लाइव टीवी

3 साल पूरे होने पर गुमशुदा नजीब की मां आज क्यों बोलीं, ‘मुझे उनसे कोई शिकायत नहीं’
Badaun News in Hindi

News18Hindi
Updated: October 15, 2019, 1:42 PM IST
3 साल पूरे होने पर गुमशुदा नजीब की मां आज क्यों बोलीं, ‘मुझे उनसे कोई शिकायत नहीं’
नजीब की मां आज भी जंतर-मंतर पर उसकी तलाश किए जाने को लेकर प्रदर्शन करने जा रही हैं. (File Photo)

नजीब (Najeeb) की मां फातिमा (Fatima), इंस्पेक्टर सुबोध (Inspecter Subodh) की पत्नी और भीड़ के हाथों मुसलमान (Muslim) समझकर मार दिए गए साहिल की मां आज जंतर-मंतर (Jantar-Mantar) पर प्रदर्शन करेंगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 15, 2019, 1:42 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. तीन वर्ष पूर्व आज ही के दिन उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बदायूं (Badaun) का रहने वाला नजीब अहमद (Najeeb Ahmed) दिल्ली (Delhi) के जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) के हॉस्टल से अचानक गायब हो गया था. तब से लेकर आज तक देश की तीन टॉप सुरक्षा एजेंसियां नजीब को तलाश कर चुकी हैं, लेकिन अभी तक उसका कुछ पता नहीं चला है. नजीब की मां फातिमा नफीस (Fatima Nafis) भी उसकी तलाश में जुटी हुई हैं. तमाम तरह के अफवाहों और अटकलों के बीच उनका कहना है कि नजीब की तलाश में लगे लोगों से उन्हें कोई शिकायत नहीं है.

इसलिए दिल्ली पुलिस और सीबीआई नहीं करती परेशान

न्यूज़ 18 हिंदी से बात करते हुए जेएनयू के गायब छात्र नजीब की मां फातिमा ने कहा, 'हम नजीब को तलाश करने की मांग को लेकर जब भी कोई प्रदर्शन करते हैं तो पुलिस और दूसरी एजेंसी द्वारा कुछ लोगों को परेशान करना शुरू कर दिया जाता है. लेकिन पिछले तीन साल से मेरे पास न तो कभी कोई फोन आया और न ही मुझे थाने बुलाया गया. क्योंकि उन्हें पता है कि वो उस मां का सामना कैसे करेंगे जिसका बेटा तीन साल से गायब हो. उस मां के सवालों का जवाब कैसे देंगे. आखिर में वो लोग भी इंसान हैं. उनके दिल में भी मानवता है. लेकिन मैं जानती हूं कि वो मजबूर हैं, उन पर बड़े लोगों का प्रेशर है. सभी लोग कभी खराब नहीं हो सकते हैं.'



लापता नजीब अहमद की तलाश में जगह-जगह पोस्टर भी लग चुके हैं. (Demo Pic)




इस विवाद के चलते गायब हुआ था नजीब

नजीब के भाई हसीब अहमद का आरोप है कि, नजीब भाई जेएनयू के माही-मांडवी हॉस्‍टल के रूम नंबर 106 में रहते थे. उस वक्त हॉस्टल में यूनियन के चुनाव चल रहे थे. कुछ लोग कमरे में प्रचार के लिए आए थे. तभी कुछ कहासुनी हो गई. ये लोग अखिल भारतीय विद्वार्थी परिषद (एबीवीपी) से जुड़े हुए थे. बात काफी आगे तक बढ़ गई. भाई को तरह-तरह से परेशान किया गया. उसी के बाद उन्हें गायब कर दिया गया.

ये भी पढ़ें-

दिल्ली पुलिस, SITऔर CBI की जांच पूरी, अब भी लापता है JNU छात्र नजीब

नागपुर रेलवे स्टेशन पर चूहे पकड़ने को हर रोज होती है 166 कर्मचारियों की तैनाती, खर्च होते हैं 1.45 लाख रुपये

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बदायूं से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 15, 2019, 1:42 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading