नोएडा के बालिका गृह से बरामद हुई महंगी घड़ियां, ब्रांडेड कपड़े व शराब की बोतल

सुषमा सिंह ने बताया कि निरीक्षण के दौरान यहां चार-पांच स्टोर ऐसे मिले हैं जिसमें कपड़े भरे हुए हैं. इनमें से अभी तक टैग नहीं निकाला गया है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 5, 2018, 6:06 PM IST
नोएडा के बालिका गृह से बरामद हुई महंगी घड़ियां, ब्रांडेड कपड़े व शराब की बोतल
राज्य महिला आयोग के उपाध्यक्ष सुषमा सिंह ने बालिका गृह का किया निरीक्षण
News18 Uttar Pradesh
Updated: September 5, 2018, 6:06 PM IST
देवरिया के शेल्टर होम में लड़कियों से देह व्यापार का मामला सामने आने के बाद समाज कल्याण विभाग लगातार छापेमारी कर रहा है. इसी क्रम में नोएडा के सेक्टर 12 स्थित साईं कृपा बालिका गृह में राज्य महिला आयोग के उपाध्यक्ष सुषमा सिंह ने मंगलवार शाम और बुधवार सुबह निरीक्षण करने पहुंची. इस दौरान बालिका गृह में काफी खामियां देखने को मिली. लड़कियों के पास से महंगी घड़ियां, ब्रांडेड कपड़े व चश्मे, महंगी शराब की बोतलें और अन्य सामान मिले हैं.

सुषमा सिंह ने बताया कि निरीक्षण के दौरान यहां चार-पांच स्टोर ऐसे मिले हैं, जिसमें कपड़े भरे हुए हैं. इनमें से अभी तक टैग नहीं निकाला गया है. स्टोर में खाने पीने की चीजें भरी हुई हैं. उन्होंने बताया कि जब यहां 0 से 10 साल के बच्चों का प्रमाण मांगा गया तो कागजों में उनकी फोटो नहीं थी. एंट्री गेट पर चौकीदार नहीं है. बच्चों के पास एक लैपटॉप मिला है, जिसे सिटी मजिस्ट्रेट को दे दिया गया है. उन्होंने कहा कि डीपीओ को निर्देशित किया गया है कि मिले साक्ष्य और लैपटॉप की जांच के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाए.

साईं कृपा बालिका गृह


बता दें, नोएडा में लगातार दूसरे दिन राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्ष सुषमा सिंह ने नोएडा के सेक्टर 12 में बने साईं कृपा बालिका गृह में छापेमारी की. इस बालिका गृह में 0 से 10 साल की 13 और 10 से 18 साल की 16 लड़कियां रहती हैं.

निरीक्षण के दौरान यहां की अलमारियों से शराब की बोतल, मंहगी घड़िया, परफ्यूम और बच्चों के ब्रांडेड कपड़े मिले हैं. जिनकी जांच की जा रही हैं. ये सांई कृपा बाल कुटीर धाम एक एनजीओ चलाती है. यह बालिका गृह करीब 30 साल से चल रहा है. इस एनजीओ को अंजना राजगोपाल चलाती हैं.



वहीं मामले में एनजीओ संचालिका का कहना है कि एक लड़की के पास ही मोबाइल है. उसने इंटर में अच्छे मार्क्स लाए थे इसलिए कोऑर्डिनेटर ने उसे दिया है. यह उसकी सेफ्टी के लिए है क्योंकि वह कॉलेज जाती है. वहीं शराब की बोतल और महंगी चीजें मिलने पर उन्होंने कहा कि वह शैम्पू की बोतल है. कुछ लड़कियों को चीजें इकठ्ठा करने का शौक होता है. अंजना राजगोपाल ने कहा कि इसके अलावा बालिका गृह में सामान भी ज्यादा आता है. लोग दान में देते हैं.

(रिपोर्ट: कुनाल जायसवाल)

यह भी पढ़ें:

यूपी PWD घोटाला: 6 अफसरों पर कसा शिकंजा, निलंबन की संस्तुति

यूपी: प्रतियोगी परीक्षाओं में पेपर लीक करने वालों पर लगेगा रासुका

Teachers' Day 2018: बेहाल हैं यूपी के 1.7 लाख शिक्षामित्र, 700 की गई जान
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर