Home /News /uttar-pradesh /

Noida: सॉल्वर गैंग के 18 गिरफ्तार, सीआरपीएफ और दिल्ली पुलिस का ASI भी है गैंग में शामिल

Noida: सॉल्वर गैंग के 18 गिरफ्तार, सीआरपीएफ और दिल्ली पुलिस का ASI भी है गैंग में शामिल

सॉल्वर गैंग के साथ ये 5 अभ्यर्थी भी गिरफ्तार की गईं.

सॉल्वर गैंग के साथ ये 5 अभ्यर्थी भी गिरफ्तार की गईं.

Solver Gang : पुलिस ने बताया कि इनलोगों ने ओयो होटल में अभ्यार्थियों और साथियों को सीटीईटी की परीक्षा का सॉल्व पेपर देने के लिए बुलाया था. सीटीईटी की परीक्षा आज यानी गुरुवार को होने वाली थी. पुलिस ने बताया कि सॉल्व पेपर सोनीपत के रहनेवाले विनय दहिया ने एक पेन ड्राइव में अंकित और राजेश को दिया था, जिसका प्रिंट निकलवा कर बुलाए गए अभ्यर्थियों को देना था. यह सॉल्व कॉपी अन्य अभ्यर्थियों को भी बेची जानी थी. लेकिन इसके पहले ही पुलिस ने अभियुक्तों को दबोच लिया. गिरफ्तार किए गए लोगों में 5 अभ्यर्थी हैं, जिनको सॉल्व पेपर देने थे.

अधिक पढ़ें ...

नोएडा. सीटीईटी पेपर लीक कर बेचने व फर्जी तरीके से परीक्षा दिलानेवाले गैंग के 18 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. इसमें राजस्थान के झुनझुन के रहनेवाले रिटायर्ड सीआरपीएफ अधिकारी सुभाष चंद्र का बेटा भवानी शर्मा भी है. इसका काम अभ्यार्थियों से संपर्क कर पेपर के लिए तैयार कराना था. वहीं दिल्ली पुलिस के 2006 बैच का एएसआई विकास इसमें मीडिएटर का काम करता था. इन सभी को सेक्टर 71 स्थित ओयो होटल से बुधवार रात 8:00 बजे गिरफ्तार किया गया है.

पुलिस ने बताया कि इनलोगों ने ओयो होटल में अभ्यार्थियों और साथियों को सीटीईटी की परीक्षा का सॉल्व पेपर देने के लिए बुलाया था. सीटीईटी की परीक्षा आज यानी गुरुवार को होने वाली थी. पुलिस ने बताया कि सॉल्व पेपर सोनीपत के रहनेवाले विनय दहिया ने एक पेन ड्राइव में अंकित और राजेश को दिया था, जिसका प्रिंट निकलवा कर बुलाए गए अभ्यर्थियों को देना था. यह सॉल्व कॉपी अन्य अभ्यर्थियों को भी बेची जानी थी. लेकिन इसके पहले ही पुलिस ने अभियुक्तों को दबोच लिया. गिरफ्तार किए गए लोगों में 5 अभ्यर्थी हैं, जिनको सॉल्व पेपर देने थे.

नोएडा को बनाया था ठिकाना

नोएडा में सीटीईटी का कोई भी परीक्षा केंद्र नहीं है, ऐसे में इन लोगों ने नोएडा को सॉफ्ट टारगेट मानते हुए यहीं पर प्लानिंग की और ओयो होटल को अपना ठिकाना बनाते हुए अभ्यार्थियों को यहीं पर बुलाया लेकिन इसकी भनक पुलिस को लग गई.

प्रति पेपर वसूलते थे 3 लाख

पुलिस ने बताया कि यह गैंग पिछले 4 से 5 वर्षों से सक्रिय है. इनका मुख्य काम सीटीईटी के पेपर लीक कर बेचना था. जिसके एवज में यह प्रति पेपर ढाई से 3 लाख रुपये वसूलते थे. जो अभ्यर्थी आज पकड़े गए हैं उनसे भी इन्होंने 9 लाख रुपए अपने अकाउंट में ट्रांसफर करवाए थे. ये लोग विनय दहिया के साथ मिलकर अपना गैंग ऑपरेट करते हैं.

विभिन्न परीक्षा केंद्रों के 50 प्रवेश पत्र बरामद

पुलिस ने बताया कि राम अवतार, राजेश, भावना शर्मा, रवि और अंकित के मोबाइल से विभिन्न परीक्षाओं के एडमिट कार्ड बरामद हुए हैं. इसके अलावा 50 प्रवेश पत्र विभिन्न परीक्षा केंद्रों के भी बरामद किए गए हैं.

गिरोह के 2 साथी फरार

संध्या, सुदेश, शर्मिला, शैली व पूनम – ये सभी अभ्यर्थी हैं. विनय दहिया ने सीटीईटी के पेपर को निकालकर 35 अभ्यर्थियों को पढ़ने के लिए दिया था. पेपर पढ़ने के बाद इन पांचों को हार्ड कॉपी देनी थी. लेकिन गिरफ्तारी के कुछ समय पहले कॉपी देनेवाले रवि और अंकित फरार हो गए हैं.

इंटरनेट कॉल का इस्तेमाल

विनय दहिया के पास तीन मोबाइल नंबर मिले हैं. जिसमें एक नंबर इंटरनेट कॉलिंग से संबंधित है. अधिकांश मामलों में इंटरनेट कॉल का इस्तेमाल करता था, ताकि मोबाइल ट्रैक न हो सके.

इन परीक्षाओं को करते थे टारगेट

गैंग एसएससी, जीडी इलाहाबाद हाई कोर्ट रिक्रूटमेंट परीक्षा, इंडियन कोस्ट गार्ड, एचएसएससी, सेंट्रल एयरमैन सिलेक्शन बोर्ड, यूपीएसई, एसएसबी, टीजीटी आदि प्रतियोगी परीक्षाओं के एडमिट कार्ड मिले हैं. इन परीक्षाओं में यह अपने सॉल्वर बढ़ाते हैं. जिसकी जांच की जा रही है.

यह हुई पहचान

राजेश सॉल्वर, भवानी शर्मा रिटायर्ड सीआरपीएफ, विकास एएसआई दिल्ली पुलिस 2006 बैच, शिवराम सिंह सीआरपीएफ 2007 बैच, संध्या, सुदेश, शर्मिला, शैली. पूनम अभ्यार्थी, रवि मीडिएटर, सुनील, राम अवतार अभ्यार्थियों से संपर्क और पेपर के लिए तैयार करना, सुनील जोशी व अनिल कुमार मीडिएटर,

Tags: Accused arrested, Noida news, Paper Leak

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर