लाइव टीवी

2019 से पहले यूपी की दलित राजनीति में उबाल की तैयारी, भीम आर्मी का देशव्यापी आंदोलन

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 15, 2018, 12:40 PM IST
2019 से पहले यूपी की दलित राजनीति में उबाल की तैयारी, भीम आर्मी का देशव्यापी आंदोलन
भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद (फाइल फोटो)

चंद्रशेखर ने बताया कि भीम आर्मी 2 अप्रैल को भारत बंद के दौरान हुई हिंसा के आरोप में जेल बंद पार्टी कार्यकर्ताओं, सदस्यों और दलित नेताओं की रिहाई के लिए देशव्यापी आंदोलन करने जा रही है.

  • Share this:
2019 के लोकसभा चुनाव से पहले यूपी की दलित राजनीति में एक बार फिर उबाल लाने की तैयारी है. इसके लिए तारीख बाबरी विध्वंस यानी 6 दिसंबर की चुनी गई है. भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद ने जेल में बंद पार्टी पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं और सदस्यों की रिहाई को लेकर 6 दिसंबर से देशव्यापी आंदोलन का ऐलान किया है. माना जा रहा है कि इस आंदोलन से एक बार फिर से दलित राजनीति को गर्माने की तैयारी है.

चंद्रशेखर ने बताया कि भीम आर्मी 2 अप्रैल को भारत बंद के दौरान हुई हिंसा के आरोप में जेल बंद पार्टी कार्यकर्ताओं, सदस्यों और दलित नेताओं की रिहाई के लिए देशव्यापी आंदोलन करने जा रही है. यह घोषणा उन्होंने बुधवार को मुजफ्फरनगर में की. उन्होंने कहा कि रिहाई न होने पर 6 दिसंबर से आंदोलन शुरू किया जाएगा.

दरअसल, सुप्रीम कोर्ट द्वारा एससी-एसटी एक्ट में किए गए संशोधन के विरोध में दो अप्रैल को दलित संगठनों द्वारा आहूत भारत बंद के दौरान व्यापक हिंसा हुई थी. इस दौरान कई जगह दुकानें बंद कराने को लेकर दलितों का व्यापारियों से टकराव होने के साथ ही पथराव की घटनाएं हुईं थीं. वहीं, बवालियों को हिरासत में लिए जाने से भड़की भीड़ ने नई मंडी कोतवाली पर ही सीधा हमला कर दिया था, जिसमें दर्जनों वाहन फूंक डाले गए थे. बवाल में एक युवक की गोली लगने से मौत भी हुई थी/ मामले में पुलिस ने कड़ी कार्रवाई करते हुए भीम आर्मी व उससे जुड़े दलित संगठनों के कई पदाधिकारियों समेत अन्य सदस्यों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. इनमें से अधिकांश अभी भी सलाखों के पीछे हैं.

मंगलवार को भीम आर्मी के अध्यक्ष चंद्रशेखर ने गुपचुप तरीके से जिला कारागार पहुंचकर वहां बंद दलित नेता उपकार बावरा समेत अन्य दलित पदाधिकारियों से मुलाकात की थी. इसके बाद बुधवार को भीम आर्मी के योगेश कुमार, राजन गौतम, बिजेंद्र गौतम, रोहित गौतम, अनुराग बावरा, विनीत, अजय व प्रवेश ने गांव अल्मासपुर में आयोजित पत्रकार वार्ता में जेल में बंद दो अप्रैल के बवाल के आरोपियों को बेकसूर बताते हुए उनकी जल्द से जल्द जेल से रिहाई किए जाने की मांग की.

ये भी पढ़ें:

छत्तीसगढ़ के दंगल में यूपी के दिग्गज, सीएम योगी, अखिलेश और मायावती छोड़ेंगे शब्दों के बाण

पाकिस्तानी WhatsApp ग्रुप का एडमिन था बागपत का ये शख्स, डाल रहा था एंटी इंडिया पोस्ट
Loading...

पुलिसकर्मी को गोली मारने वाले ने जेल में मनाई दीपावली, व्हाट्सऐप से शेयर किए फोटो

दहशत में परिवारः पिछले 3 वर्षों में मासूम को अब तक 11 बार डस चुका है सांप

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मुजफ्फरनगर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 15, 2018, 12:40 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...