होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /फिर थम गए नोएडा में चलने वालीं ई-साइकिलों के पहिए, जानें क्यों हो रही देरी  

फिर थम गए नोएडा में चलने वालीं ई-साइकिलों के पहिए, जानें क्यों हो रही देरी  

कई बार टेंडर जारी होने के बाद भी कंपनियां सामने नहीं आ रही हैं. Demo Pic

कई बार टेंडर जारी होने के बाद भी कंपनियां सामने नहीं आ रही हैं. Demo Pic

साल 2019 से नोएडा अथॉरिटी (Noida Authority) ई-साइकिल की योजना पर काम कर रही है. योजना के तहत 620 ई-साइकिल चलानी हैं. जा ...अधिक पढ़ें

    नोएडा. ई-साइकिल (E-Cycle) की सवारी तीन साल से नोएडा वालों के लिए मुंगेरी लाल के हसीन सपनों के जैसी बनी हुई है. नोएडा की सड़कों पर ई-साइकिल चलाने के वादे की मानों हवा निकल गई हो. ऐसा नहीं है कि नोएडा अथॉरिटी (Noida Authority) ने ई-साइकिल की सवारी कराने के लिए तैयारी नहीं की हो. शहरभर में ई-साइकिल स्टैंड  (E-Cycle Stand) भी बनकर तैयार हो चुके हैं. लेकिन कई बार टेंडर जारी होने के बाद भी कंपनियां सामने नहीं आ रही हैं. एक कंपनी आई भी तो उसकी साइकिल पुरानी और मानकों पर खरी नहीं उतर रहीं थी. इसी के चलते अथॉरिटी ने कंपनी को हरी झंडी नहीं दिखाई. अब एक बार फिर से अथॉरिटी ई-साइकिल चलवाने की तैयारी में लग गई है.

    दिसम्बर से यूलू कंपनी को करना था ई-साइकिल का संचालन

    नोएडा अथॉरिटी से जुड़े अफसरों की मानें तो दिसम्बर 2021 में एक बार फिर यूलू कंपनी को ही ई-साइकिल का संचालन करने का मौका मिला था. यह दूसरा मौका था जब यूलू कंपनी अकेले ही टेंडर प्रक्रिया का हिस्सा बनी थी. इससे पहले एग्रीमेंट पर साइन न होने की वजह से टेंडर प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ी थी. उसमे भी यूलू कंपनी शामिल थी. एक बार तो जब यूलू कंपनी को लैटर जारी होना था तो उससे पहले फाइल ही गुम हो गई थी. हालांकि फिर चुनाव आचार संहिता के चलते कंपनी को लैटर नहीं दिया जा सका था.

    आपके शहर से (नोएडा)

    नोएडा
    नोएडा

    किराए पर ई-साइकिल लेने का यह है तरीका

    नोएडा अथॉरिटी के अफसरों का कहना है कि ई-साइकिल की रफ्तार 25 किमी प्रति घंटा तक होगी. बैट्री निकालने के बाद साइकिल का वजन 60 किलो से ज्यादा नहीं होगा. उपभोक्ता ऐप के जरिए ई-साइकिल की सेवा किसी भी वक्त ली जा सकेगी. लेकिन इसके लिए पहले केवाईसी करानी होगी. इसके बाद डॉकिंग स्टेशन पर ऐप की मदद से साइकिल ऑन होगी. इतना ही नहीं डॉकिंग स्टेशन पर वापस आने के बाद साइकिल अपने आप लॉक भी हो जाएगी. ई-साइकिल की सेवा पूरे हफ्ते सुबह 5 से रात 11 बजे तक मिलेगी.

    नोएडा-ग्रेटर नोएडा के बीच शुरू हुआ एक और एक्सप्रेसवे का काम, जानें प्लान

    सीईओ खुद कर रही हैं ई-साइकिल योजना की मॉनिटरिंग

    नोएडा अथॉरिटी की लाख कोशिशों के बावजूद ई-साइकिल स्टैंड से निकलकर रोड पर नहीं आ पा रही हैं. तीन बार ई-साइकिल का संचालन करने के लिए टेंडर निकाले जा चुके हैं. बीते साल तो एक कंपनी आ भी गई थी, लेकिन जब एग्रीमेंट साइन करने की बारी आई तो कंपनी चलती बनी. एक बार प्रोजेक्ट से जुड़ी फाइल ही अथॉरिटी में नहीं मिल रही थी.

    अब एक बार फिर से टेंडर जारी करने की कार्रवाई शुरू हो गई है. लेकिन उससे पहले अथॉरिटी में एक अहम बैठक आयोजित की गई. अथॉरिटी की सीईओ ने खुद इस प्रोजेक्ट की मॉनिटरिंग करने का जिम्मा लिया. उनका कहना है कि वो देखना चाहती हैं कि कौन है जो नोएडा के लिए शुरू होने वाली ई-साइकिल में ब्रेक लगा रहा है.

    नोएडा में यहां से किराए पर ली जा सकती है ई-साइकिल

    नोएडा अथॉरिटी ने सेक्टर-2 एसबीआई बैंक, सेक्टर-3 भूमिगत वाहन पार्किंग, सेक्टर-6 प्राधिकरण कार्यालय, सेक्टर-12 जेड ब्लाक मार्केट, सेक्टर-15 मेट्रो स्टेशन, सेक्टर-16 मेट्रो स्टेशन, सेक्टर-16 ए एपीजे स्कूल, सेक्टर-18 बहुमंजिला पार्किंग, सेक्टर-18 मेट्रो स्टेशन, सेक्टर-20 प्राधिकरण कार्यालय, सेक्टर-21 ए नोएडा स्टेडियम, सेक्टर-25 मार्केट, सेक्टर-29 गंगा शॉपिंग कॉम्पलेक्स, सेक्टर-29 ब्रह्मपुत्र मार्केट, सेक्टर-30 जिला चाइल्ड अस्पताल के पास मिलेंगी.

    वहीं दूसरी ओर सेक्टर-33 एआरटीओ ऑफिस, सेक्टर-38 ए बॉटेनिकल गार्डन बस डिपो, सेक्टर-38 ए बॉटेनिकल गार्डन मेट्रो स्टेशन, सेक्टर-39 सिटी सेंटर मेट्रो स्टेशन, सेक्टर-39 जिला संयुक्त अस्पताल, सेक्टर-44 महामाया स्कूल सेक्टर-50 मार्केट, सेक्टर-52 मार्केट की अंदरूनी सड़क, सेक्टर-57 एयरटेल ऑफिस, सेक्टर-58 पुलिस चौकी, सेक्टर-59 मेट्रो स्टेशन, सेक्टर-60 एवीपी रोड, सेक्टर-62 टॉट मॉल मार्केट, सेक्टर-62 बी ब्लॉक मार्केट, सेक्टर-62 सैमसंग बिल्डिंग आदि जगहों पर डॉकिंग स्टेशन बनाए गए हैं.

    Tags: Delhi-ncr, Electric Bicycles, Noida Authority

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें