होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /इनामी गैंगस्टर का पीछा करते उत्तराखंड पहुंची यूपी पुलिस पर हमला, फायरिंग में एक महिला की मौत

इनामी गैंगस्टर का पीछा करते उत्तराखंड पहुंची यूपी पुलिस पर हमला, फायरिंग में एक महिला की मौत

Moradabad News: दबिश देने गई पुलिस टीम पर उत्तराखंड में हमला

Moradabad News: दबिश देने गई पुलिस टीम पर उत्तराखंड में हमला

Moradabad Police Team Attacked in Uttarakhand: उत्तराखंड के जनपद उधमसिंह नगर की जसपुर तहसील के कुंडा थाना इलाके में जब ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

50 हजार के इनामी बदमाश जफर का पीछा करते पहुंची थी पुलिस
पुलिस टीम को बंधक बनाकर हथियार लूटने और गोली मारने का आरोप
इस हमले में एक महिला की मौत हुई है, जबकि 6 पुलिस वाले हुए घायल

मुरादाबाद. इनामी बदमाश का पीछा करते उत्तराखंड पहुंची मुरादाबाद की पुलिस टीम को खनन माफियाओं ने घेरकर बंधक बना लिया। इतना ही पुलिस का हथियार लूटने के बाद गोलियां भी चलाई. इस गोलाबारी में एक महिला की मौत हो गई, जबकि 6 पुलिसकर्मी घायल है. एक एसओजी प्रभारी इंस्पेक्टर और एक सिपाही अभी भी लापता हैं.

दरअसल, उत्तराखंड के जनपद उधमसिंह नगर की जसपुर तहसील के कुंडा थाना इलाके में जब पुलिस व एसओजी टीम 50 हजार के इनामी गैंगेस्टर जफर का पीछा करते हुए पहुंची तो खनन माफियाओं और पुलिस के बीच हुई मुठभेड़ में कुंडा थाना इलाके की रहने वाली एक महिला गुरप्रीत सिंह की मौत हो गई. जिसके बाद अक्रोशित स्थानीय लोगों ने हंगामा करते हुए जाम लगा दिया. मुरादाबाद के डीआईजी रेंज शलभ माथुर के मुताबिक इस घटना में मुरादाबाद के 6 पुलिस वाले गंभीर रूप से घायल हुए हैं और अभी एक एसओजी प्रभारी इंस्पेक्टर और एक सिपाही लापता हैं. घटना के बाद से ही दोनों प्रदेशों की पुलिस लापता पुलिस वालों की तलाश करने में जुटी हुई है और वांछित खनन माफिया जफर की तलाश में बॉर्डर के जंगलों में कांबिंग कर रही है.

ये है मामला
13 सितंबर को मुरादाबाद के ठाकुरद्वारा थाना इलाके में जब प्रशासनिक अधिकारियों को अवैध रूप से खनन करने वाले माफियाओं की जानकारी मिली, तब इलाके के एसडीएम परमानंद सिंह और खनन विभाग के अधिकारी कार्रवाई के लिए मौके पर पहुंचे तो खनन माफियाओं ने एसडीएम और खनन विभाग की टीम पर हमला करते हुए ज़ब्त डंपर उनसे छीन लिए और फरार हो गए थे. 13 सितंबर की घटना के संबंध में कोतवाली ठाकुरद्वारा में पांच नामजद और 16 अज्ञात लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया था, जिसमें अधिकतर आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. लेकिन घटना में नामजद गैंगस्टर ज़फर पुलिस के हाथ नहीं लग पा रहा था और यूपी पुलिस ने उस पर 50 हजार रूपए का इनाम भी घोषित कर रखा था.

वांछित अपराधी जफर का पीछा करते पहुंची थी पुलिस
डीआईजी रेंज शलभ माथुर के मुताबिक़ बुधवार को मुरादाबाद पुलिस को सूचना मिली कि इलाके में 50 हजार का इनामी ज़फर छुपा हुआ है. मुरादाबाद की एसओजी टीम और ठाकुरद्वारा कोतवाली की पुलिस वांछित अपराधी ज़फर का पीछा करते हुए उत्तराखंड के कुंडा थाना इलाके में पहुंच गई. पुलिस को यहां एक ब्लॉक प्रमुख गुरतेज भुल्लर के घर में जफर के छुपे हुए होने की सूचना मिली थी. आरोप है यहां जफर और उसके साथियों ने मुरादाबाद पुलिस टीम को बंधक बना लिया और उनके हथियार छीन कर उनको गोली मार दी. घटना में मुरादाबाद पुलिस के 6 पुलिसवाले- राहुल (एसओजी सिपाही), संगम कसाना (एसओजी सिपाही), सुमित राठी (एसओजी सिपाही), शिव कुमार (एसओजी ड्राइवर), ठाकुरद्वारा थाना प्रभारी और विकास सिंह, गंभीर रूप से घायल हो गए. अभी एक इंस्पेक्टर और एक सिपाही लापता हैं. वहीं इस दबिश के दौरान हुई गोलीबारी में मौके पर गुरप्रीत नाम की एक महिला की भी मौत हुई है, जिससे आक्रोशित होकर लोगों ने जाम लगाकर घंटों हंगामा किया.

मुकदमा दर्ज
इस घटना के बाद मुरादाबाद के ठाकुरद्वारा कोतवाली में वांछित खनन माफिया जफर और उसके 30-35 अज्ञात साथियों के खिलाफ पुलिस वालों को बंधक बनाकर उनके हथियार छीनने और उन्हें गोली मारने के मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. वही महिला की हत्या के मामले में भी उत्तराखंड के कुंडा थाने में एक मुकदमा दर्ज किया गया है.

उत्तराखंड और यूपी बॉर्डर के हाईवे पर सन्नाटा पसरा
घटना के बाद से उत्तराखंड और यूपी बॉर्डर के हाईवे पर सन्नाटा पसरा हुआ है, जहां रात में हर रोज़ खनन माफियाओं के सैकड़ों डंम्पर और ट्रकों की लाइनें लगी रहती थीं आज पूरी तरह से इस सड़क पर सन्नाटा पसरा है. चप्पे-चप्पे पर पुलिस खनन माफियाओं की तलाश में लगी हुई है. फिलहाल दोनों प्रदेशों की पुलिस खनन माफियाओं पर बड़ी कार्रवाई की तैयारी में है. सभी घायल पुलिस वालों का मुरादाबाद के एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा है और आला पुलिस अधिकारी ठाकुरद्वारा कोतवाली में कैंप कर खनन माफियाओं के खिलाफ ऑपरेशन चला रहे हैं.

Tags: Moradabad News, UP latest news, UP police

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें