नोएडा में ट्रैफिक रूल तोड़ा तो चलती कार या बाइक पर भी ऐसे कट जाएगा चालान, नए कैमरों पर हो रहा ट्रायल

नोएडा में चलती कार और बाइक पर कट जाएगा चालान, नए लगे कैमरों का हो रहा ट्रायल. Demo pic

नोएडा में चलती कार और बाइक पर कट जाएगा चालान, नए लगे कैमरों का हो रहा ट्रायल. Demo pic

Noida News: नोएडा की सड़कों पर लग रहे नए कैमरे बिना मास्क के चेहरों की तस्वीर भी लेंगे. साथ ही हाथ से चेहरा छुपाने वाले या पीछे बैठने वाले सवारी भी इसकी पकड़ से नहीं बच पाएंगे.

  • Share this:

नोएडा. सर्विलांस और कैमरों से नोएडा ट्रैफिक पुलिस को सपोर्ट करने वाली पुरानी कंपनी काम छोड़कर जा चुकी है. अब नई कंपनी ने ट्रैफिक पुलिस (Traffic Police) के साथ मिलकर जिम्मेदारी संभाली है. कंपनी ने कई जगह पर कैमरे लगाकर ट्रायल भी शुरू कर दिया है. कैमरे भी एक ऐसे खास सॉफ्टवेयर के साथ जोड़े गए हैं कि चलती कार और बाइक पर भी आपका चालान कट जाएगा. कार-बाइक (Car-Bike) की नंबर के साथ चलाने वाले और साथ बैठे इंसान का फोटो भी आ जाएगा. अगर आपने कैमरे के साथ हाथ से चेहरा छिपाने की कोशिश की तो वो यह मान लेगा कि आप मोबाइल (Mobile) पर बात कर रहे हैं. इसी तरह से बिना मास्क (Mask) या मास्क को नाक के नीचे लटकाने वालों का भी चालान कटेगा. ट्रायल के तौर पर नोएडा में अभी कुल 19 कैमरे लगाए गए हैं.

नोएडा में अब नई कंपनी के तौर पर वीहांत टेक्नोलाजी ट्रैफिक के काम में पुलिस को सपोर्ट करेगी. एक खास सॉफ्टवेयर से जुड़े यह कैमरे सड़क की एक लेन पर ही फोकस करेंगे. इन कैमरों के सामने से अगर कोई कार 140 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से भी निकलती है तो कार चलाने वाले के साथ-साथ उसकी बगल में बैठे इंसान और कार की नंबर प्लेट का फोटो साफ-साफ आ जाएगा.

अगर आपने मास्क नहीं लगाया है और कैमरे को धोखा देने के लिए आप चेहरे को हाथ से ढक लेते हैं तो कैमरा यह समझकर आपकी फोटो ले लेगा कि आप मोबाइल पर बात कर रहे हैं. हालांकि इस तरह के फोटो को कंट्रोल रूम में अलग कर दिया जाएगा. चेहरे पर गलत तरीके से मास्क लगाने वालों के फोटो भी यह कैमरा चलती कार या बाइक पर ही ले लेगा.

बाइक पर पीछे बैठी सवारी ने नहीं लगाया हेलमेट तो कटेगा चालान
आप बाइक से जा रहे हैं. आपने हेलमेट लगाया हुआ है. लेकिन आपके पीछे बैठे आपके दोस्त या भाई ने हेलमेट नहीं लगाया है तो यह कैमरा आपका बाइक की नंबर प्लेट समेत फोटो लेकर कंट्रोल रूम को भेज देगा. इतना ही नहीं अगर बाइक पर आप तीन सवारी है तो भी यह कैमरा आपकी फोटो ले लेगा.

Delhi-NCR में यहां ऑक्सीजन सिलेंडर संग मिल रही है कोरोना की दवाई

यह खासियत है इस सॉफ्टवेयर और कैमरों की



कैमरों के लिए मौसम सबसे बड़ी चुनौती है, इसके लिए पोल या कैंटिलीवर या गैंट्री पर सभी बाहरी उपकरण आइपी 66 रेटेड हैं. इसके चलते कैमरे बारिश और धूल से सुरक्षित रहते हैं. इन उपकरण की तापमान रेटिंग माइनस 5 डिग्री से 55 डिग्री तक है, जो इन्हें हर मौसम में काम करने लायक बनाती है. कंपनी से जुड़े अफसरों का कहना है कि अभी नोएडा में इस सॉफ्टवेयर का ट्रॉयल चल रहा है. ट्रॉयल पूरा होने के बाद पुलिस इसका जिम्मा संभालेगी. अभी तक जो फोटो कंट्रोल रूम को मिल रहे हैं, वही कंपनी को भी मिल रहे हैं.


कहां-कहां लगे हैं कैमरे और कहां चल रहा है ट्रायल

यहां लगे हैं छह कैमरे

रेड लाइट स्पाइस माल से सेक्टर 10 की ओर

सेक्टर-10 की तरफ से स्पाइस माल की ओर

सेक्टर 25-31 चौराहा की तरफ

यहां नौ कैमरे लगे हैं

सेक्टर 18 से सेक्टर 62 की ओर

स्पाइस माल से सिटी सेंटर की तरफ

सिटी सेंटर से स्पाइस माल की तरफ

सेक्टर 25-31 चौराहे पर ओवरब्रिज

यहां चार कैमरे लगे हैं

सेक्टर 18 की ओर

सेक्टर 62 की ओर

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज