पुलिस पर हमला कर फरार होने वाला इनामी अपराधी रोहित साथी संग मुठभेड़ में ढेर

रोहित साडू पर पर एक लाख और राकेश पर 50 हजार रुपए का इनाम घोषित था. मुठभेड़ में एक दारोगा और एक सिपाही भी घायल हुए हैं, जिनका इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 16, 2019, 9:30 AM IST
पुलिस पर हमला कर फरार होने वाला इनामी अपराधी रोहित साथी संग मुठभेड़ में ढेर
मुजफ्फरनगर पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 16, 2019, 9:30 AM IST
मुजफ्फरनगर में सोमवार देर रात पुलिस को बड़ी कामयाबी हाथ लगी. पुलिस ने मुठभेड़ में कुख्यात अपराधी रोहित साडू और उसके साथी राकेश को मार गिराया. रोहित को पिछले दिनों उनके साथियों ने पुलिसकर्मियों की आंखों में मिर्ची पाउडर झोंककर और एक सब इंस्पेक्टर को गोली मारकर छुड़ा ले गए थे. रोहित साडू पर पर एक लाख और राकेश पर 50 हजार का इनाम घोषित था. इस मुठभेड़ में एक दारोगा और एक सिपाही भी घायल हुए हैं, जिनका इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है.

पुलिस के मुताबिक, रोहित के फरारी के बाद से ही उसकी तलाश की जा रही थी. सोमवार रात रोहित अपने साथी राकेश के साथ बाइक से जा रहा था. इस बीच नई मंडी कोतवाली क्षेत्र में पुलिस ने उसे रोकने की कोशिश की. इस बीच रोहित ने पुलिस पर फायरिंग शुरू कर दी. जवाबी फायरिंग में रोहित साडू और राकेश गोली लगने से घायल हो गए. उन्हें जिला अस्पताल पहुंचाया गया, जहां डॉक्टरों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया.

पुलिस अभिरक्षा से फरार हुआ था रोहित

रोहित पर 40 से ज्यादा संगीन अपराध की धाराओं में मुकदमा दर्ज था. 2 जुलाई को बदमाशों ने पुलिसकर्मियों की आंखों में मिर्ची पाउडर फेंककर ताबड़तोड़ फायरिंग करते हुए पेशी पर आए कुख्यात अपराधी रोहित को भगा ले गए थे. बदमाशों द्वारा की गई फायरिंग में सब इंस्पेक्टर विजय सिंह गोली लगने से घायल हो गए थे.

Muzaffarnagar police, Muzaffarnagar police encounter, criminal rohi and rakesh shot dead
पुलिस मुठभेड़ में मारा गया बदमाश रोहित साडू


जानसठ कोतवाली क्षेत्र के गांव सालारपुर में एक होटल पर पुलिसकर्मी भोजन कर रहे थे, तभी कार सवार चार पांच बदमाश पहुंचे और पुलिसकर्मियों के आंखों में मिर्ची पाउडर डाल दिया और फायरिंग शुरू कर दी थी. जवाब में पुलिस ने भी गोलियां चलाईं, लेकिन वे अपराधी रोहित को अपने साथ ले जाने में सफल हुए थे.

मंसूरपुर थाना क्षेत्र के गांव जोहरा निवासी रोहित रंगदारी समेत कई संगीन मामलों में करीब एक साल से मिर्जापुर जेल में बंद था. हत्या के प्रयास के एक मुक़दमे में मंगलवार को सुनवाई होने पर मिर्जापुर सब इंस्पेक्टर विजय सिंह साथी पुलिसकर्मियों के साथ उसे वज्र वाहन से लेकर पहुंचे थे. एडीजे-11 कोर्ट में पेशी के बाद मिर्जापुर लौटते समय दोपहर दो बजे पुलिसकर्मी भोजन करने के लिए एक होटल पर रुके थे. यहीं पर बदमाशों ने धावा बोलकर रोहित को पुलिस अभिरक्षा से छुड़ा लिया था.
Loading...

(रिपोर्ट: बिनेश पंवार)

ये भी पढ़ें:

बलरामपुर: प्राथमिक विद्यालय पर गिरा हाईटेंशन तार

ऐसे शुरू हुई काशी विश्वनाथ मंदिर में जलाभिषेक की परंपरा
First published: July 16, 2019, 7:38 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...