• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • मुजफ्फरनगर: शहर में चस्पा हुए निशुल्क कोरोना वायरस की दवा पिलाने के पोस्टर, जांच के आदेश

मुजफ्फरनगर: शहर में चस्पा हुए निशुल्क कोरोना वायरस की दवा पिलाने के पोस्टर, जांच के आदेश

मुजफ्फरनगर में कोरोना वायरस की दवा पिलाने का लगा पोस्टर

मुजफ्फरनगर में कोरोना वायरस की दवा पिलाने का लगा पोस्टर

अभी तक इस बीमारी के इलाज के लिए अभी कोई भी दवा न होने की बात कही जा रही है. इन सबके बीच उत्तर प्रदेश के जनपद मुज़फ्फरनगर में एक प्राइवेट होम्योपैथिक डॉक्टर राकेश कुमार शर्मा द्वारा कोरोना वायरस की निशुल्क दवाई पिलाने के पोस्टर शहर में चस्पा किये गए है.

  • Share this:
    मुजफ्फरनगर. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में कोरोना वायरस (Coronavirus) की दस्तक की ख़बरों के बीच मुजफ्फरनगर (Muzaffarnagar) में इसके इलाज का पोस्टर सामने आया है. शहर के होमियोपैथ की प्रैक्टिस करने वाले एक डॉक्टर ने शहर भर में निशुल्क दवा पिलाने का पोस्टर चस्पा कर हड़कंप मचा दिया. जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने मामले में जांच के आदेश दिए हैं.

    दरअसल चीन समेत कई देशों में आतंक का पर्याय बन चुके कोरोना वायरस की दहशत भारत में भी देखने को मिल रही है, दिल्ली, केरल और आगरा में कोरोना संदिग्धों के लक्षण मिलने के बाद जहां सरकार और जिला प्रशासन सतर्क है वहीं, कोरोना की दवा के पोस्टर से शहर में हड़कंप मच गया. दरअसल, अभी तक इस बीमारी के इलाज के लिए अभी कोई भी दवा न होने की बात कही जा रही है. इन सबके बीच उत्तर प्रदेश के जनपद मुज़फ्फरनगर में एक प्राइवेट होम्योपैथिक डॉक्टर राकेश कुमार शर्मा द्वारा कोरोना वायरस की निशुल्क दवाई पिलाने के पोस्टर शहर में चस्पा किये गए है.

    CMO ने दिए जांच के आदेश

    मंगलवार को इन पोस्टरों के बारे में जैसे ही जिला प्रशासन को जानकारी मिली तो हड़कंप मच गया. आनन-फानन में मुख्य चिकित्सा अधिकारी प्रवीण कुमार चोपड़ा ने इस मामले की जांच जिला होम्योपैथिक अधिकारी को सौंपते हुए कार्यवाई करने की बात कही है. उन्होंने कहा कि अभी तक कोरोना वायरस की कोई दवाई नहीं बनी है. इस तरह के पोस्टर लगाकर जनता में भ्रांतिया फैलाने का काम किया जा रहा है. जबकि मुज़फ्फरनगर क्या उत्तर प्रदेश में भी अभी तक कोई भी इस वायरस का पॉजिटिव केस सामने नहीं आया है.

    डॉ शर्मा का ये है दावा

    कोरोना वायरस की दवाई फ्री में पिलाने का दावा करने वाले डॉक्टर राकेश कुमार शर्मा से जब बात की गई तो उन्होंने बताया कि यह एक तरह का प्रोफलाइटिक मेडिसन हैं, जो कोरोना वायरस से बचने के लिए है. हमारे यहां होम्योपैथी में सिंप्टम के आधार पर दवाइयों का सेलेक्शन होता है. अधिकतर सिम्पटम्स जिस दवाई से मेल खाते हैं उसी दवाई का हम इस्तेमाल करते हैं. डॉ राकेश शर्मा का कहना है कि आरसैनिक एल्बम नाम की दवाई से कोरोना वायरस से बचा जा सकता है.

    (इनपुट: बिनेश पवार)

    ये भी पढ़ें:

    Coronavirus: नोएडा में मिले 6 संदिग्धों के नमूने जांच में पाए गए निगेटिव

    कोरोना वायरस: नोएडा में प्रशासन अलर्ट, 2 अस्पतालों में बनाए गए अलग वार्ड

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज