लाइव टीवी

कैराना लोकसभा सीट: क्या 2019 में 'चबूतरा' बनाम 'चौपाल' का होगा मुकाबला?

News18Hindi
Updated: April 10, 2019, 3:44 PM IST
कैराना लोकसभा सीट: क्या 2019 में 'चबूतरा' बनाम 'चौपाल' का होगा मुकाबला?
तबस्सुम हसन और मृगांका सिंह

हुकुम सिंह के निधन के बाद उपचुनाव में बीजेपी का इस सीट पर इमोशनल कार्ड नहीं चल पाया. उपचुनाव से पहले और विधानसभा चुनाव के दौरान कैराना में पलायन के मुद्दे ने काफी सुर्खियां बटोरीं थीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 10, 2019, 3:44 PM IST
  • Share this:
पश्चिमी यूपी की कैराना लोकसभा सीट राजनीतिक लिहाज से काफी अहम मानी जाती है. जाट और मुस्लिम वोटरों से प्रभावित इस सीट पर 2014 में मोदी लहर के बीच इस सीट पर भारतीय जनता पार्टी के हुकुम सिंह ने जीत दर्ज की थी, लेकिन उनके निधन के बाद 2018 में हुए उपचुनाव में राष्ट्रीय लोकदल की उम्मीदवार तबस्सुम हसन ने जीत दर्ज की. तबस्सुम हसन ने भारतीय जनता पार्टी की मृगांका सिंह को शिकस्त दी. बता दें कि तबस्सुम हसन को समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस ने समर्थन हासिल था. 2017 में प्रचंड बहुमत के साथ उत्तर प्रदेश की सत्ता में आने वाली बीजेपी के लिए इस हार को बड़े झटके के तौर पर देखा गया था. हुकुम सिंह के निधन के बाद बीजेपी का इस सीट पर इमोशनल कार्ड नहीं चल पाया. उपचुनाव से पहले और विधानसभा चुनाव के दौरान कैराना में पलायन के मुद्दे ने काफी सुर्खियां बटोरीं थीं.

ये रहा इतिहास

कैराना लोकसभा सीट 1962 अस्तित्व में आई. पहले ही चुनाव में इस सीट से निर्दलीय उम्मीदवार ने जीत दर्ज की थी. उसके बाद इस सीट पर सोशलिस्ट पार्टी, जनता पार्टी और कांग्रेस के पास ही रही. लेकिन 1996 में इस सीट पर समाजवादी पार्टी ने जीत दर्ज की, 1998 में भारतीय जनता पार्टी, फिर लगातार दो बार राष्ट्रीय लोक दल, 2009 में बहुजन समाज पार्टी और 2014 में बीजेपी ने दीत दर्ज की थी. 2018 में जब उपचुनाव हुए तो बीजेपी को हार का सामना करना पड़ा.

Tabassum Hasan, RLD, Kairana, congress, samajwadi party, Membar of parliyament, MLA, Nahid hasan, munnabbar hasan, kairana by-election, by-election result 2018, kairana by-election result 2018, election news, तबस्सुम, आरएलडी, कैराना, कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, पार्लियामेंट के मेम्बर, विधायक, नाहिद हसन, मुन्नाबबर हसन, कैराना उपचुनाव, चुनाव परिणाम 2018, कैराना उप-चुनाव परिणाम 2018, चुनाव समाचार,
तबस्सुम हसन. (File)


ये रहा जातीय समीकरण

कैराना लोकसभा सीट पश्चिमी उत्तर प्रदेश को प्रभावित करने वाली सीट है. 2014 के आंकड़ों के अनुसार इस सीट पर कुल 15,31,755 वोटर थे. इनमें 8,40,623 पुरुष और 6,91,132 महिला वोटर थीं. 2018 में हुए उपचुनाव में इस सीट पर 4389 वोट नोटा को डाले गए थे.

5 विधानसभा सीटें
Loading...

कैराना लोकसभा क्षेत्र में कुल 5 विधानसभा सीटें आती हैं. 2017 विधानसभा चुनाव के दौरान पांच में से चार विधानसभा सीटें भारतीय जनता पार्टी के खाते में गई थीं. इनमें नकुड़ बीजेपी, गंगोह बीजेपी, कैराना एसपी, थाना भवन बीजेपी, शामली बीजेपी के खाते में ही गई थीं.

Ajit singh, RLD, Loksabha election 2019, election News, uttar pradesh election news, Jat vote bank, western UP, RLD, BJP, SP, BSP, Congress, chaudhary charan singh, ajit singh, jayant chaudhary, mahendra singh tikait, bhartiya kisan union, sanjiv balyan, satyapal malik, Baghpat, Muzaffarnagar, Mathura, Muslim vote, dalit vote, mayawati, akhilesh yadav, yogi adityanath, narendra modi, लोकसभा चुनाव 2019, चुनाव 2019, जाट वोट बैंक, चौधरी चरण सिंह, अजीत सिंह, जयंत चौधरी, महेंद्र सिंह टिकैत, योगी आदित्यनाथ, मायावती, अखिलेश यादव, नरेंद्र मोदी, बागपत, मुज़फ्फरनगर, आरएलडी, सपा, बसपा, बीजेपी
महागठबंधन के नेता: जयंत चौधरी, अजीत सिंह, मायावती और अखिलेश यादव


कौन हैं सांसद तबस्सुम हसन 

मौजूदा सांसद तबस्सुम हसन राजनीति परिवार से ही आती हैं. 2018 का उपचुनाव तबस्सुम उन्होंने राष्ट्रीय लोकदल के उम्मीदवार के तौर पर जीतीं लेकिन इससे पहले वह 2009 में बहुजन समाज पार्टी की तरफ से जीत दर्ज कर चुकी हैं. 2014 में उनके ही बेटे नाहिद हसन ने ही हुकुम सिंह के खिलाफ चुनाव लड़ा था. इतना ही नहीं कैराना सीट से ही तबस्सुम हसन के ससुर चौधरी अख्तर हसन सांसद रह चुके हैं. तबस्सुम के पति मुनव्वर हसन भी कैरान से दो बार विधायक, दो बार सांसद रह चुके हैं.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मुजफ्फरनगर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 12, 2019, 4:14 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...