Home /News /uttar-pradesh /

7 textile parks are going to open in 7 cities in up including agra kanpur noida dlnh

यूपी के 7 शहरों में खास सुविधाओं के साथ बनेंगे टेक्सटाइल पार्क, देंखे लिस्ट

सरकार का मानना है कि प्रदेश में टेक्सटाइल और गारमेंट सेक्टर में विस्तार की बहुत संभावनाएं हैं. demo pic

सरकार का मानना है कि प्रदेश में टेक्सटाइल और गारमेंट सेक्टर में विस्तार की बहुत संभावनाएं हैं. demo pic

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) देश का तीसरा सबसे बड़ा कपड़ा उत्पादक राज्य है. कपड़ा उत्पादन (Textile Production) में राष्ट्रीय स्तर पर उत्तर प्रदेश की हिस्सेदारी 13.24 फीसद है. हैंडलूम (Handloom) की संख्या और सिल्क उत्पादन के लिहाज से यूपी का देश में पांचवां स्थान है. प्रदेश में 2.58 लाख हैंडलूम बुनकर और 5.5 लाख पावरलूम बुनकर हैं. यूपी में गैर लघु औद्योगिक क्षेत्र में 58 स्पिनिंग मिल और 74 टेक्सटाइल मिल (Textile Mill) हैं. कालीन उत्पादन में देश में यूपी की हिस्सेदारी 90 फीसद है. 

अधिक पढ़ें ...

    नोएडा. हाल के कुछ वर्षों में बांग्लादेश (Bangladesh), वियतनाम और इंडोनेशिया जैसे देश प्रमुख कपड़ा उत्पादकों के रूप में उभरे हैं. यूपी सरकार (UP Government) की मंशा इन देशों से आगे निकलने की है. सरकार का मानना है कि प्रदेश में टेक्सटाइल और गारमेंट सेक्टर (Textile and Garment Sector) में विस्तार की बहुत संभावनाएं हैं. इसी के चलते यूपी में पूर्ण रूप से इंटीग्रेटेड टेक्सटाइल पार्कों की कमी को पूरा करने के लिए सरकार ने एक बड़ा कदम उठाया है. इसी के चलते जल्द ही यूपी में 7 टेक्सटाइल पार्क (Textile Park) खोले जाने की तैयारी चल रही है. गौरतलब रहे नोएडा (Noida) में टेक्सटाइल पार्क बनाने के लिए 150 एकड़ जमीन का आवंटन किया जा चुका है.

    यूपी में यहां बनेंगे इंटीग्रेटेड टेक्सटाइल पार्क
    यूपी सरकार की योजना के तहत मेरठ, आगरा, झांसी, गोरखपुर, वाराणसी, लखनऊ और कानपुर रीजन में टेक्सटाइल पार्क खोले जाने की योजना पर काम चल रहा है. यहां निजी क्षेत्र के सहयोग से इंटीग्रेटेड टेक्सटाइल पार्क बनाए जाएंगे. पार्क में रेडीमेड फैक्ट्री शेड-भूखंड, वेयरहाउसिंग सुविधाएं, टूल रूम, रॉ मैटेरियल बैंक, टेस्टिंग और शोध व अनुसंधान के लिए कॉमन फैसिलिटी सेंटर होगा.

    कौशल उन्नयन केंद्र, ट्रक टर्मिनल व पार्किंग सुविधाएं, मशीनों की रिपेयरिंग के लिए दुकानें, कर्मचारियों के लिए डॉरमेट्री या हॉस्टल, इनक्यूबेशन सेंटर, फैशन इंस्टीट्यूट व ट्रेनिंग सेंटर आदि होंगे. हथकरघा और वस्त्रोद्योग विभाग पार्क आदि बनाने वाले निवेशकों को आवश्यक सहयोग देने के साथ निजी औद्योगिक पार्कों के लिए घोषित राज्य सरकार की नीति के लाभ दिलाने में मदद करेगा.

    नोएडा के साइलेंट जोन में ही हो रहा सबसे ज्यादा ध्वनि प्रदूषण, जानें वजह

    टेक्सटाइल पार्क में आ रही हैं 152 कंपनियां
    यूपी सरकार ने सूबे को उत्तर भारत का टेक्सटाइल हब बनाने के लिए काम शुरु कर दिया है. इसी कड़ी में यमुना अथॉरिटी ने नोएडा में अपैरल एक्सपोर्ट क्लस्टर (टेक्सटाइल पार्क) की स्थापना के लिए 150 एकड़ जमीन का आवंटन कर दिया है. इस तरह से नोएडा में यूपी का पहला टेक्सटाइल पार्क बनने जा रहा है. टेक्सटाइल पार्क में कुल 152 कंपनियां अपनी फैक्ट्री लगाएंगी.

    कंपनियों के आने से नोएडा में करीब 8365 करोड़ रुपए का इंवेस्टमेंट होगा. वहीं यह कंपनियां लगभग पांच लाख लोगों को रोजगार देंगी. जानकारों की मानें तो 2022 के पहले महीने में टेक्सटाइल और गारमेंट की 91 फैक्ट्रियों के निर्माण का कार्य शुरू हो जाएगा. 91 फैक्ट्रियों में करीब 2 लाख लोगों को रोजगार मिलेगा.

    Tags: Agra news, Kanpur news, Noida news, Textile Market, UP Government

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर