मुजफ्फरनगरः इरशाद एनकाउंटर पर ग्रामीणों ने उठाए सवाल, पुलिस पर गंभीर आरोप

पुलिस इरशाद नामक युवक को बदमाश बताकर अपनी पीठ थपथपा रही थी, लेकिन जब इरशाद के परिजनों ने एनकाउंटर पर सवाल खड़ा कर दिया तो पूरे पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया. परिजनों का कहना है कि खेत जाते समय अब बदमाशों से ज्यादा उन्हें अब पुलिस से डरने लगने लगा है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 29, 2018, 12:38 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: November 29, 2018, 12:38 PM IST
मुज़फ्फरनगर जिले में इरशाद नामक एक युवक की मुठभेड़ में हुई मौत ने तूल पकड़ लिया है. पुलिस इरशाद नामक युवक को बदमाश बताकर अपनी पीठ थपथपा रही थी, लेकिन जब इरशाद के परिजनों ने एनकाउंटर पर सवाल खड़ा कर दिया तो पूरे पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया. परिजनों का कहना है कि खेत जाते समय अब बदमाशों से ज्यादा उन्हें अब पुलिस से डरने लगने लगा है.

यह भी पढ़ें-शामली Live Murder: वीडियो जारी कर एसपी बोले- पुलिस के सामने नहीं हुई हत्या

रिपोर्ट के मुताबिक गत सोमवार देर रात थाना रतनपुरी क्षेत्र में पुलिस और गौ तस्करों के बीच हुए एक मुठभेड़ में इरशाद उर्फ़ सादा की पुलिस की गोली लगने से मौत हो गई थी. इरशाद के परिजनों और गांव वालों ने पुलिस की कार्रवाई को यह कहकर कटघरे में खड़ा कर दिया है कि मृतक इरशाद के खिलाफ अभी तक 151 का चालान या मुकदमा दर्ज नहीं है, तो फिर पुलिस उसे गोली कैसे मार सकती है.



यह भी पढ़ें-शामली live murder: यूपी की सियासत में आया उबाल, विपक्ष ने मांगा सीएम योगी का इस्तीफा

ग्रामीणों के मुताबिक बदमाशों से अधिक उन्हें हम पुलिस से डर लगने लगा है, क्योंकि पुलिस उन्हें भी कभी भी गोली मार सकती है. ग्रामीणों का कहना है कि अब वो रात में अपने खेतों पर भी नहीं जा सकते हैं, क्योंकि डर लगा रहता है कि कहीं पुलिस उठाकर उनका एनकाउंटर न कर दे. ग्रामीणों ने योगी सरकार से मामले की जांच करवाने और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है.

(रिपोर्ट-बिनेश पवार, मुजफ्फरनगर)
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...