यूपी पुलिस का नया कारनामा, पांच साल के मासूम को बनाया मारपीट का आरोपी

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 27, 2018, 7:46 PM IST

विनोद का आरोप है कि पुलिस ने इस मामले में लापरवाही बरतते हुए मेरे परिवार के ऊपर बिना जांच-पड़ताल के ही 5 साल के बेटे अक्षय समेत मेरे दो अन्य नाबालिग बेटों पर भी मुकदमा दर्ज करा दिया है.

  • Share this:
शामली पुलिस ने एक 5 साल के मासूम पर मारपीट की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर उसे आरोपी बना दिया है. बिना जांच पड़ताल के किए इस केस के कारण पीड़ित का परिवार सदमे में हैं. यही नहीं पुलिस मासूम की गिरफ्तारी के लिए भी लगातार पीड़ितों के घर दबिश भी दे रही है. जिसको लेकर पीड़ित परिवार ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से न्याय की गुहार लगाई है.

दरअसल पूरा मामला जनपद शामली के कांधला थाना क्षेत्र के गांव खन्द्रावली का है. जहां गत 12 सितम्बर को दो पक्षों के बीच मामूली बात को लेकर विवाद हो गया था. जिसके बाद एक पक्ष ने दूसरे पक्ष के खिलाफ मारपीट का आरोप लगाते हुए कांधला थाने में मुकदमा दर्ज करा था. विनोद पक्ष का आरोप है कि महिपाल पक्ष ने उनके परिवार के चार लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया था, जिनमें 5 साल के मासूम अक्षय को भी आरोपी बना कर मुकदमा दर्ज करा दिया गया था.

सुप्रीम कोर्ट का फैसला विवाद निपटाने में अहम साबित होगा: CM योगी

विनोद का आरोप है कि पुलिस ने इस मामले में लापरवाही बरतते हुए मेरे परिवार के ऊपर बिना जांच-पड़ताल के ही 5 साल के बेटे अक्षय समेत मेरे दो अन्य नाबालिग बेटों पर भी मुकदमा दर्ज करा दिया है. इतना ही नहीं पुलिस ने मासूम बच्चें की गिरफ्तारी के लिए रात के समय लगातार घर पर दबिश दे रही हैं. पीड़ित मासूम आरोपी के परिजनों ने कांधला थाना प्रभारी अनिल कुमार सिंह पर गम्भीर आरोप लगाए हैं.

संगम वॉक की शुरुआत, कमिश्नर ने हरी झंडी दिखाकर पहले दल को किया रवाना

पीड़ित परिवार ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से हाथ जोड़कर गुहार लगाई है. इस मामले की निष्पक्ष जांच कराई जाए और लापरवाह थाना प्रभारी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाए. विनोद का कहना है कि यदि उनके परिवार को न्याय नहीं मिला और इस पूरे मामले की सही जांच नहीं हुई तो उनका पूरा परिवार गांव से पलायन करेगा.

बाबरी फैसले पर अयोध्या के संतों ने जताई खुशी, मुस्लिम पक्षकारों ने भी किया स्वागत
Loading...

जब यह मामला मीडिया के माध्यम से पुलिस के आला अफसरों तक पहुंचा तो जनपद के एडिशनल एसपी अजय प्रताप सिंह ने इस मामले में जांच कराकर मासूम बच्चे का नाम निकलवाए जाने की बात कही, लेकिन सवाल यह है कि हमेशा सुर्खियों में रहने वाली उत्तर प्रदेश पुलिस ने आखिर कैसे बिना जांच-पड़ताल के एक 5 साल के मासूम के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है?

टाइगर के हमले से आक्रोशित ग्रामीणों ने महेशपुर रेंज की चौकी जलाई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मुजफ्फरनगर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 27, 2018, 7:46 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...