पूजा-मंत्र से भी बंद नहीं हुईं ऑफिस में आने वाली रहस्यमयी आवाजें, फिर निकला यह
Agra News in Hindi

पूजा-मंत्र से भी बंद नहीं हुईं ऑफिस में आने वाली रहस्यमयी आवाजें, फिर निकला यह
इसी सीविट कैट को एसओएस की टीम ने रेस्क्यू किया है.

ऑफिस की सीलिंग में किसी पशु-पक्षी या कीड़े के फंसे होने की आशंका के चलते वाइल्ड लाइफ, एसओएस (wildlife SOS) की टीम को बुलाया गया. जब टीम ने सीलिंग के अंदर झांककर देखा तो उसमे एक सीविट कैट (Civet cat) फंसी हुई थी.

  • Share this:
नई दिल्ली. आबादी से दूर इंडस्ट्रियल एरिया में बनी एक फैक्ट्री के अंदर कई दिन से अजीब-ओ-गरीब आवाज़ें आ रही थीं. आवाजें ऑफिस की तरफ से आ रही थीं. कुछ दिन से यह सिलसिला लगातार बना हुआ था. सूत्रों की मानें तो आवाज़ों से डरे फैक्ट्री स्टाफ ने पूजा के साथ मंत्रों का जाप भी कराया, आवाज़ें आना फिर भी बंद नहीं हुईं. लेकिन जब इंसानों की मौजूदगी में भी आवाज़ें आने लगीं, तो स्टाफ को शक हुआ. ऑफिस की सीलिंग में किसी पशु-पक्षी या कीड़े के फंसे होने की आशंका के चलते वाइल्ड लाइफ (एसओएस) की टीम को बुलाया गया. जब टीम ने सीलिंग के अंदर झांककर देखा तो उसमे एक सीविट कैट (जंगली बिल्ली) फंसी हुई थी.

यूपी के इस शहर का है सीविट कैट के फंसने का मामला

वाइल्ड लाइफ एसओएस की मेडिकल सर्विस के डिप्टी डॉयरेक्टर डॉ. एस. इलियाराजा बताते हैं, “आगरा के सिकंदरा स्थित शू सोल बनाने वाली फैक्ट्री के ऑफिस की सीलिंग में एक एशियाई पाम सीविट कैट फंस गईं थी. कई दिनों तक फंसे रहने की वजह से सीविट कैट गंभीर रूप से कमजोर हो गई थी. अब वाइल्ड लाइफ एसओएस की रेस्क्यू फैसिलिटी में देखभाल के साथ उसका इलाज हो रहा है.



असल में इंडस्ट्रीज के कर्मचारियों को कार्यालय की सीलिंग (छत) से रहस्यमयी आवाजें आने पर आश्चर्य हुआ. जब इधर-उधर देखा तो सीलिंग में टाइल्स और लकड़ी के फ्रेम में फंसी सीविट कैट को देखकर चौंक गए. इसके बाद मोबाइल नंबर (9917109666) पर वाइल्ड लाइफ एसओएस से संपर्क किया, जिसके बाद वन्यजीव संरक्षण संस्था से दो सदस्यीय बचाव दल फैक्ट्री पहुंच गया.
टीम को अत्यधिक सावधानी बरतनी थी, क्योंकि जानवर पहले से ही बहुत कष्ट में था. उन्होंने सावधानी से सीविट कैट को निकालने के लिए छत के पैनलों को हटाया और उसे सफलता पूर्वक रेस्क्यू केज में ले लिया”.

mystical voice, puja mantra, agra, SOS, wildlife, Civet cat, uttar pradesh, helpline, रहस्यमयी आवाज, पूजा मंत्र, आगरा, एसओएस, वन्य जीवन, सिवेट कैट, इटरप्रदेश, हेल्पलाइन
इसी सीविट कैट को एसओएस की टीम ने रेसक्यू किया है.


यह बोले एसओएस के सीईओ

वाइल्ड लाइफ एसओएस के सह-संस्थापक और सीईओ कार्तिक सत्यनारायण ने कहा, “वाइल्ड लाइफ एसओएस को अक्सर सीविट कैट से संबंधित कॉल्स के लिए संपर्क किया जाता है और हमें यह देखकर खुशी है कि लोग उनकी उपस्थिति के प्रति अधिक संवेदनशील हो रहे हैं. हम जनता से अनुरोध करते हैं कि वे हमारे संरक्षण के प्रयासों का समर्थन करते रहें और हमारे हेल्पलाइन नंबर पर ऐसी किसी भी स्थिति की तुरंत रिपोर्ट करें".

क्या है जंगल में रहने वाली सीविट कैट

एशियन पाम सीविट कैट (पैराडॉक्सुरस हेर्माफ्रोडिटस) बिल्ली की प्रजाति है, जो कई प्रकार के माहौल में जीवित रह सकती है. स्थानीय रूप से इसे 'कबर बिज्जू'  भी कहा जाता है. सीविट कैट ज़्यादातर फलों के बीज, जामुन और कॉफ़ी बीन्स खाती हैं. यह प्रजाति वन्यजीव संरक्षण अधिनियम, 1972 की अनुसूची II  के तहत संरक्षित है.

ये भी पढ़ें:-

Covid 19: कोरोना संक्रमण की महामारी के बीच दिल्ली में बढ़ाई गई श्‍मशान घाट और कब्रिस्‍तानों की संख्‍या

भारत को कोरोना के बीच मिली बड़ी कामयाबी: अब भारत में भी होगी महंगे मसाले हींग की खेती, जानिए इसके बारे में सबकुछ
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज