फीस जमा नहीं हुई तो स्कूल ने नहीं देने दिया एग्जाम, छात्रा ने खाया जहर

जिनका आरोप था कि गांव पचैंडा में स्थित पायनियर पब्लिक स्कूल प्रशासन ने समय पर फीस जमा ना होने के कारण उनके बच्चो को छमाई परीक्षा में बैठाने से मना कर दिया और स्कूल से से बाहर निकल दिया है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 15, 2018, 10:51 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: September 15, 2018, 10:51 PM IST
मुज़फ्फरनगर में एक प्राइवेट पब्लिक स्कूल प्रशासन ने फीस ना जमा होने के कारण लगभग आधा दर्जन मासूम बच्चों को छमाई परीक्षा में बैठने से मना कर दिया और स्कूल से बाहर निकाल दिया. जिससे क्षुब्ध होकर कक्षा सात की एक छात्रा ने परीक्षा छूटने पर ज़हरीला पदार्थ खाने का प्रयास किया है. पीड़ित छात्र-छात्राओं के परिजनों ने स्कूल प्रशासन के खिलाफ जिलाधिकारी को शिकायत दर्ज कर कार्यवाही की मांग की है. वही जिला प्रशासन ने पीड़ितों को जांच कर कार्यवाही करने का आश्वासन दिया है.

दरअसल मामला कलक्ट्रेट स्थित जिलाधिकारी कार्यालय का है. जहां पर शनिवार को नई मंडी कोतवाली क्षेत्र के गांव मखियाली के लगभग आधा दर्जन लोग स्कूली ड्रेस में अपने मासूम बच्चो को लेकर पहुंचे. जिनका आरोप था कि गांव पचैंडा में स्थित पायनियर पब्लिक स्कूल प्रशासन ने समय पर फीस जमा ना होने के कारण उनके बच्चो को छमाई परीक्षा में बैठाने से मना कर दिया और स्कूल से से बाहर निकल दिया है.

अखिलेश ने दिए बसपा और कांग्रेस के साथ गठबंधन के संकेत

परिजनों का तो आरोप ये भी है कि छमाई परीक्षा में बैठने से मना करने से, कक्षा सात की छात्रा सानिया ने क्षुब्ध होकर ज़हरीला पदार्थ खाने का प्रयास किया है. वहीं परिजनों की शिकायत के आधार पर एडिएम वित्त एवं राजस्व अलोक कुमार ने जांच के बाद क़ानूनी कार्यवाही करने का पीड़ितों को आश्वाशन दिया है.

VIDEO: तेज रफ्तार ट्रक फ्लाई ओवर की रेलिंग तोड़कर से नीचे जा गिरी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मुजफ्फरनगर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 15, 2018, 10:51 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...