लाइव टीवी

मुजफ्फरनगर लोकसभा: कांग्रेस, सपा, बसपा से लेकर बीजेपी, सभी को इस सीट मिला है मौका

News18 Uttar Pradesh
Updated: April 11, 2019, 3:41 PM IST
मुजफ्फरनगर लोकसभा: कांग्रेस, सपा, बसपा से लेकर बीजेपी, सभी को इस सीट मिला है मौका
Muzaffarnagar Loksabha seat 2019: इस बार सपा-बसपा गठबंधन की तरफ से रालोद का प्रत्याशी मैदान में होगा. लिहाजा बीजेपी के लिए इस सीट को बचाए रखना आसान काम नहीं होगा.

Muzaffarnagar Loksabha seat 2019: इस बार सपा-बसपा गठबंधन की तरफ से रालोद का प्रत्याशी मैदान में होगा. लिहाजा बीजेपी के लिए इस सीट को बचाए रखना आसान काम नहीं होगा.

  • Share this:
आम चुनाव में उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर लोकसभा सीट पर सभी की निगाहें टिकी हुई हैं. पश्चिम का जाटलैंड कहे जाने वाले इस लोकसभा सीट को पिछले चुनावों में बीजेपी ने जीता था. संजीव बालियान ने यहां भारी मतों से जीत हासिल की थी. 2013 के दंगों के बाद यह सीट हमेशा से ही सुर्ख़ियों में रही है. इस सीट पर जाट और मुस्लिम वोटर हमेशा से निर्णायक भूमिका में रहे हैं.

इस बार सपा-बसपा गठबंधन की तरफ से रालोद का प्रत्याशी मैदान में होगा. लिहाजा बीजेपी के लिए इस सीट को बचाए रखना आसान काम नहीं होगा. गन्ना मूल्य भुगतान और किसानों की कर्जमाफी के मुद्दे लोकसभा चुनाव में हावी रहेंगे. लिहाजा इस सीट पर एक रोमांचक मुकाबला देखने को मिलेगा.

मुजफ्फरनगर सीट का चुनावी इतिहास

इस लोकसभा सीट पर कांग्रेस का वर्चस्व 1962 तक रहा. जिसके बाद लगातार दो बार कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया ने जीत दर्ज की थी. 1977 से 1991 तक ये सीट जनता दल, कांग्रेस के खाते में रही. 1990 के राम मंदिर आन्दोलन का असर भी सी सीट पर देखने को मिला. 1991, 1996 और 1998 के लोकसभा चुनाव में यहां पर लगातार भारतीय जनता पार्टी ने जीत दर्ज की थी. 1999 में जब फिर से चुनाव हुए तो कांग्रेस ने सीट छीन ली. हालांकि, 2004 और 2009 में ये सीट क्रमश: समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के खाते में गई. और 2014 में चली मोदी लहर ने इस सीट को दोबारा बीजेपी की झोली में डाल दिया.

sanjeev baliyan
संजीव बालियान (File Photo)


मुजफरनगर सीट का जातीय समीकरण

मुजफ्फरनगर लोकसभा सीट के अंतर्गत कुल पांच विधानसभाएं आती हैं. इनमें बुढ़ाना, चरथावल, मुजफ्फरनगर, खतौली, सरधना सीट आती हैं. ये पांचों ही सीटें भारतीय जनता पार्टी के खाते में हैं मुजफ्फरनगर लोकसभा सीट पर करीब 16 लाख वोटर्स हैं. इनमें पुरुष वोटर 875186 और 713297 महिला वोटर हैं. 2014 के लोकसभा चुनाव में इस सीट पर 69.7 फीसदी वोट पड़े थे. इस सीट पर 27 फीसदी मुस्लिम वोटर मौजूद हैं.
Loading...

Mayawati Akhilesh Yadav
सपा, बसपा और रालोद गठबंधन प्रत्याशी आने के बाद बीजपी के बढ़ी चुनौती. (File Photo)


पिछले चुनाव का परिणाम

2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी संजीव बालियान ने इस सीट पर करीब 60 फीसदी वोट हासिल किए थे, जबकि उनके प्रतिद्वंदी और बहुजन समाज पार्टी के उम्मीदवार कादिर राणा को सिर्फ 22 फीसदी वोट ही हासिल हुए थे. संजीव बालियान ने कादिर राणा को करीब 4 लाख वोटों से हराया था. संजीव बालियान को कुल 653391 वोट मिले थे. कादिर राणा को कुल 252241 वोट मिले और समाजवादी पार्टी जे वीरेंद्र सिंह को कुल 160810 वोट मिले.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

ये भी पढ़ें:

सहारनपुर लोकसभा सीट: SP-BSP बीजेपी को देगी चुनौती या फिर कांग्रेस के हाथ लगेगी बाजी?

मोहनलालगंज: किसी के लिए भी 'सुरक्षित' नहीं रही यह लोकसभा सीट

आचार संहिता लागू होने के बाद बिजली के पोल पर चढ़ा सिपाही, Selfie लेते दारोगा

लोकसभा चुनाव 2019: यूपी में 16 लाख युवा पहली बार डालेंगे वोट

देशभर में 'रोजगार' की पहचान देने वाला गौतम बुद्ध नगर, ये रहा राजनीतिक इतिहास

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मुजफ्फरनगर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 11, 2019, 12:50 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...