे-जैसे चुनाव नज़दीक आते हैं, देश के मुसलमानों पर ज़ुल्म बढ़ता है. आतंकवाद के नाम पर बेकसूरों को फर्ज़ी मुकदमों में फंसाकर परेशान करने का खेल शुरू हो गया है. आगे और न जाने कितने लोगों पर झूठे मुकदमे लगाए जाएंगे. अल्लाह हिफाज़त करे!’ खान के इस बयान के बाद भाजपा ने केजरीवाल सरकार पर निशाना साधा.

ये भी पढ़ें : पूर्वांचल की सियासत, योगी सरकार को घेरने के लिए ओमप्रकाश राजभर ने खेला मुस्लिम और जाति कार्ड

‘क्या आतंकवाद का धर्म होता है?’
दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता हरीश खुराना ने खान के बयान पर आपत्ति दर्ज करते हुए सवाल दागा कि आतंकवाद कब से हिंदू-मुस्लिम होने लगा? उन्होंने खान के बयान पर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को घेरने की कोशिश करते हुए कहा, ‘केजरीवाल को सफाई देनी चाहिए कि क्या वो आतंकवादियों की गिरफ्तारी पर खान की बात से सहमत हैं, जिन्होंने इसे धार्मिक रंग देने की कोशिश की. इतनी मिर्ची क्यों लगती है जब कोई आतंकवादी पकड़ा जाता है?’

ये भी पढ़ें : हाथरस गैंगरेप: घुटन और सामाजिक बहिष्कार झेल रहा पीड़ित परिवार, इंसाफ की आस में लिए बैठा है बेटी की अस्थियां

‘सपा करती है मुसलमानों के साथ इंसाफ’
इस पूरी बहस के बीच सपा सांसद डॉ. हसन ने कहा कि मुसलमानों के लिए किसी ने कुछ किया है, तो वह समाजवादी पार्टी और उसके नेता मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव रहे हैं. ‘ये बात अच्छी तरह मुसलमान जानते हैं कि जब समाजवादी पार्टी की सरकार आती है, तो मुसलमानों के साथ इन्साफ होता है और उनको बराबरी का हक़ मिलता है. इसलिए सपा को मुसलमानों को रिझाने के लिए कुछ करने की ज़रूरत नहीं है. समाजवादी पार्टी का अपना इतिहास है और पार्टी ने मुसलमानों के लिए अब तक जो किया है, वो सबको मालूम है.

Moradabad में मौत की कुश्ती: एक दांव में चली गई पहलवान की जान, वीडियो वायरल

मुरादाबाद में दंगल के दौरान गर्दन टूटने से गई पहलवान की जान

Moradabad Live Death Video: कुश्ती के खेल के दौरान पहलवान की मौत का लाइव वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. फ़िलहाल अभी तक पुलिस ने किसी भी तरह की कोई कार्रवाई नहीं की है.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 09, 2021, 10:57 IST
SHARE THIS:

मुरादाबाद. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुरादाबाद (Moradabad) जनपद में आयोजित एक दंगल प्रतियोगिता में कुश्ती (Wrestling) के दौरान उत्तराखंड से आए पहलवान की गर्दन टूटने से मौत हो गई. जानकारी के मुताबिक बिना अनुमति के यह दंगल आयोजित की गई थी, जिसमें एक पहलवान के दांव से दूसरे पहलवान की गर्दन टूट गई और अखाड़े में ही उसकी सांसे उखड़ गई. कुश्ती के खेल के दौरान पहलवान की मौत का लाइव वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. फ़िलहाल अभी तक पुलिस ने किसी भी तरह की कोई कार्रवाई नहीं की है.

दरअसल, मुरादाबाद के ठाकुरद्वारा कोतवाली इलाके के फरीदनगर में दंगल प्रतियोगिता चल रही थी. इसमें उत्तराखंड के उधमसिंह नगर के गंगापुर का रहने वाला महेश भी भाग ले रहा था. महेश का मुकाबला स्थानीय पहलवान  साजिद अंसारी से शुरू हुआ. जैसे ही मुकाबला शुरू हुआ साजिद ने दांव लगाया और महेश को गर्दन के बल चित कर दिया. इसके बाद साजिद ने दो-तीन बार महेश की गर्दन को हिला कर छोड़ दिया. इस दौरान वहां मौजूद लोग तालियां भी बजा रहे थे.

पंचायत ने 60 हजार रुपए में कर दिया मौत का सौदा
यह कुश्ती प्रतियोगिता 2 सितंबर को नौमी के मेले में बिना अनुमति को लगाई गई थी. हादसे के बाद लगाई गई पंचायत में महेश की मौत का सौदा 60 हजार रुपये में कर दिया गया. 6 दिन बाद जब वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तो लोगों की इसकी भनक लगी. हालांकि पुलिस अभी भी किसी भी तरह की जानकारी से इंकार कर रही है.

शिकायत पर पुलिस ने कही कार्रवाई की बात
एसपी देहात विद्या सागर मिश्र ने बताया कि पुलिस को किसी ने पहलवान की मौत की जानकारी नहीं दी है. इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो भी हमने नहीं देखा. शिकायत आएगी तो जांच कराकर कार्रवाई कराई जाएगी.

Moradabad News: सहेली ने इंस्टाग्राम पर अश्लील फोटो लगाकर शुरू की ब्लैकमेलिंग, गिरफ्तार

Moradabad News: सहेली ने इंस्टाग्राम पर अश्लील फोटो लगाकर शुरू की ब्लैकमेलिंग

Cyber Crime: पुलिस ने ब्लैकमेलिंग की आरोपी मरयम सिकंदर को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया. जहां से उसे 14 दिन के रिमांड पर जेल भेज दिया गया है.

SHARE THIS:

मुरादाबाद. उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद पुलिस (Moradabad Police) ने रविवार को इंस्टाग्राम पर अश्लील फोटो पोस्ट की धमकी देकर रंगदारी मांगने वाली एक युवती को गिरफ्तार किया है. सबसे खास बात है कि आरोपी युवती पीड़िता की सहेली हैं. युवती ने बताया कि डांट का बदला लेने के लिए उसने अपनी सहेली को सबक सिखाने के लिए प्लानिंग रची थी. दरअसल एक युवती ने पुलिस से शिकायत करते हुए कहा कि सोशल नेटवर्किंग साइट इंस्टाग्राम पर एक लड़के ने उसके फोटो को एडिट कर अश्लील बनाकर पोस्ट किया. और उससे वो फोटो हटाने के नाम पर 10 लाख रुपये की रंगदारी मांगी है. पुलिस अधिकारियों ने युवती की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए इसकी जांच साइबर सेल को सौंप दी.

साइबर सेल ने 7 मई को मिली इस शिकायत की 4 महीने तक जांच करने के बाद इंस्टाग्राम पर बनाए गए फर्जी अकाउंट का आईपी ऐड्रेस ट्रेस करते हुए मुरादाबाद के मुगलपुरा थाना इलाके के वारसी नगर में रहने वाली मरयम सिकंदर नाम की युवती को हिरासत में लेकर पूछताछ की. तो मरयम ने पुलिस को बताया कि उसकी सेहली ने एक बार उसे सबके सामने डांट दिया था, जिसके बाद से वह अपनी सेहली से रंजिश रखने लगी, और फिर एक दिन उसके दिमाग में अपनी सेहली को सबक सिखाने का एक आईडिया आया और उसने इंस्टाग्राम पर एक लड़के के नाम से फर्जी अकाउंट बनाया और फिर उसने अपनी सहेली के फोटो को एडिट कर उन्हें अश्लील बनाया.

UP Election 2022: बसपा MLA सुखदेव राजभर से मिले सपा प्रमुख अखिलेश यादव, हलचल तेज

और फिर उसी फ़र्ज़ी एकाउंट से अपनी सेहली को पोस्ट कर दिया और कहा कि वह उसे 10 लाख रुपए दे वरना वह सोशल मीडिया पर उसके फोटो वायरल कर उसे बदनाम कर देगा. पुलिस ने ब्लैकमेलिंग की आरोपी मरयम सिकंदर को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया. जहां से उसे 14 दिन के रिमांड पर जेल भेज दिया गया है.

UP News: दर्जा प्राप्त मंत्री के नाम पर बुक सर्किट हाउस के कमरे में लटकता मिला शव

UP: मुरादाबाद के सर्किट हाउस में एक शख्स का शव मिलने से हड़कंप मच गया है.  (सांकेतिक फोटो)

Moradabad News: मुरादाबाद के पुलिस अधीक्षक अमित आनंद के मुताबिक शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही साफ हो पाएगा कि कि मौत का असल कारण क्या था?

SHARE THIS:

फरीद शम्सी

मुरादाबाद. उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद (Moradabad) में थाना मझौला इलाके के दिल्ली रोड पर स्थित सर्किट हाउस में उस समय हड़कंप मच गया, जब पुलिस को सूचना मिली कि सर्किट हाउस के कमरे में एक शख्स की लाश (Deadbody) लटक रही है. पता चला कि उत्तर प्रदेश खादी ग्राम उद्योग के उपाध्यक्ष व दर्जा मंत्री गोपाल अंजान के नाम दर्ज कमरा नंबर 7 में खिड़की से एक व्यक्ति का अंदर कमरे में शव छत में लगे पंखे के सहारे लटका नजर आ रहा है. सूचना मिलते ही थाना मझोला पुलिस सर्किट हाउस पहुंच गई.

पुलिस ने दरवाजा खुलवा कर अंदर जाकर देखा, कमरे में लटके शव से काफी दुर्गंध आ रही थी. शव 2 से 3 दिन पुराना लग रहा था. गर्मी की वजह से शव से खून भी टपक कर जमीन पर जम गया था. पुलिस ने जब शव को उतारकर तलाशी ली तो उसकी जेब से लवकुश शुक्ला नाम के व्यक्ति का पहचान पत्र निकला. पता चला कि लवकुश शुक्ला उत्तर प्रदेश के सीतापुर का रहने वाला था और खादी ग्राम उद्योग के उपाध्यक्ष गोपाल अंजान का ड्राइवर था. पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज कर छानबीन शुरू कर दी है.

पता चला है कि उत्तर प्रदेश खादी ग्राम उद्योग के उपाध्यक्ष वे दर्जा प्राप्त मंत्री गोपाल अंजान के नाम से मुरादाबाद के सर्किट हाउस में कमरा नंबर 7 हमेशा बुक रहता है. गोपाल अंजान जब भी मुरादाबाद आते हैं तो इसी कमरे में रुकते हैं. उनकी अनुपस्थिति में कमरे की चाभी उनके स्टफ के पास ही रहती है. गोपाल अंजान मुरादाबाद से बाहर हैं. इस बीच उनके सरकारी वाहन चालक लवकुश शुक्ला इस कमरे में रह रहा था.

आज सफाई के दौरान सर्किट हाउस के कर्मचारी को कमरा नंबर 7 की खिड़की से एक व्यक्ति अंदर लटका हुआ नज़र आया. उस कर्मचारी ने इसकी सूचना सर्किट हाउस के अन्य स्टाफ को दी, जिसके बाद सबने ही खिड़की से झांककर देखा तो अंदर शव लटका हुआ नजर आया. इसके बाद थाना मझोला पुलिस को सूचना दी गई.

मौके पर पहुंची पुलिस ने कमरा नंबर 7 को खुलवा कर शव को कब्जे में लिया. तलाशी लेने पर शव की शिनाख़्त लव कुश के रूप में हुई. पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा कर छानबीन शुरू कर दी है. वहीं सर्किट हाउस के स्टाफ का कहना है कि उन्हें नहीं पता कि लव कुश कब कमरे में गया और कब उसकी मौत हुई?

फिलहाल मुरादाबाद पुलिस ने संदिग्ध परिस्थिति में मिले शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और जांच शुरू कर दी है. मुरादाबाद के पुलिस अधीक्षक अमित आनंद के मुताबिक शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही साफ हो पाएगा कि संदिग्ध परिस्थितियों में मिले लवकुश की मौत का असल कारण क्या था?

Moradabad News: अवैध शराब की तस्करी से जुड़ी दो महिला तस्कर गिरफ्तार, भारी मात्रा में सामान बरामद

Moradabad:  अवैध शराब की  तस्करी के आरोप में दो महिलाएं गिरफ्तार

Moradabad Crime News: पकड़ी गई दोनों आरोपी महिलाएं बार बार यह सफाई देती रही कि उन्हें नहीं पता कि यह शराब बनाने का सामान है. यह सभी सामान उनके भाई उस्मान कुरैशी ने जीशान नाम के व्यक्ति को कमरा किराए पर देकर रखवाया था.

SHARE THIS:

मुरादाबाद. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुरादाबाद (Moradabad) जिले में गलशहीद थाना इलाके के असालतपुरा में सोमवार को आबकारी विभाग की टीम ने स्थानीय पुलिस (Police) के साथ संयुक्त रूप से छापामार कार्यवाई की. पुलिस ने छापेमारी के दौरान सायमा व शादमा नाम की दो महिलाओं को हिरासत में लेकर जब पूछताछ कर उनके घर की तलाशी ली तो उनके एक कमरे से भारी मात्रा में देसी शराब बनाने का सामान बरामद हुआ. पुलिस ने शराब बनाने का सामान जब्त कर दोनों महिलाओ को हिरसत में लेकर उनके बाकी फरार साथियों के बारे में पूछताछ शुरू कर दी है.

मुरादाबाद आबकारी विभाग को काफी समय से सूचना मिल रही थी कि थाना गलशहीद इलाके के असालतपूरा इलाके में देसी कच्ची शराब अलग-अलग नामों से बनाकर बेची जा रही है. आबकारी विभाग की टीम ने थाना गलशहीद पुलिस के साथ मिलकर उस्मान क़ुरैशी के घर छापा मारा. छापे में पुलिस को शादमा व सायमा नाम की दो महिला मिली. पुलिस ने पूछताछ के बाद घर की तलाशी ली तो पुलिस को 27 हज़ार शराब के पव्वा पैक करने वाले प्रिंटेड ढक्कन, 56 लीटर स्प्रिट, हजारों की तादात में रैपर, 96 पव्वा, 59 नकली QR कोड स्टिकर सहित काफी सामान बरमाद किया.

पकड़ी गई दोनों आरोपी महिलाएं बार बार यह सफाई देती रही कि उन्हें नहीं पता कि यह शराब बनाने का सामान है. यह सभी सामान उनके भाई उस्मान कुरैशी ने जीशान नाम के व्यक्ति को कमरा किराए पर देकर रखवाया था.

(रिपोर्ट: फरीद शम्सी)

Amroha News: रक्षाबंधन के मौके पर बसों में उमड़ी महिलाओं की भीड़, फ्री में किया सफर

Amroha News: सोशल डिस्टेंसिंग को ताक पर रखकर महिलाओं ने किया बसों में फ्री सफर

आदेश के मुताबिक 21 अगस्त की रात 12 बजे से 22 अगस्त की रात 12 बजे तक परिवहन निगम की बसों पर महिलाओं के लिए निःशुल्क यात्रा की सुविधा प्रदान की जा रही है.

SHARE THIS:

अमरोहा. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने हर साल की तरह इस साल भी रक्षाबंधन (Rakshabandhan) के मौके पर राज्य की महिलाओं को फ्री बस सेवा का उपहार दिया है. सीएम ने राज्य सड़क परिवहन निगम की बसों में निःशुल्क यात्रा सुविधा प्रदान करने का निर्देश दिया है. रविवार को अमरोहा जिले में बसों में सफर करने के लिए महिलाओं की भीड़ उमड़ पड़ी. अमरोहा डिपो के सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक आरके जौहरी ने बताया कि आज सबसे अधिक महिलाओं की संख्या रोडवेज डिपो पर नजर आ रही है. उन्होंने कहा कि हमारी 20 बसें खराब है लेकिन 45 बसें यात्रियों की सेवा में लगी हुई है. यात्रियों की सुविधा के लिए उनके चक्कर बढ़ा दिए गए हैं और किसी प्रकार से भी किसी को दिक्कत न हो इसका पूरा ध्यान रखा जा रहा है.

जौहरी के मुताबिक हर किसी को बताया जा रहा है कि सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखें. कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए मास्क अवश्य लगाएं. उन्होंने कहा कि भीड़ ज्यादा है इसलिए ऐसे में कई बार कोविड नियमों का पालन नहीं हो पाता, लेकिन हम प्रयास कर रहे हैं कि किसी यात्री को कोई भी दिक्कत ना हो.

रात 12 से अगले दिन रात 12 बजे तक रहेगी फ्री बस सेवा
आदेश के मुताबिक 21 अगस्त की रात 12 बजे से 22 अगस्त की रात 12 बजे तक परिवहन निगम की बसों पर महिलाओं के लिए निःशुल्क यात्रा की सुविधा प्रदान की जा रही है. बता दें कि सीएम योगी आदित्यनाथ के आदेश पर मिशन शक्ति के अंतर्गत उत्तर प्रदेश में 75 जिलों में कार्यक्रम किए जा रहे हैं. इसी के तहत ये फैसला लिया गया है. बता दें कि सरकार ने भाई-बहन के स्‍नेह के इस पवित्र पर्व पर बहनों को राज्‍य की सरकारी बसों में आने-जाने की मुफ्त सुविधा दी है. पिछले साल करीब साढ़े तीन लाख बहनों ने इस सुविधा का लाभ उठाते हुए रक्षाबंधन के मौके पर यूपी रोडवेज की बसों से यात्रा की थी.

Uttarakhand: रेलवे पेंशन बंद होने से भुखमरी की हालात में दिव्यांग, CM से लगाई गुहार

उत्तराखंड के बनबसा निवासी एक दिव्यांग आश्रित की रेलवे पेंशन बंद हो गई है. इससे आश्रित भुखमरी की हालात में पहुंच गया है.

Uttarakhand News: उत्तराखंड के बनबसा निवासी दिव्यांग देव सिंह को को रेलवे विभाग द्वारा आश्रित पेंशन न दिए जाने से उनके सामने भुखमरी की स्थिति पैदा हो गई है. दिव्यांग ने अब मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मदद की गुहार लगाई है.

SHARE THIS:

बनबसा. उत्तराखंड के बनबसा निवासी दिव्यांग देव सिंह को रेलवे विभाग की आश्रित पेंशन नहीं मिलने से उसके सामने भुखमरी के हालात पैदा हो गए हैं. परेशान होकर दिव्यांग ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मदद की गुहार लगाई है. 70 प्रतिशत दिव्यांग देव सिंह आश्रित पेंशन हेतु तीन साल से मुरादाबाद मंडल कार्यालय के चक्कर काट रहा है, लेकिन उसे हर बार निराश और हताश होना पड़ा है.

देश व प्रदेश में भले ही दिव्यांगों के कल्याण व उनके जीवन को आसान बनाने हेतु सरकारों द्वारा तमाम योजनाएं संचालित की जा रही हैं, लेकिन इन योजनाओं को खुद देश का सबसे बड़ा महकमा पलीता लगा रहा है. बनबसा चंदनी निवासी देव सिंह ने अब थक हार कर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मदद मांगी है. जन्म से ही देव सिंह के पास जिला मेडिकल बोर्ड द्वारा जारी 70 प्रतिशत दिव्यांगता का प्रमाण पत्र भी है.

पीड़ित दिव्यांग देव सिंह ने बताया कि उनके पिता रेलवे आरपीएफ के कर्मचारी रहे थे. दिव्यांग होने के चलते वह पूर्ण रूप से अपने माता पिता पर आश्रित थे. पिता का देहांत 2006 में हो गया था. उनकी माता भी 2013 में कैंसर के चलते चल बसी. उनके दोनों भाई भी बेरोजगार हैं, जिसके चलते वह अपने परिवार का भरण पोषण भी बमुश्किल से कर पा रहा है. वहीं इस दौरान उन्हें पता चला की जिन दिव्यांग के माता पिता सरकारी सेवा में हो, अगर उनका देहांत हो जाये तो दिव्यांग को अपने जीवन को चलाने हेतु सरकार आश्रित पेंशन जारी करती है. इस सूचना के बाद दिव्यांग देव सिंह वर्ष 2017 में आरपीएफ मुरादाबाद मंडल में कागजी कार्यवाही शुरू की गई, लेकिन अभी तक उसे लाभ नहीं मिल पाया है.

UP: गाजियाबाद और मुरादाबाद के कप्तान सहित 3 IPS अफसरों का तबादला

यूपी में 3 आईपीएस अफसरों के तबादले हुए हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

UP News: ट्रांसफर लिस्ट के अनुसार गाजियाबाद में डीआईजी/एसएसपी अमित पाठक को डीजीपी मुख्यालय से सम्बद्ध कर दिया गया है.

SHARE THIS:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश शासन ने सोमवार देर रात तीन आईपीएस अफसरों का ट्रांसफर (3 IPS Transfer) कर दिया. इनमें गाजियाबाद (Ghaziabad) और मुरादाबाद (Moradabad) जिले के कप्तान बदल दिए गए हैं. ट्रांसफर लिस्ट के अनुसार गाजियाबाद में डीआईजी/एसएसपी अमित पाठक को डीजीपी मुख्यालय से सम्बद्ध कर दिया गया है.

वहीं पवन कुमार को अमित पाठक की जगह गाजियाबाद एसएसपी पद की जिम्मेदारी सौंपी गई है. पवन कुमार अभी तक एसएसपी, मुरादाबाद पद की जिम्मेदारी संभाल रहे थे. वहीं इनके अलावा बबलू कुमार को मुरादाबाद का वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बनाया गया है. वह अभी तक एसपी, यूपी एटीएस पद की जिम्मेदारी संभाल रहे थे. इन तीनों अफसरों को तत्काल अपना कार्यभार ग्रहण करने निर्देश दिया गया है.

कहा जा रहा है कि बसपा सांसद अतुल राय (BSP MP Atul Rai) पर रेप का आरोप लगाने वाली पीड़िता द्वारा सोमवार को दिल्ली में सुप्रीम कोर्ट के बाहर आत्मदाह करने की घटना की वजह से गाजियाबाद के कप्तान अमित पाठक पर गाज गिरी है. पीड़िता ने वाराणसी में एसएसपी रहते हुए अमित पाठक पर सुनवाई न करने का आरोप लगाते हुए आत्मदाह का प्रयास किया था.

UP: स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रगान ही भूल गए मुरादाबाद के सपा MP डॉ. एसटी हसन, देखें VIDEO

UP: स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रगान ही भूल गए मुरादाबाद के सपा MP डॉ. एसटी हसन

UP News: सपा सांसद (MP) ने कहा कि आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर आयोजित कार्यक्रम वह चीफ गेस्ट थे, लेकिन वहां राष्ट्रगान गाने वाली दूसरी टीम थी.

SHARE THIS:

मुरादाबाद. विवादित बयानों के लिए चर्चा में रहने वाले मुरादाबाद (Moradabad) के सपा सांसद (SP MP) डॉक्टर एसटी हसन स्वतंत्रता दिवस के मौके पर राष्ट्रगान ही भूल गए. पहली पंक्ति के बाद सीधे जय हे…जय हे… बोल कर उन्होंने राष्ट्रगान खत्म कर दिया. इसे लेकर पूरे शहर में चर्चाएं हैं. इसका वीडियो सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हो रहा है. रविवार को सांसद डॉक्टर एसटी हसन स्वतंत्रता दिवस के कार्यक्रम के लिए गलशहीद पार्क में पहुंचे थे. यहां आयोजित कार्यक्रम में सांसद ने झंडारोहण किया. इसके बाद जैसे ही राष्ट्रगान शुरू हुआ, उनके साथ खड़े लोग राष्ट्रगान गाना ही भूल गए.

सांसद भी राष्ट्रगान शुरू होने के बाद जैसे ही दूसरी पंक्ति आई वहां अटक गए. इस दौरान उनके लिए असहज स्थित‍ि हो गई. उन्होंने सीधा धीरे-धीरे जय हे… जय हे… बोलना शुरू किया. बाकी लोगों ने भी सुर में सुर मिला के तुरंत राष्ट्रगान खत्म कर दिया. इसके बाद सांसद डॉ. एसटी हसन कार्यक्रम खत्म करके चले गए. सांसद के साथ हुए इस वाकये पर लोग चुटकी ले रहे हैं. सवाल यह है कि सांसद और देश को चलाने वाले लोग ही राष्ट्रगान भूल जाएंगे तो आम लोगों तक इसका क्या संदेश जाएगा.

मामला सामने आने के बाद सपा सांसद डॉक्टर एसटी हसन ने देर रात सोशल मीडिया पर सफाई दी और वीडियो के अंत में राष्ट्रगान भी सुनाया है. सांसद ने कहा कि आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर जश्न में मुझे इस कार्यक्रम में चीफ गेस्ट बनाया गया था, लेकिन वहां राष्ट्रगान गाने वाली दूसरी टीम थी. जिन्होंने गाते समय कुछ गड़बड़ी कर दी, मैंने टोका भी था, उसके बाद पीछे खड़े लोगों ने राष्ट्रगान पूरा किया और हम वहां से चले गए. इसके बारे में लोगों ने ये फैला दिया कि मैं राष्ट्रगान भूल गया. मेरी याददाश्त कमजोर नहीं है,बचपन से राष्ट्रगान पढ़ता आ रहा हूं.

(रिपोर्ट- फ़रीद शम्सी)

Moradabad News: तेज रफ्तार डबल डेकर बस 20 फीट गहरी खाई में पलटी, 21 घायल

Moradabad: 20 फ़ीट गहरी खाई में पलटी डबल डेकर बस

Moradabad Road Accident: घायल यात्रियों ने बताया कि वे सीतापुर से आ रही बस में बरेली से सवार हुए थे. बस तेज गति से चल रही थी. रास्ते में बस का चालक बदला गया था. चालक बदलने के थोड़ी देर बाद ही बस अचानक सड़क पर लगे क्रैश बैरियर से टकरा गई और उसे तोड़ते हुए नीचे खाई में जाकर पलट गई.

SHARE THIS:

मुरादाबाद. दिल्ली-लखनऊ नेशनल हाईवे नंबर-9 (Delhi-Lucknow NH-9) पर एक तेज रफ्तार डबल डेकर निजी बस (Bus Accident) अनियंत्रित होकर क्रैश बैरियर को तोड़ती हुई 20 फीट गहरी खाई में पलट गई. मंगलवार देर रात अचानक हुए इस हादसे की जानकारी वहां से गुजर रहे दूसरे वाहन सवारों ने घटनास्थल से थोड़ी दूरी पर ही स्थित नेशनल हाईवे के टोल प्लाजा पर जाकर दी. हादसे की सूचना मिलते ही टोल प्लाजा के अधिकारियों ने इसकी जानकारी मुरादाबाद पुलिस को दी. बस हादसे की सूचना मिलते ही मुरादाबाद पुलिस के अधिकारी के साथ ही स्वास्थ विभाग, फायर ब्रिगेड, परिवहन विभाग के अधिकारी भी घटनास्थल पर पहुंच गए और वहां पलटी हुई बस में सवार 100 से ज्यादा यात्रियों को जैसे-तैसे बस से निकाला. मौके पर 5 एंबुलेंस से घायलों को मुरादाबाद और रामपुर के जिला अस्पताल भेजा गया. गंभीर रूप से घायल 19 यात्रियों को अस्पताल में भर्ती कर लिया गया है. दो यात्रियों की नाजुक हालत देखते हुए उन्हें हायर सेंटर के लिए रेफर कर दिया गया.

घायल यात्रियों ने बताया कि वे सीतापुर से आ रही बस में बरेली से सवार हुए थे. बस तेज गति से चल रही थी. रास्ते में बस का चालक बदला गया था. चालक बदलने के थोड़ी देर बाद ही बस अचानक सड़क पर लगे क्रैश बैरियर से टकरा गई और उसे तोड़ते हुए नीचे खाई में जाकर पलट गई. हादसे के बाद मौके चीख़ पुकार मच गई. सड़क से नीचे गड्ढे में भरे पानी में बस पलटने से यात्रियों ने बस की सीट पानी मे डालकर उनके सहारे बाहर निकले। बस यात्रियों का सामान जहां तहां पड़ा नज़र आ रहा था. सबको ही अपनी जान बचाने की फ़िक्र थी. यात्री अपना सामान ऐसे ही छोड़कर चले गए. हादसे की जगहा पर सबसे पहले पहुंचे एनएचआई के टोल मैनेजर दिग्विजय सिंह ने सभी घायलों को अस्पताल भिजवाया.

बस में सवार थे 100 से ज्यादा यात्री
पुलिस और परिवहन विभाग की लापरवाही के चलते अवैध रूप से निजी डबल डेकर बस उत्तर प्रदेश की सड़कों पर खुलेआम दौड़ रही हैं और आम लोगों की जान को खतरे में डाल रही हैं. बाराबंकी में हुए दर्दनाक हादसे को अभी लोग भूले भी नहीं हैं, उसके बाद अब दिल्ली लखनऊ नेशनल हाईवे पर मुरादाबाद के पास यह दर्दनाक हादसा हो गया. गनीमत यह रही कि हादसे में किसी की जान नहीं गई. 100 से ज्यादा यात्री इस बस में सवार थे और 19 यात्री गंभीर रूप से घायल हुए. अगर गड्ढे में ज्यादा पानी भरा होता तो बस उसमें आधी से ज्यादा डूब जाती और फिर इस हादसे में कई लोगों की जान भी जा सकती थी. मुरादाबाद के पुलिस अधीक्षक नगर अमित आनंद के मुताबिक़ बस पलटने से घायल 21 यात्रियों में से 7 को रामपुर  12 को मुरादाबाद के ज़िला अस्पताल में भर्ती कराया गया है. दो यात्रियों की नाज़ुक हालत देखते हुये उन्हें हायर सेंटर रेफर किया गया है.

(रिपोर्ट: फरीद शम्सी)

सतीश चन्द्र मिश्रा का बड़ा ऐलान- BSP नहीं करेगी गठबंधन, अकेले लड़ेगी 2022 में चुनाव

UP: अमरोहा में सतीश चन्द्र मिश्रा बोले- BSP किसी भी पार्टी से नहीं करेगी गठबंधन (File photo)

Amroha News: प्रबुद्ध सम्मेलन को संबोधित करते हुए सतीश चन्द्र मिश्रा (Satish Chandra Mishra) ने कहा कि भाजपा ने विज्ञापन के जरिए विकास किया. 300 करोड़ रुपये केवल अपने विज्ञापनों में खर्च किया. इस दौरान बसपा महासचिव ने सपा और भाजपा पर जमकर निशाना साधा.

SHARE THIS:

अमरोहा. यूपी में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव (UP Elections 2022) में को लेकर बहुजन समाज पार्टी (BSP) ने तैयारी शुरू कर दी है. इसी कड़ी में सोमवार को ब्राह्मण प्रबुद्ध सम्मेलन में शामिल होने अमरोहा पहुंचे बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चन्द्र मिश्रा (Satish Chandra Mishra) ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव में बसपा किसी भी पार्टी से गठबंधन नहीं करेगी, उन्होंने कहा कि बीएसपी अकेले 2022 में चुनाव लड़ेगी. इस दौरान बसपा महासचिव ने सपा और भाजपा पर जमकर निशाना साधा. सतीश चन्द्र मिश्रा ने कहा कि दोनों पार्टियों ने ब्राह्मणों को नकारा है.

उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार ब्राह्मण और दलितों का अपमान कर रही है. प्रबुद्ध सम्मेलन को संबोधित करते हुए सतीश चन्द्र मिश्रा ने कहा कि भाजपा ने विज्ञापन के जरिए विकास किया. जहां 300 करोड़ रुपये केवल अपने विज्ञापनों में खर्च किया. उन्होंने कहा कि ब्राह्मण और दलितों के साथ इस बार बसपा की सरकार बनेगी. इस दौरान बड़ी संख्या में अमरोहा और संभल के बसपा कार्यकर्ता मौजूद रहे.

15 साल पहले बने थे मुस्लिम, 18 लोगों ने अपनाया हिंदू धर्म, बोले- घर वापसी हुई

इससे पहले बरेली में संतीश चन्द्र मिश्रा ने कहा कि हमने अयोध्या में जाकर देखा तो असलियत सामने आ गई. पता चला कोई भी विकास अयोध्या में नहीं हुआ. भाजपा ने कहां सोने की भगवान राम की नगरी बनाई? 250 करोड़ लग गए पर पता नहीं कहां लग गए? हम जब अयोध्या गए तो सवाल खड़े कर दिए कि ये क्यों गए. क्या इन्होंने ही श्रीराम का ठेका ले रखा है? 1993 से लेकर भगवान राम को लेकर कितने लाख करोड़ रुपये चंदा इकट्ठा किया. और अगर इकट्ठे कर लिए थे तो फिर अब हर घर में झोला लेकर चंदा लेने के लिए क्यों भेज दिया? रामलला को वो वोट की वस्तु बनाकर रखना चाहते हैं. इनकी ठेकेदारी खत्म करने का समय आ गया है.

Tokyo Olympic: इस आर्टिस्ट ने 'गोल्डन ब्वॉय' नीरज चोपड़ा के लिए कोयले से बनाया भव्य पोर्ट्रेट

UP: इस आर्टिस्ट ने 'गोल्डन ब्वॉय' नीरज चोपड़ा के लिए कोयले से बनाई भव्य पोर्ट्रेट

नीरज (Neeraj) से गोल्ड की उम्मीद पूरा देश लगाए बैठा था और उन्होंने निराश भी नहीं किया और भारत की झोली में गोल्ड मेडल (Gold Medal) डालकर सभी देशवासियों का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया.

SHARE THIS:

अमरोहा. टोक्यो ओलिंपिक (Tokyo Olympic 2021) का जिक्र जब भी होगा, भारत के ‘गोल्डन ब्वॉय’ नीरज चोपड़ा का नाम सबसे पहले लिया जाएगा. ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीतकर भारत का नाम रोशन करने वाले नीरज चोपड़ा को बधाई देने के लिए अमरोहा (Amroha) के युवा आर्टिस्ट जु़हेब खान ने दीवार पर कोयले से नीरज चोपड़ा की 6 फिट की भव्य पोर्ट्रेट बनाकर मुबारकबाद दी.

बता दें कि अमरोहा के युवा चित्रकार जुहेव खान लगातार किसी ना किसी बड़े हस्तियों की उपलब्धि पर अनोखे अंदाज में उन्हें बधाई देते चले आ रहे हैं. आज उन्होंने नीरज चोपड़ा के गोल्ड जीतने पर उनको बधाई देने के लिए 6 फिट लंबा पोर्ट्रेट कोयले से दीवार पर बनाया और उनको बधाई दी. उन्होंने कहा, ‘हमारे लिए फक्र की बात है कि भारत ने ओलंपिक में गोल्ड जीता है.’

Sawan 2021: जब 8 लाख की ‘जमानत’ पर लौटे महादेव, जानिए कासगंज के इस मंदिर का रहस्य

नीरज से गोल्ड की उम्मीद पूरा देश लगाए बैठा था और उन्होंने निराश भी नहीं किया और भारत की झोली में गोल्ड मेडल डालकर सभी देशवासियों का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया. नीरज ऐसे ही गोल्डन ब्वॉय नहीं बने, इसके पीछे संघर्ष की एक लंबी कहानी है. गोल्ड मेडल जीत करोड़ों रुपये का ईनाम पाने वाले नीरज के पास एक समय 1.5 लाख रुपये का जैवलिन खरीदने का भी पैसा नहीं था, ना ही कोच रखने का. उन्होंने इन कमियों को अपनी मेहनत से पूरा किया और ओलंपिक खेलों में भारत को एथलेटिक्स पहला गोल्ड मेडल दिलाया.

2008 में अभिनव बिंद्रा ने रचा था इतिहास
बता दें कि 13 वर्ष पहले अभिनव बिंद्रा ने मीटर एयर रायफल स्पर्धा में भारत को गोल्ड मेडल दिलाकर इतिहास रचा था. वह 11 अगस्त 2008 को बीजिंग ओलिंपिक खेलों की व्यक्तिगत स्पर्धा में स्‍वर्ण पदक जीतकर व्‍यक्तिगत स्‍वर्ण पदक जीतने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बने थे.

UP News: अमरोहा में अपहरण के बाद मंगेतर ने युवती से किया दुष्कर्म, 6 लोगों के खिलाफ FIR

UP News: अमरोहा में अपहरण के बाद मंगेतर ने युवती से किया दुष्कर्म (सांकेतिक तस्वीर)

सीओ सिटी (CO City) सतीश पांडेय ने बताया कि पीड़िता की शिकायत पर मंगेतर सहित 6 लोगों पर अपहरण और दुष्कर्म (Rape) सहित कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है.

SHARE THIS:

अमरोहा. उत्तर प्रदेश के अमरोहा (Amroha) जिले में रविवार को युवती के साथ बंधक बनाकर दुष्कर्म (Rape) का मामला सामने आया है. पीड़िता के मुताबिक ढाई महीने पहले बैंक में रुपये जमा करने निकली युवती का उसके मंगेतर ने अपने परिजनों के साथ मिलकर अपहरण कर लिया. संभल के एक धार्मिक स्थल में जबरन शादी की. कई दिनों तक कमरे में बंधक बनाकर मंगेतर ने दुष्कर्म किया. इस दौरान पीड़िता गर्भवती हो गई. आरोपी तीन दिन पहले पीड़िता को गांव के बाहर छोड़कर फरार हो गए. पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने मंगेतर सहित परिवार के 6 लोगों पर एफआईआर दर्ज की है. फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है.

बता दें कि डिडौली कोतवाली क्षेत्र के एक गांव में किसान की बेटी 24 मई को जोया स्थित एक बैंक में रुपये जमा करने गई थी. आरोप है कि जैसे ही युवती टेंपो से उतरी, तभी संभल के आलम सराय निवासी मंगेतर ने अपने परिजनों के साथ मिलकर उसका अपहरण कर लिया. संभल ले जाकर एक धार्मिक स्थल में जबरन शादी की. कमरे में बंधकर बनाकर मंगेतर ने दुष्कर्म किया. कई दिन उसे घर में बंधक बनाकर रखा. 4 अगस्त की सुबह आरोपी मारपीट कर पीड़िता को गांव के बाहर छोड़ कर फरार हो गए.

Ayodhya News: पाकिस्‍तान में मंदिर तोड़े जाने से संतों में उबाल, PM इमरान खान का जलाया पोस्टर

सीओ सिटी सतीश पांडेय ने बताया कि पीड़िता की शिकायत पर मंगेतर सहित 6 लोगों पर अपहरण और दुष्कर्म सहित कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है. उन्होंने बताया कि मामले की जांच की जा रही है. जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा. पीड़ित युवती को मेडिकल परीक्षण के लिए भेजा जा रहा है. बताया जा रहा है कि आरोपी घटना के बाद से फरार है. जिनकी तलाश में पुलिस की टीम दबिश दे रही है.

मुरादाबाद: पॉश कॉलोनी में 81 परिवारों ने लगाए 'मकान बिकाऊ है' के पोस्टर, ये है बड़ी वजह

मुरादाबाद की लाजपत नगर शिव विहार कॉलोनी के 81 परिवारों ने लगाए मकान बिकाऊ कर पलायन के पोस्टर

Muradabad News: मुरादाबाद की लाजपत नगर शिव विहार कॉलोनी में रहने वाले 81 परिवारों ने सामूहिक रूप से अपने मकान बिकाऊ कर पलायन के पोस्टर लगा दिए. कॉलोनी में रहने वाले लोगों का आरोप है कि कॉलोनी के दोनों मुख्य गेट पर बने मकानों को विशेष समुदाय के व्यक्तियों द्वारा 3 गुना अधिक कीमत देकर खरीद लिया गया है.

SHARE THIS:

फरीद शम्शी. 

मुरादाबाद. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुरादाबाद (Moradabad) स्थित थाना कटघर इलाके की एक कॉलोनी में पलायन करने के पोस्टर लगा दिए गए हैं. लाजपत नगर शिव विहार कॉलोनी में रहने वाले 81 परिवारों ने सामूहिक रूप से अपने मकान बिकाऊ कर पलायन के पोस्टर लगा दिए. कॉलोनी में रहने वाले लोगों का आरोप है कि कॉलोनी के दोनों मुख्य गेट पर बने मकानों को विशेष समुदाय के व्यक्तियों द्वारा 3 गुना अधिक कीमत देकर खरीद लिया गया है. अब यह विशेष समुदाय के लोग यहां मांसाहारी खाना खाकर उसके अवशेष कॉलोनी के आसपास डाल देंगे, जिससे कॉलोनी में गंदगी होगी. कॉलोनी में सभी लोग शाकाहारी खाना खाने वाले हैं.

मुरादाबाद के लाजपत नगर जैसी पॉश कॉलोनी में अक्सर लोग मकान खरीदते-बेचते रहते हैं. इस कॉलोनी में सभी समुदाय के लोगों के मकान हैं. इसी कॉलोनी से जुड़ी दूसरी कॉलोनी शिव विहार के कॉर्नर पर बना एक मकान दूसरे समुदाय के व्यक्ति द्वारा खरीद लिया गया, जिसके बाद कॉलोनी में रहने वाले लोगों ने विशेष समुदाय के व्यक्ति द्वारा खरीदे गए मकान की रजिस्ट्री कैंसिल कराने की मांग को लेकर कॉलोनी के गेट पर सामूहिक पलायन के पोस्टर बैनर लगा दिए हैं. पोस्टर बैनर लगाने वाले लोगों का कहना है कि वह साफ-सुथरा रहते हैं और दूसरे समुदाय के लोग उनकी तरह नहीं रह सकते. वह शाकाहारी खाना खाते हैं और दूसरे समुदाय के लोग मांसाहारी खाना खाते हैं. वह यहां गंदगी करेंगे. इसीलिए वह यह मांग कर रहे हैं या तो सरकार और जिला प्रशासन दूसरे समुदाय के व्यक्ति द्वारा खरीदे गए मकान की रजिस्ट्री कैंसिल करें या फिर वह अपनी कॉलोनी के 81 मकान सामूहिक रूप से बेचकर कहीं और जाने के लिए मजबूर होंगे.

कॉलोनी के लोगों का आरोप है कि 50 लाख का मकान 3 करोड़ में ख़रीदा जा रहा है. सरकार जांच करे कि आख़िर इनके पास इतना पैसा कहां से आ रहा है. पलायन करने के पोस्टर लगाने वालों का कहना है कि हम लोगों ने आपस में ही तय किया है कि अगर एक एक दो दो करके मकान बेचेंगे तो कम पैसा मिलेगा. इसीलिए वह सब एक साथ कॉलोनी के मकान बेचने के लिए मजबूर हैं, ताकि उन्हें इसके अच्छे पैसे मिल जाएं और वह कहीं और जाकर रहने लगें.

कॉलोनी में रहने वाले पाकिस्तान से आए शरणार्थी गौरव चड्ढा का कहना है कि वह पाकिस्तान छोड़कर हिंदुस्तान आए थे और अब इस कॉलोनी का माहौल बिगड़ रहा है. मुरादाबाद के लाजपत नगर जैसी पॉश कॉलोनी में लगा यह पोस्टर कहीं आने वाले 2022 के विधानसभा चुनाव में किसी भी राजनीतिक पार्टी का मुद्दा न बन जाए.

UP के डिप्टी CM का प्रियंका गांधी पर 'प्रहार', कहा- चुनाव को देख पर्यटन यात्रा पर निकलीं

डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने आगामी यूपी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर अपनी पार्टी और सरकार के विरोधियों पर जमकर हमला बोला

Uttar Pradesh News: उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने प्रियंका गांधी का नाम न लेते हुए कहा कि कुछ नेता हैं जो चुनाव से तीन-चार महीने पहले अपनी राजनीतिक पर्यटन यात्रा पर निकलते हैं. उनका पॉलिटिकल टूर अपनी राजनीतिक आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए होता है. वो धरातल पर नहीं रहते हैं, उनमें जनता के प्रति जानकारी का अभाव होता है. लेकिन समय-समय पर ट्वीट जरूर करते हैं

SHARE THIS:

(फरीद शम्सी)

मुरादाबाद. उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा (Dinesh Sharma) ने विपक्ष पर जमकर निशाना साधा है. शनिवार को मुरादाबाद (Moradabad) में एक निजी यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में शामिल होने पहुंचे दिनेश शर्मा ने कांग्रेस की महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) के एक ट्वीट पर बिना नाम लिए कहा कि कुछ लोगों का पर्यटन टूर शुरू हो चुका है, और वो घर में बैठकर ट्वीट करते रहते हैं. उन्होंने कहा कि कुछ नेता हैं जो चुनाव से तीन-चार महीने पहले अपनी राजनीतिक पर्यटन यात्रा पर निकलते हैं. उनका पॉलिटिकल टूर अपनी राजनीतिक आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए होता है. वो धरातल पर नहीं रहते हैं, उनमें जनता के प्रति जानकारी का अभाव होता है. लेकिन समय-समय पर ट्वीट जरूर करते हैं.

डिप्टी सीएम ने विभिन्न पार्टियों द्वारा आयोजित की जा रही ब्राम्हणवाद रैली पर कटाक्ष करते हुए कहा कि इन लोगों (एसपी और बीएसपी) ने अपने अपने शासनकाल में जाति विशेष के साथ अन्याय किया था, उनके लिए आज उनका प्रेम झलक रहा है. इसलिए यह प्रेम नहीं है. यह इनका पश्चाताप सम्मेलन है जो इनकी अपनी करनी थी यह उस पर पश्चाताप करने का प्रलाप कर रहे हैं. जनता इनके बहकावे में आने वाली नहीं है.

दिनेश शर्मा ने कहा कि उत्तर प्रदेश को बंगाल और हैदराबाद मॉडल बनाने की सोचने वाले ऐसा भूल जाएं, उत्तर प्रदेश अगर बनेगा तो मोदी और योगी मॉडल बनेगा. विपक्ष के लोगों को खास तौर से और ऐसे नेत्री (ममता बनर्जी) ने बयान दिया है जो कहते हैं उत्तर प्रदेश में वो बंगाल मॉडल आएंगे. कौन सा मॉडल है बंगाल का. उन्होंने कहा कि बंगाल का वो मॉडल है जहां पर लोगों की हत्या हो रही है. महिलाओं के साथ खुलेआम अत्याचार हो रहा है. दुकानों को लूटा जा रहा है. पुलिस के संरक्षण में घरों को जलाया जा रहा है. इसलिए उत्तर प्रदेश में ना तो हैदराबादी मॉडल आएगा. न आपका बंगाल वाला मॉडल आएगा. उत्तर प्रदेश में केवल एक ही मॉडल आएगा वो है योगी-मोदी जी का विकास का मॉडल और वही चलेगा.

मुनव्वर राणा के बयान पर BJP का पलटवार, योगी के मंत्री बोले- पूरी तरह सुरक्षित है UP

चौधरी भूपेंद्र सिंह ने मुन्नवर राणा पर साधा निशाना.

UP Politics: भूपेंद्र सिंह चौधरी (Chaudhary Bhupendra Singh) का कहना है कि मुन्नवर राणा (Shayar Munawar Rana) किसी भी देश की नागरिकता ले सकते हैं. लेकिन राजनीतिक बयानबाजी न करें.

SHARE THIS:
Fareed Shamshi

मुरादाबाद. उत्तर प्रदेश सरकार में पंचायत राज मंत्री चौधरी भूपेंद्र सिंह (Chaudhary Bhupendra Singh) ने मशहूर शायर मुनव्वर राणा (Munnavar Rana) के उस बयान पर पलटवार किया है जिसमें मुनव्वर राणा ने न्यूज़ 18 से बात करते हुए कहा था कि अगर 2022 में असदुद्दीन ओवैसी के साथ मिलकर भारतीय जनता पार्टी की सरकार में योगी आदित्यनाथ दोबारा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बनते हैं तो वह उत्तर प्रदेश छोड़ देंगे और मान लेंगे उत्तर प्रदेश मुसलमानों के लिए अब यह सुरक्षित नहीं है. चौधरी भूपेंद्र सिंह ने कहा कि मुनव्वर राणा का यह बयान राजनीतिक बयान है और वह राजनीति से प्रेरित होकर यह बयान दे रहे हैं. उत्तर प्रदेश पूरी तरह से सुरक्षित है और अपराधियों खिलाफ यहां पर सख्त कार्रवाई की जा रही है.



भूपेंद्र सिंह चौधरी ने कहा,'मुनव्वर राणा देश के बड़े शायर हैं.  इस तरह से बयान कहीं न कहीं राजनीति से प्रेरित है,और उनकी राजनीतिक दलों के प्रति प्रतिबद्ध रही है. जिस तरह का उनका बयान है उस बयान में कहीं न कहीं राजनीति झलकती है. उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी के नेतृत्व में सरकार चल रही है. देश प्रदेश के सभी नागरिकों को सुरक्षा उनके मान-सम्मान, माता बहनों की सुरक्षा पर सरकार ने प्रभावी कदम उठाए हैं. उसका परिणाम भी देखने को मिला है. आपने देखा होगा जिस प्रकार से उत्तर प्रदेश में अपराध कम हुआ है वह आंकड़े सबके सामने हैं. मुख्यमंत्री के प्रयास से अपराधियों के खिलाफ जिस प्रकार से कार्रवाई हुई है उस कार्रवाई से प्रदेश में अमन-चैन, शांति है. अगर मुनव्वर राणा को यह लगता है प्रदेश में शांति व अमन चैन क़ायम नहीं रहना चाहिए तो वह कुछ भी कर सकते हैं स्वतंत्र हैं, लेकिन मेरा अपना कहना यह है वह जिस तरह का बयान दे रहे हैं वह बयान राजनीतिक है और इसके पीछे कहीं न कहीं राजनीतिक दलों की सोच है'.

असदुद्दीन ओवैसी पर साधा निशाना

भूपेंद्र सिंह चौधरी ने कहा, 'असदुद्दीन ओवैसी का एजेंडा राजनीतिक एजेंडा है. वे जिस तरीके के बाबर की और औरंगजेब की जिन्ना की सोच को लेकर आगे बढ़ा रहे हैं वह भी सर्वविदित है. मुझे ऐसा लगता है कि कहीं न कहीं जो उनका बयान है उस बयान में वह जो हमारे साथ भारतीय जनता पार्टी के साथ असदुद्दीन ओवैसी को जोड़कर देख रहे हैं वह बिल्कुल गलत है. वैचारिक रूप से हमारा और इस तरह की राजनीति करने वाले, देश समाज को तोड़ने वाले ओवैसी के साथ हमारा कोई मतलब नहीं है.'

भूपेंद्र सिंह चौधरी ने कहा ,' मुनव्वर  राणा सा स्वतंत्र हैं. वह देश के नागरिक हैं, कहीं भी जा सकते हैं. लेकिन वह इस तरह के राजनीतिक बयान न दें. साहित्य जगत में वह शायर हैं ,उनका सम्मान है. लेकिन अगर वह राजनीतिक बयान देंगे तो निश्चित रूप से प्रदेश में उनकी प्रतिष्ठा कम होगी.'

सपा सांसद ने असदुद्दीन ओवैसी को किया चैलेंज, बोले- अगर हिम्मत है तो ये कहकर दिखाएं...

UP: मुरादाबाद में सपा के धरना प्रदर्शन के दौरान सांसद एसटी हसन ने एआईएमआईएम पर अहम बयान दिया है.

Moradabad News: मुरादाबाद में सपा सांसद डॉ एसटी हसन ने AIMIM के यूपी चुनाव लड़ने की बात पर कहा कि यह सिर्फ वोट काटने वाली पॉलिटिक्स है. बिहार में जरूर असदुद्दीन ओवैसी को मुसलमानों ने चुनाव जिताया था लेकिन बंगाल के मुसलमानों ने सबक लेते हुए उन्हें चुनाव में नकार दिया.

SHARE THIS:
फरीद शम्सी

मुरादाबाद. उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद (Moradabad) में समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के धरना प्रदर्शन के दौरान सपा सांसद डॉ एसटी हसन (MP Dr ST Hasan) ने उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में एआईएमआईएम (AIMIM) के 100 सीटों पर चुनाव लड़ने के मामले में असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) पर कटाक्ष किया. उन्होंने कहा कि यह सिर्फ वोट काटने वाली पॉलिटिक्स है. बंगाल के मुसलमानों ने वहां के चुनाव में असदुद्दीन ओवैसी को नकार दिया था. बिहार में ज़रूर असदुद्दीन ओवैसी को मुसलमानों ने चुनाव जिताया था लेकिन असदुद्दीन ओवैसी के बिहार चुनाव से बंगाल के मुसलमानों ने सबक़ लेते हुए उन्हें चुनाव में नकार दिया. इसी तरह उत्तर प्रदेश के मुसलमान भी असदुद्दीन ओवैसी को नकार देंगे. उन्होंने कहा कि असदुद्दीन ओवैसी की इमेज क्या है? सबको पता है.

सपा सांसद एसटी हसन ने कहा, “अगर असदुद्दीन ओवैसी उत्तर प्रदेश में चुनाव लड़ना चाहते हैं तो मैं उनसे कहना चाहूंगा कि अगर उनका कोई कैंडिडेट किसी सीट पर हार रहा है तो सीने पर हाथ रखकर लोगों से ऐलान करके यह बात कह दें कि उस उम्मीदवार को जिताओ, जो भारतीय जनता पार्टी को हरा रहा हो. अगर हिम्मत है तो औवेसी कहकर दिखाएं. वो सिर्फ वोट काटने के लिए उत्तर प्रदेश में आ रहे हैं.”



समाजवादी पार्टी के सांसद मुरादाबाद के तहसील परिसर के आगे समाजवादी पार्टी के महंगाई और किसानों की समस्याओं को लेकर दिए जा रहे धरने को संबोधित कर रहे थे. सपा सांसद ने केंद्र सरकार के ऊपर भी नाइंसाफी और ज़ुल्म की इंतेहा पार करने के आरोप लगाए. सपा सांसद ने आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी सिर्फ हिंदू-मुसलमानों को आपस में लड़ाकर वोट हासिल करने की साजिशें करती है लेकिन अब भारत के हिंदू और मुसलमान जाग चुके हैं. अब वह इन ताकतों को उखाड़ फेंकने के लिए तैयार हैं.

एसटी हसन ने कहा, “देखिए आप सबको मालूम है आज समाजवादी पार्टी का सारे ही तहसील मुख्यालय पर प्रदर्शन हुआ है, वह प्रदर्शन इसलिए हुआ है कि जो सरकार हमारे ऊपर मुहैय्या की गई है उसने नाइंसाफियों और जुल्म की उसने इंतिहा पार कर ली है. सारी सीमाएं पार हो चुकी हैं. पिछले इलेक्शन में आपने देखा किस तरह से वोटों की लूट मचाई है. किस तरह से खरीदारी हुई हैं, कैसे पुलिस और प्रशासन का इस्तेमाल करके लोगों को किडनैप किया गया है. महंगाई कहां से कहां पहुंच गई है. आपने देखा पेट्रोल और डीजल 100 के पार जा रहे हैं, जबकि पूरी दुनिया में हमसे ज्यादा महंगा कोई पेट्रोल और डीजल कोई नहीं खरीद रहा, जितना हिंदुस्तान वाले खरीद रहे हैं. गैस के हालात सबको पता हैं, दोगुने रेट हो गए हैं. कोई कहने वाला नहीं है.”

उन्होंने कहा कि 8 महीने से किसान प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन सरकार के कानों पर जूं नहीं रेंग रही. किसान की सिर्फ एक ही तो यह मांग है कि एमएसपी गारंटी दे दो. एमएसपी देने में क्या परेशानी है? ये चाहते हैं कि किसान अपनी ज़मीन के अंदर खुद मजदूरी करें. इंशाल्लाह आने वाले चुनाव में अखिलेश यादव जी समाजवादी पार्टी के मुख्यमंत्री होने जा रहे हैं.

UP News: असदुद्दीन ओवैसी-राजभर का विधानसभा चुनाव से पहले ही टूट सकता है गठबंधन! इस वजह से पड़ी 'दरार'

असदुद्दीन ओवैसी और ओम प्रकाश राजभर ने यूपी में सरकार बनाने का दावा किया था.

UP Election News: यूपी विधानसभा चुनाव को लेकर इस वक्‍त सभी राजनीतिक दल गठबंधन की गांठ मजबूत करने के साथ रणनीति बनाने में लगे हुए हैं. इस बीच 10 पार्टियों के साथ बने भागाीदारी संकल्‍प मोर्चा के बिखरने की खबरें चर्चा में हैं. दरअसल एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (AIMIM Chief Asaduddin Owaisi) के साथ 2022 में सरकार बनाने का दावा करने वाले सुहेलदेव पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर (Om Prakash Rajbhar) ने उनसे दूरी बना ली है.

SHARE THIS:
( रिपोर्ट - फरीद शम्सी )

मुरादाबाद. उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election) में सुहेलदेव पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर (Om Prakash Rajbhar) ने एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (AIMIM Chief Asaduddin Owaisi) सहित 10 पार्टियों के साथ मजबूत गठबंधन कर पूर्ण बहुमत से सरकार बनाने का दावा किया था. हालांकि ओपी राजभर के इस गठबंधन की गांठ असदुद्दीन ओवैसी के बहराइच में जाकर गजियों की मजार पर चादरपोशी करने के बाद से ढीली पड़ती हुई नजर आ रही है. दरअसल ओवैसी की चादरपोशी के बाद कई राजनीतिक दलों के नेताओं ने ओपी राजभर से सवाल किया था कि वो राजनीतिक लाभ के लिए उनके पूर्वजों से जंग करने वाले और उन्हें शहीद करने वाले गजियों की कब्रों पर चादरपोशी करने वालो के साथ क्या अब राजभर उनके पूर्वजों को शहीद करने वालों के साथ गठबंधन करेंगे?

बहरहाल, शुरुआत में तो राजभर ने गठबंधन रखने की बात कही थी, लेकिन 15 जुलाई से पश्चिमी उत्तर प्रदेश से एआईएमआईएम के साथ ओपी राजभर के चुनावी बिगुल बजाने के साथ ही संयुक्त रूप से मंच साझा करने वाले कई जिलों के कार्यक्रम से अचानक ओपी राजभर की दूरी अब इस गठबंधन की गांठ की मजबूती पर सवाल खड़े कर रही है.

ये था राजभर और ओवैसी कार्यक्रम
दरअसल 15 जुलाई से असदुद्दीन ओवैसी के साथ ओपी राजभर का चुनावी यात्रा का गाजियाबाद से आगाज होना था. जहां से दोनों ही पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष गाजियाबाद, हापुड़, मेरठ, बुलंदशहर और संभल के पार्टी के कार्यकर्ताओं से मुलाकात के साथ ही मंच साझा करते हुए शाम 4 बजे मुरादाबाद पहुंचते. इसके बाद मुरादाबाद में भी दोनों ही पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का साझा मंच वाला कार्यक्रम तय था, लेकिन जैसे ही मुरादाबाद में असदुद्दीन ओवैसी स्वतंत्रता संग्राम सेनानी नवाब मज्जू खां की मजार पर ओपी राजभर के साथ जाकर चादरपोशी करते, वैसे अचानक सुहेलदेव पार्टी के अध्यक्ष के आज से ओवैसी के साथ शुरू हो रही अपनी चुनावी यात्रा से खुद को अलग कर लिया. हालांकि उन्‍होंने इसका कारण अपनी निजी परेशानी बताई है.

असदुद्दीन ओवैसी भर रहे दम
ओपी राजभर के साथ पहले से तय कार्यक्रम में ना आने के बाद भी एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी आज पश्चिम उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद, साहिबाबाद, हापुड़, मेरठ, गढ़मुक्तेश्वर, बुलंदशहर संभल और मुरादाबाद में अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ मुलाकात करेंगे और कई जगह पार्टी कार्यालय का उद्घाटन करेंगे.

क्‍या टूट जाएगा गठबंधन?
पहले ये माना जा रहा था कि ओपी राजभर, असदुद्दीन ओवैसी के साथ मंच साझा कर पश्चिम उत्तर प्रदेश में अपना मजबूत और बढ़ता हुआ जनाधार दिखाएंगे, लेकिन गजियों की मजार पर चादर चढ़ाने को लेकर कई पार्टियों के लोगों ने उनसे सवाल जवाब करना शुरू कर दिया था. शुरुआत में तो राजभर ने असदुद्दीन ओवैसी की इस चादरपोशी को गंभीरता से नहीं लिया था, लेकिन बाद में जब उनको एहसास होने लगा कि ओवैसी के साथ मंच साझा करने से उनकी पार्टी को उन्हीं के समाज के लोगों की नाराजगी के चलते राजनीतिक नुकसान हो सकता है, तो धीरे धीरे असदुद्दीन ओवैसी के साथ मंच साझा करने वाले कार्यक्रम से दूरी बनाना शुरू कर दी है. यही वजह है कि आज मुरादाबाद में असदुद्दीन ओवैसी के साथ मंच साझा करने के पूर्व घोषित कार्यक्रम से ओपी राजभर ने दूर रहे.

ये भी पढ़ें- Monsoon News: दिल्ली-यूपी समेत कई राज्यों में अगले 5 दिन तक होगी बारिश, राजस्थान में वज्रपात की आशंका

ओवैसी ने किया था ये दावा
असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम ने उत्तर प्रदेश की 100 सीटों पर चुनाव लड़ने का दावा किया है. वही उन्हीं जगह से चुनाव लड़ने के दावे कर रही है जहां समाजवादी पार्टी का गढ़ है. ओवैसी को यकीन है कि वह समाजवादी पार्टी के मुस्लिम वोट बैंक में सेंध लगाकर अपने उम्मीदवार को जीत दिलाने में सफल रहेंगे. वहीं, मुरादाबाद और संभल भी समाजवादी पार्टी का गढ़ माना जाता है.

भाजपा ने कसा तंज
उत्तर प्रदेश सरकार में पंचायत राज मंत्री चौधरी भूपेंद्र सिंह ने पहले ही कहा था कि यह गठबंधन की गांठ हैं ज्‍यादा देर तक टिकने वाली नहीं हैं. वहीं, उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य भी मुरादाबाद में अपने कार्यक्रम के दौरान यह कह चुके हैं कि विपक्षी कितना ही आपस में गठबंधन कर लें. 100 में 60 उनके साथ हैं, बाकी 40 में बंटवारा है और उस बंटवारे में भी कुछ हिस्सा हमारा है. यकीनन मौर्य के के दिए बयान में हकीकत साफ नजर आ रही है. लगता नहीं है कि अब यह गठबंधन की गांठे ज्यादा मजबूती से लग पाएगी.

UP News Live Updates: आज पश्चिम यूपी के मुरादाबाद में रहेंगे AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी

ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (फ़ाइल फोटो)

Uttar Pradesh Live News, july 15, 2021: एआईएमआईएम आने वाले 2022 के विधानसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश की 100 विधानसभा सीट से चुनाव लड़ने का ऐलान कर चुकी है. मुरादाबाद भी एआईएमआईएम की लिस्ट में शामिल है. पश्चिम उत्तर प्रदेश का मुरादाबाद मुस्लिम बहुल जिला माना जाता है और समाजवादी पार्टी का गढ़ भी कहा जाता है.

SHARE THIS:
मुरादाबाद. एआईएमआईएम (AIMIM) के राष्टीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) गुरुवार सुबह 9:00 बजे गाजियाबाद से हापुड़, मेरठ, बुलंदशहर, संभल के पार्टी के कार्यकर्ताओं से मिलते हुए शाम 4:00 बजे मुरादाबाद (Moradabad) पहुंचेंगे. असदुद्दीन ओवैसी मुरादाबाद के संभल रोड पर डिंगरपुर में पार्टी के लोगों से मुलाकात करेंगे. उसके बाद मुरादाबाद के गलशहीद चौराहे पर स्थित कब्रिस्तान में जाकर स्वतंत्रता संग्राम सेनानी नवाब मज्जू खां की क़ब्र पर चादर पोशी करेंगे.  एआईएमआईएम आने वाले 2022 के विधानसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश की 100 विधानसभा सीट से चुनाव लड़ने का ऐलान कर चुकी है. मुरादाबाद भी एआईएमआईएम की लिस्ट में शामिल है. पश्चिम उत्तर प्रदेश का मुरादाबाद मुस्लिम बहुल जिला माना जाता है और समाजवादी पार्टी का गढ़ भी कहा जाता है. एआईएमआईएम के यहां से चुनाव लड़ने से 2022 में बीजेपी को इसका सीधा फ़ायदा पहुंचेगा. 2017 में मुरादाबाद की 6 विधानसभा सीट में से 2 सीट पर बीजेपी चुनाव जीती थी. अब इस चुनाव में एआईएमआईएम के चुनावी मैदान में उतरने के बाद मुरादाबाद में बीजेपी के लिए चुनाव जीतना आसान नजर होता जा रहा है. मुरादाबाद में कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी अपने वोट बैंक के साथ ही अल्पसंख्यक समुदाय का बोर्ड भी जोड़ दी है, लेकिन इस बार एआईएमआईएम का उम्मीदवार चुनावी मैदान में अगर उतरता है तो अल्पसंख्यक वोट में बंटवारा होगा जिसका सीधा फायदा भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार को मिलेगा. असदुद्दीन ओवैसी 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारी को लेकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 22 जिलों में ताबड़तोड़ दौरे कर कार्यकर्ताओं से मुलाकात कर रहे हैं. मुरादाबाद के एआईएमआईएम के महानगर अध्यक्ष वक़ी रशीद का कहना है कि एआईएमआईएम से चुनाव लड़ने के लिए काफी लोग टिकट मांग रहे हैं और वो भी चुनाव लड़ना चाहते हैं. वक़ी रशीद के मुताबिक असदुद्दीन ओवैसी ने सभी टिकट की मांग करने वालों से आवेदन मांगा है जो भी चुनाव लड़ना चाहते हैं. वह अपना आवेदन पार्टी कार्यालय को दे दें, जहां से साफ छवि व जनता के बीच भारी-भरकम उम्मीदवार को टिकट देकर चुनाव जिताया जा सके.

UP Block Pramukh Chunav: मुजफ्फरनगर, अमरोहा समेत कई जिलों में BJP-SP कार्यकर्ताओं में झड़प, प्रतापगढ़ में फायरिंग

मुजफ्फनगर, अमरोहा समेत कई जिलों में BJP-SP कार्यकर्ताओं में झड़प

हंगामा कर रहे लोगों को काबू में करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा, वहीं प्रतापगढ़ में बवाल बढ़ता देख पुलिस ने कई राउंड फायर भी किए.

SHARE THIS:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में ब्लॉक प्रमुख चुनाव (Block Pramukh Chunav) के 476 पदों के लिए शनिवार को मतदान जारी है. मतदान के दौरान कुछ इलाकों से झड़पें, बवाल, और हंगामा की खबरें सामने आ रही हैं. हमीरपुर में बीजेपी और सपा के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई. जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज किया. मुजफ्फरनगर, अमरोहा, प्रतापगढ़ और लखीमपुर खीरी इलाके से हंगामे की खबरें सामने आई हैं.

लखीमपुर खीरी के सदर ब्लॉक में मतगणना स्थल पर जाने के लिए बसपा नेता मोहन वाजपेयी व उनके समर्थक गाड़ियों के काफिले संग पहुंचे. बैरियर पर मुस्तैद पुलिस ने मोहन को रोककर वापस जाने के लिए कहा, तो मोहन व उनके समर्थकों ने नारेबाजी शुरू कर दी. स्थिति तनावपूर्ण होते देख सीओ सिटी अरविंद कुमार वर्मा ने मोर्चा संभाला और उपद्रव करने का प्रयास करने वालों पर हल्का लाठीचार्ज किया. पुलिस ने मौके से दो युवकों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है.

वाराणसी ब्लॉक प्रमुख चुनाव: BDC सदस्यों के हाथ में 'हैंड बैग' बना चर्चा का केंद्र, जानिए पीछे की वजह

वहीं मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना में मतदान के दौरान भाजपा विधायक उमेश मलिक के आते ही विरोधी गुट के समर्थकों ने हंगामा किया. उमेश मलिक को वहां से चले जाने की मांग की. इसी दौरान भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत भी वहां पहुंच गए. टिकैत ने एसपी क्राइम को इमानदारी से चुनाव करवाने की बात कही.

अमरोहा में मतदान के दौरान जमकर बवाल
उधर, अमरोहा के जोया ब्लॉक प्रमुख चुनाव में मतदान के दौरान जमकर बवाल हुआ. यहां सपा औऱ बीजेपी सर्मथकों के बीच मारपीट हुई. घटना से पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया है. बता दें कि अमरोहा जनपद के जोया ब्लाक से समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता अमरोहा के विधायक पूर्व कैबिनेट मंत्री महबूब अली के भतीजे जुल्फिकार अली सपा के बैनर पर चुनाव लड़ रहे हैं जबकि बीजेपी ने पूर्व सांसद हरगोविंद सिंह के पुत्र कुशल को अपना प्रत्याशी बनाया है.

प्रतापगढ़ में कई राउंड फायरिंग
खबर प्रतापगढ़ से भी है. जिले के आसपुर देवसरा विकासखंड में ब्लॉक प्रमुख के चुनाव के दौरान सपा व पुलिस में भिड़ंत हो गई. सपा समर्थित प्रत्याशी के समर्थकों द्वारा पथराव के बाद पुलिस ने उन पर काबू पाने के लिए कई राउंड फायर किए जिसके बाद हंगामे के चलते मतदान बाधित हुआ. बताया जा रहा है कि बीडीसी सदस्य का वोट पहले से पड़ने पर सपा कार्यकर्ता भड़क गए.

सीएम योगी ने दिया कड़ी कार्रवाई का निर्देश
इसी कड़ी में सीएम योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि एक-एक विकास खंड की स्थिति पर सीधी नजर रखी जाए. विजयी और पराजित प्रत्याशियों को पुलिस निगरानी में उनके आवास तक पहुंचाने की व्यवस्था हो. उन्होंने कहा कि माहौल बिगाड़ने वाले लोगों के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति के साथ तत्काल कठोरतम कार्रवाई की जाए.

(इनपुट- मनोज शर्मा, शिव ओम शर्मा, रोहित सिंह, बिनेश पंवर)
Load More News

More from Other District