होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /दशहरे पर रावण दहन के लिए 65 साल से पुतले बनाता आ रहा मुस्लिम परिवार

दशहरे पर रावण दहन के लिए 65 साल से पुतले बनाता आ रहा मुस्लिम परिवार

रफीक अहमद बताते हैं कि कुंभकरण, मेघनाथ और रावण के पुतले वह अपने पिता के समय से बनाते आ रहा है. यह सिलसिला 65 साल जारी है. इस काम के लिए उसे एक महीने के लिए छुट्टी लेनी पड़ती है. मुजफ्फरनगर के अलावा उत्तराखंड के ऋषिकेश के लिए भी दशहरे के लिए पुतले बनाते हैं.

रफीक अहमद बताते हैं कि कुंभकरण, मेघनाथ और रावण के पुतले वह अपने पिता के समय से बनाते आ रहा है. यह सिलसिला 65 साल जारी है. इस काम के लिए उसे एक महीने के लिए छुट्टी लेनी पड़ती है. मुजफ्फरनगर के अलावा उत्तराखंड के ऋषिकेश के लिए भी दशहरे के लिए पुतले बनाते हैं.

रफीक अहमद बताते हैं कि कुंभकरण, मेघनाथ और रावण के पुतले वह अपने पिता के समय से बनाते आ रहा है. यह सिलसिला 65 साल जारी ह ...अधिक पढ़ें

मुजफ्फरनगर. उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जनपद में एक मुस्लिम परिवार ऐसा है, जो पिछले 65 सालों से दशहरे के पुतले बना रहा है. इस बार भी इस परिवार ने दशहरे के लिए रावण, मेघनाथ और कुंभकरण के विशालकाय पुतले बनाए हैं. आपको बता दें कि नगर के मोती महल में रहने वाले रफीक अहमद का परिवार जनपद के साथ-साथ उत्तराखंड में भी पिछले 65 सालों से रावण, मेघनाथ और कुंभकरण के पुतले बनाता रहा है.

रफीक अहमद पेशे से इलेक्ट्रिशियन है. इसके साथ साथ वह अपने पिता के इस काम को आज भी बदस्तूर जारी रखा है. इस बार भी रफीक अहमद ने अपने परिवार एवं अपने साथियों के साथ मिलकर जनपद के राजकीय इंटर कॉलेज में दशहरे के 60 फीट रावण और 50- 50 फीट के मेघनाथ व कुंभकरण के पुतले बनाए हैं. बताया जा रहा है कि इस बार इन पुतलों का दहन भी रिमोट के द्वारा किया जाएगा.

रफीक अहमद बताते हैं कि कुंभकरण, मेघनाथ और रावण के पुतले वह अपने पिता के समय से बनाते आ रहा है. यह सिलसिला 65 साल जारी है. इस काम के लिए उसे एक महीने के लिए छुट्टी लेनी पड़ती है. यहां का काम पूरा कर हमलोग उत्तराखंड के ऋषिकेश जाते हैं, वहां पर भी दशहरे के लिए पुतले बनाते हैं.

Tags: Dussehra Festival, Muzaffarnagar news, UP news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें