लाइव टीवी
Elec-widget

मुजफ्फरनगरः आधा दर्जन मुस्लिम परिवारों ने घर के बाहर लिखा 'यह मकान बिकाऊ है'

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 25, 2018, 11:11 AM IST

पलायन के लिए मजबूर पीड़ित परिवारों को आरोप है कि भरी पंचायत में परिवार के एक सदस्य को जूता मारने के बाद उसपर जानलेवा हमला किया गया, लेकिन जब पुलिस ने पीड़ित पक्ष के खिलाफ ही फर्जी मुकदमा दर्ज कर दिया तो उनके सब्र का बांध टूट गया और उन्होंने गांव से पलायन करने का फैसला कर लिया

  • Share this:
मुज़फ्फरनगर जिले में पंचायत के फैसले और कथित फर्जी मुकदमे से नाराज होकर कुल आधा दर्जन परिवारों ने अपने घर के बाहर 'यह मकान बिकाऊ है' का पोस्टर लगा दिया है. पलायन के लिए मजबूर पीड़ित परिवारों को आरोप है कि भरी पंचायत में परिवार के एक सदस्य को जूता मारने के बाद उसपर जानलेवा हमला किया गया, लेकिन जब पुलिस ने पीड़ित पक्ष के खिलाफ ही फर्जी मुकदमा दर्ज कर दिया तो उनके सब्र का बांध टूट गया और उन्होंने गांव से पलायन करने का फैसला कर लिया.

यह भी पढ़ें-शामलीः धर्म परिवर्तन कर मुस्लिम से हिंदू बने युवक पर जानलेवा हमला

रिपोर्ट के मुताबिक मामला थाना भोपा क्षेत्र के गांव जौली का है, जहां पीड़ित इसरार अंसारी के विरूद्ध फर्जी मुकदमा दर्ज करने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. शनिवार को पंचायत के फैसले और उसके बाद पुलिस द्वारा पीड़ित परिवार के ऊपर की गई कार्रवाई से नाराज होकर गांव के करीब आधा दर्जन परिवारों ने गांव से पलायन करने की तैयारी कर ली है. पीड़ितों ने मकान पर मकान बेचने के पोस्टर तक चस्पा कर दिए हैं और लाउडस्पीकर से मकान बेचने की मुनादी भी करवा दी गई है.

पुलिस की कार्रवाई से क्षुब्ध परिवार ने घर के बाहर लगाया पोस्टर


यह भी पढ़ें-हत्या के मामले में 7 दोषियों को फांसी की सजा, वॉलीबॉल खेलते वक्त हुई थी हत्या

दरअसल, बीते 17 नवम्बर को इसरार व हन्नान पक्ष में पैसे के लेनदेन को लेकर विवाद हो गया था और 18 नवम्बर को हुई पंचायत में इसरार को पंचायत द्वारा जूते मारने की सजा दी गई थी. इसके बाद 18 नवम्बर की रात में ही दबंगों द्वारा इसरार के साथ मारपीट कर उसे गम्भीर रूप से घायल कर दिया गया. मामले में इसरार पक्ष की ओर से पांच व्यक्तियों के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कराया गया.

यह भी पढ़ें-अब मुजफ्फरनगर में घरों की दीवार पर लिखा ‘यह मकान बिकाऊ है’
Loading...

बताया जाता है तीन दिन बाद आरोपी पक्ष के सुलेमान ने पीड़ित पक्ष के आधा दर्जन व्यक्तियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया तो गोपा पुलिस ने इसरार के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर इसरार घर पर दबिश देने पहुंच गई, जिससे घबराकर इसरार के परिजनों ने मकान बेचकर गांव से पलायन करने की बात कही है जबकि इसरार का इलाज अभी भी जिला चिकित्सालय में जारी है. मामले पर पुलिस अधिकारियों ने अनभिज्ञता जताते हुए कुछ भी बोलने से इंकार किया है.

(रिपोर्ट-बिनेश पवार, मुजफ्फनगर)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मुजफ्फरनगर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 25, 2018, 11:03 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...