UP: भाकियू का बड़ा ऐलान, कृषि बिल के खिलाफ 25 सितंबर से शुरू होगा किसानों का देशव्यापी प्रदर्शन

 25 सितंबर से शुरू होगा किसानों का देशव्यापी प्रदर्शन
25 सितंबर से शुरू होगा किसानों का देशव्यापी प्रदर्शन

टिकैत (Tikat) ने चेतावनी दी कि भारतीय किसान यूनियन (Indian Kisan Union) इस हक की लड़ाई को मजबूती के साथ लड़ेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 21, 2020, 6:59 PM IST
  • Share this:
मुजफ्फरनगर. केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के कृषि विधेयकों (Agricultural bills) के खिलाफ किसानों (Farmers) का गुस्सा बढ़ता जा रहा है. मुजफ्फरनगर (Muzaffarnagar) में सोमवार को किसानों की लड़ाई लड़ने वाली भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने सैकड़ों किसानों के साथ कलेक्ट्रेट में धरना देकर विरोध प्रदर्शन किया. धरने का नेतृत्व कर रहे भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने धरना स्थल से कृषि विधेयक के विरोध में 25 सितंबर को किसान कर्फ्यू की घोषणा करते हुए पूरे देश मे चक्का जाम करने का ऐलान किया है. उन्होंने कहा कि 25 सितंबर को किसान सड़कों पर उतर कर विधेयक के विरोध में देश मे चक्का जाम कर अपना प्रदर्शन करेंगे.

राकेश टिकैत ने कहा कि गन्ने का भुगतान अब तक नहीं हुआ है ,थानों में भी धरना दिया, लेकिन अब तक भुगतान रुका हुआ है. उन्होंने कहा कि सरकार ने जो 14 दिन का वादा किया था उस पर पूरा नहीं उतर रहे हैं. बिजली का रेट लगातार बढ़ाया जा रहा है. इन्हीं सब मुद्दों को लेकर पूरे प्रदेश में धरना प्रदर्शन चल रहा है और जो बिल पास किया जा रहा है. इसको लेकर 25 तारीख में किसान कर्फ्यू का आवाहन किया गया है. राकेश टिकैत ने कहा कि पूरे देश में यह लागू रहेगा. इसमें कई संगठन हमें समर्थन कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि यूपी, पंजाब, हरियाणा समेत कई राज्य में इसका असर रहेगा.

ये भी पढ़ें- UP में फिल्म सिटी को लेकर एक्टिव हुई योगी सरकार, रजनीकांत समेत 25 हस्तियों को बुलावा



राकेश टिकैत का आरोप है कि मंडी के बाहर खरीद पर कोई शुल्क न होने से देश की मंडी व्यवस्था समाप्त हो जायेगी. सरकार धीरे-धीरे फसल खरीदी से हाथ खींच लेगी. किसान को बाजार के हवाले छोड़कर देश की खेती को मजबूत नहीं किया जा सकता. इसके परिणाम पूर्व में भी विश्व व्यापार संगठन के रूप में मिले हैं.
बिलों के विरोध में सड़कों पर उतरेंगे किसान

टिकैत ने चेतावनी दी कि भारतीय किसान यूनियन इस हक की लड़ाई को मजबूती के साथ लड़ेगी. सरकार अगर हठधर्मिता पर अडिग है तो किसान भी पीछे हटने वाला नहीं है. 25 तारीख को पूरे देश का किसान इन बिलों के विरोध में सड़क पर उतरेगा, जब तक कोई समझौता नहीं होगा तब तक पूरे देश का किसान सड़कों पर रहेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज