Home /News /uttar-pradesh /

21 thousand flat buyers will get registry in jewar after cc and oc issued by yamuna authority dlnh

जेवर में 21 हजार फ्लैट खरीदारों का जल्द पूरा होगा रजिस्ट्री का सपना

अफसोस की कोई 8 साल से तो कोई 15 साल से घर मिलने की आस लगाए बैठा है. demo pic

अफसोस की कोई 8 साल से तो कोई 15 साल से घर मिलने की आस लगाए बैठा है. demo pic

फ्लैट (Flat) का कब्जा देने के दौरान बिल्डर (Builder) ने पूरा पैसा ले लिया. रजिस्ट्री के लिए पूछा तो जवाब मिला कि कुछ दिन में हो जाएगी. लेकिन 7 साल बीतने के बाद भी आज तक रजिस्ट्री नहीं हो सकी है. अथॉरिटी जाने पर जवाब मिलता है कि आपके बिल्डर ने ऑक्यूपेंसी सर्टिफिकेट (OC) और कंप्लीशन सर्टिफिकेट (CC) का पैसा जमा नहीं किया है. इस तरह के कई मामले सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) चले गए हैं. कोर्ट ने फैसला सुनाकर उसे सुराक्षित रख लिया है.

अधिक पढ़ें ...

    नोएडा. जेवर (Jewar) में रहने वाले फ्लैट खरीदारों (Flat Buyers) के लिए एक बड़ी खबर है. जल्द ही उनका फ्लैट की रजिस्ट्री का सपना पूरा हो जाएगा. यमुना अथॉरिटी (Yamuna Authority) ने इससे संबंधित आदेश जारी कर दिए हैं. शुरुआत में 16 सौ फ्लैट की रजिस्ट्री की जाएगी. गौरतलब रहे नोएडा-ग्रेटर नोएडा (Noida-Greater Noida) और जेवर में सवा लाख से ज्यादा ऐसे फ्लैट खरीदार हैं जो फ्लैट का 80 से 100 फीसद तक पैसा दे चुके हैं, लेकिन अभी तक उनके फ्लैट की रजिस्ट्री नहीं हुई है. कुछ को तो फ्लैट का कब्जा मिल गया है और कुछ को अभी तक नही मिला है. इसमे बहुत सारे तो ऐसे लोग भी हैं जो कोरोना (Crona)-लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान जरूरत होने पर भी बिना रजिस्ट्री अपने फ्लैट को नहीं बेच सके थे.

    1580 फ्लैट के लिए कम्पलीशन सर्टिफिकेट जारी करेगी अथॉरिटी

    जानकारों की मानें तो फ्लैट की रुकी हुई रजिस्ट्री करने का काम जेवर के एटीएस और गौर बिल्डर के प्रोजेक्ट से शुरू हो रहा है. दोनों ही प्रोजेक्ट के करीब 1580 फ्लैट की रजिस्ट्री होगी. लेकिन उससे पहले यमुना अथॉरिटी कम्पलीशन सर्टिफिकेट जारी करेगी. इसके बाद ही फ्लैट की रजिस्ट्री हो सकती है. जानकारों का यह भी कहना है कि इसके बाद 19 हजार से ज्यादा फ्लैट की रजिस्ट्री कराने का काम शुरू होगा. अथॉरिटी को सीसी का पैसा मिलना शुरू हो गया है.

    पूरा पैसा देने के बाद भी ऐसे फंस जाता है फ्लैट खरीदार

    नोएडा एस्टेट फ्लैट ओनर्स मेन एसोसिएशन (नेफोमा) अध्यक्ष अन्नू खान का कहना है, “जब कोई भी बिल्डर अपना प्रोजेक्ट तैयार करता है तो काम पूरा होने के बाद और अथॉरिटी का सभी तरह का बकाया चुकाने के बाद उसे अथॉरिटी की ओर से कम्पलीशन सर्टिफिकेट मिलता है. इस सर्टिफिकेट के बाद ही बिल्डर फ्लैट बुक कराने वाले बॉयर्स को फ्लैट पर कब्जा दे सकता है. लेकिन बहुत सारे बिल्डर ने बिना कम्पलीशन सर्टिफिकेट के ही बॉयर्स को कब्जा दे दिया है.

    यमुना एक्सप्रेसवे पर वीकेंड और खास मौकों पर ऐसे कटेगा टोल टैक्स, जानें प्लान

    लेकिन ऐसे मामलों पर अथॉरिटी भी खामोश है. रेरा चेयरमैन से भी मुलाकात कर चुके हैं, लेकिन कहीं से भी कोई राहत नहीं मिल रही है. कोरोना-लॉकडाउन के दौरान बुरी से बुरी मुसीबत में भी ऐसे लोग रजिस्ट्री न होने पर अपने फ्लैट को नहीं बेच सके और उनके अपने बिना इलाज के इस दुनिया को छोड़कर चले गए.”

    Tags: Jewar, Own flat, Supreme Court, Yamuna Authority

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर