मुजफ्फरनगर में मामूली बात पर पत्नी को पीटकर पति ने दिया तीन तलाक

दरअसल मुजफ्फरनगर की बुढ़ाना कोतवाली क्षेत्र के गांव जौला निवासी शाजहां का निकाह 25 वर्ष पहले जनपद बुलंदशहर के थाना बीबीनगर क्षेत्र के गांव परतापुर निवासी जुल्फुकार के साथ हुआ था.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 17, 2018, 1:08 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 17, 2018, 1:08 PM IST
संसद में तीन तलाक का बिल जहां विपक्ष की सहमति की बांट जोह रहा है वहीं तीन तलाक पीड़िता की फेहरिस्त में एक और नाम जुड़ गया है. पत्नी ने अपने पति से बेटी का रिश्ता तय करने की बात क्या कही, गुस्साए पति ने झगड़े के बाद तीन बार तलाक तलाक तलाक बोल कर पत्नी और छह बच्चों से पल भर में छूटकारा पा लिया. तीन तलाक की पीड़िता चार बेटियों व दो बेटों को साथ लेकर मजबूरी में अपने मायके आ गई.

दरअसल मुजफ्फरनगर की बुढ़ाना कोतवाली क्षेत्र के गांव जौला निवासी शाजहां का निकाह 25 वर्ष पहले जनपद बुलंदशहर के थाना बीबीनगर क्षेत्र के गांव परतापुर निवासी जुल्फुकार के साथ हुआ था. शाजहां-जुल्फुकार के छह बच्चे हुए, जिनमें चार बेटियां व दो बेटे हैं. बड़ी बेटी शाजबा और एक अन्य बेटी जब बड़ी हुई तो मां शाजहां ने पति जुल्फुकार से उनका रिश्ता तय करने की बात कही.

इतनी मामूली बात पर भड़के पति ने पत्नी के साथ मारपीट की. मारपीट की सूचना शाजहां ने मायके वालों को गांव जौला में दी. सूचना पर शाजहां के तीन भाइयों समेत पांच लोग बुधवार को गांव परतापुर पहुंचे जहां पर उन्हें भी जुल्फुकार के गुस्से का सामना करना पड़ा. किसी तरह ग्राम प्रधान पति शकील ओर लोकल पुलिस ने मामला शांत कराया.

ये भी पढ़ें - 

बलरामपुरः जब गांव वालों ने वाजपेयी की धंसी जीप को निकाला था

..जब अटल बिहारी वाजपेयी ने बदल दी थी नवाबी शहर लखनऊ की तस्वीर

कानपुर: अटल बिहारी वाजपेयी को पसंद थे मशहूर 'ठग्गू के लड्डू'
Loading...
इसके बाद गांव जौला के ग्रामीण बुधवार रात करीब 10 बजे अपने घर आने लगे. लेकिन लेकिन पीड़िता के मायके वालों के जाते ही पति जुल्फुकार ने फिर से उसके साथ मारपीट की और तीन बार तलाक बोलकर, उसे तलाक दे दिया. शाजहां ने मोबाइल फोन से घटना की जानकारी फिर से अपने भाइयों को दी. सूचना पर मायके पक्ष के लोग रास्ते से वापस शाजहां के ससुराल लौट गए.

तीन तलाक की पीड़िता शाजहां अपने छह बच्चों के साथ बुधवार रात को अपने मायके चली आई. शाजहां का आरोप है कि शादी के बाद से ही उसका पति किसी ना किसी बात को लेकर उसके साथ आए दिन मारपीट करता रहता था. अब शाजहां के सामने अपने छह बच्चों समेत अपना भरण-पोषण करने की चुनौती है. अब शाजहां जैसी तीन तलाक पीड़िताओं को मोदी सरकार से ही उम्मीद बंधी है, लेकीन यह उम्मीद कब तक पूरी होगी ये तो वक्त ही बताएगा.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर