'कोरोनिल' विवाद: मुश्किल में बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्‍ण, बिहार के कोर्ट में पहुंचा मामला
Muzaffarnagar News in Hindi

'कोरोनिल' विवाद: मुश्किल में बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्‍ण, बिहार के कोर्ट में पहुंचा मामला
मुजफ्फरपुर जिला अदालत में शिकायक की गई है. (Demo)

बाबा रामदेव और पतंजलि आयुर्वेद के एमडी आचार्य बालकृष्ण के खिलाफ बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में अदालत में एक आपराधिक शिकायत दायर की गई है.

  • Share this:
मुजफ्फरपुर. कोरोना वायरस (COVID-19) की दवा करने वाले स्वामी रामदेव (Swami Ramdeva) की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं. बाबा रामदेव और पतंजलि आयुर्वेद के एमडी आचार्य बालकृष्ण के खिलाफ बिहार के मुजफ्फरपुर जिला अदालत (Muzaffarpur District Court) में एक आपराधिक शिकायत दायर की गई है. पूरा मामला कोरोना की दवा को लेकर किए गए दावे से जुड़ा हुआ है. मालूम हो कि कोरोना की मेडिसिन का दावा करने वाली स्वामी रामदेव की पतंजलि योग पीठ (Patanjali Yoga Peeth) की दिव्य फार्मेसी (Divya Yoga Pharmecy) मुश्किल में गई है. कंपनी को सर्दी-जुकाम की दवा बनाने का लाइसेंस जारी किया था, लेकिन पतंजलि ने कोरोना की दवा बनाने का दावा किया. इस बात को लेकर उत्तराखंड के ड्रग कंट्रोलर ने दिव्य योग फार्मेसी को नोटिस जारी कर दिया है.

उत्तराखंड प्रशासन द्वारा जारी नोटिस में पूछा गया है कि दिव्य योग फार्मेसी ने कोरोना की जो दवा बनाने का दावा किया है उसका आधार क्या है? फार्मेसी ने कोरोना किट बनाने की परमिशन कहां से ली और दूसरा प्रचार-प्रसार के लिए परमिशन क्यों नहीं ली? कहा जा रहा है कि फार्मेसी ने ड्रग एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट-1940 की धारा-170 का उल्लंघन कर भ्रामक प्रचार किया है.

दवा के प्रचार-प्रसार पर रोक



मालूम हो कि पतंजलि ने मंगलवार को COVID-19 की दवा कोरोनिल इजाद करने का दावा करते हुए इसे लॉन्च किया था. इसके बाद मामला सुर्खियों में आया तो केंद्रीय आयुष मंत्रालय ने भी संज्ञान लिया. मंत्रालय ने पतंजलि को नोटिस भेजकर तत्काल दवा के प्रचार-प्रसार पर रोक लगा दी. आयुष मंत्रालय का कहना था कि बिना आईसीएमआर (ICMR) की प्रमाणिकता के फार्मेसी ऐसा क्लेम कैसे कर सकती है. केंद्र ने उत्तराखंड के आयुष विभाग को भी पत्र भेजकर मामले से जुड़ी सारी पत्रावलियां तलब की थीं.
ये भी पढ़ें: आगरा: गर्भवती महिला का अचानक प्रसव, खुले में पैदा हुए नवजात को ले भागे जंगली जानवर

राजस्थान में भी उठ चुका है सवाल

मालूम हो कि राजस्थान के जिस अस्पताल से क्लिनिकल ट्रायल का दावा किया जा रहा है उसकी राज्य सरकार से अनुमति तो दूर सूचना तक नहीं दी गई. चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कोरोना की दवा ईजाद करने के मामले में बाबा रामदेव के दावे पर गंभीर सवाल उठाते हुए भारत सरकार से उनके खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है. डॉ. रघु शर्मा का कहना है कि अनुमति तो छोड़िए हमसे से तो किसी ने पूछा तक नहीं. राजस्थान सरकार द्वारा कार्रवाई के सवाल पर रघु शर्मा ने कहा हमारे डॉक्टर ने एफआईआर दर्ज करवाई है. हम देखेंगे कि क्या कार्रवाई हो सकती है. अस्पताल और बाबा रामदेव के खिलाफ़ कार्रवाई के बारे में देखा जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading