Home /News /uttar-pradesh /

नोएडा में 800 किसानों के खिलाफ केस दर्ज, कार्रवाई की तैयारी में जुटी पुलिस, जानें पूरा मामला

नोएडा में 800 किसानों के खिलाफ केस दर्ज, कार्रवाई की तैयारी में जुटी पुलिस, जानें पूरा मामला

मालूम हो कि इससे पूर्व भी किसान परिषद के नेताओं के खिलाफ थाना सेक्टर 20 में कई मामले दर्ज हो चुके हैं. (फाइल फोटो- पीटीआई)

मालूम हो कि इससे पूर्व भी किसान परिषद के नेताओं के खिलाफ थाना सेक्टर 20 में कई मामले दर्ज हो चुके हैं. (फाइल फोटो- पीटीआई)

किसान नेता सुखबीर खलीफा (Sukhbir Khalifa) ने आरोप लगाया कि नोएडा प्राधिकरण के अधिकारी तानाशाही रवैया अपनाए हुए हैं. किसानों की जमीन लेने के बावजूद भी प्राधिकरण के अधिकारी न तो उन्हें उचित मुआवजा दे रहे हैं और न ही उनकी आबादी की समस्याओं का निस्तारण कर रहे हैं.

अधिक पढ़ें ...

    नोएडा. नोएडा प्राधिकरण (Noida Authority) के कार्यालय पर धरना प्रदर्शन के दौरान कार्यालय के गेट पर ताला लगाने और कर्मचारियों को बंधक बनाने वाले आरोपी किसानों (Kisan Andolan) के खिलाफ अब कार्रवाई होगी. जानकारी के मुताबिक, इसे मामले में नोएडा प्राधिकरण ने 800 किसानों के खिलाफ मामला दर्ज कराया है. पुलिस के एक अधिकारी ने इसके बारे में जानकारी दी है. अपर पुलिस उपायुक्त (जोन प्रथम) रणविजय सिंह (Rannvijay Singh) ने बताया कि नोएडा प्राधिकरण में तैनात हेड कांस्टेबल जितेंद्र प्रसाद ने थाना सेक्टर 20 में शिकायत की है कि किसान परिषद के अध्यक्ष सुखबीर खलीफा, सुधीर चौहान, उदल, सोनू, अंकित, ओमवीर, बिजेंदर सहित 38 आरोपियों समेत करीब 800 किसानों ने शुक्रवार को नोएडा प्राधिकरण के गेट पर ताला लगा दिया. तथा प्राधिकरण कार्यालय में तैनात लोगों को बंधक बनाया और सरकारी कार्य में बाधा डाला. उन्होंने बताया कि घटना की रिपोर्ट दर्ज कर पुलिस मामले की जांच कर रही है.

    मालूम हो कि इससे पूर्व भी किसान परिषद के नेताओं के खिलाफ थाना सेक्टर 20 में कई मामले दर्ज हो चुके हैं. आबादी के निस्तारण, बढे़ हुए दर से मुआवजा देने तथा आवासीय भूखंड आवंटित करने की मांग को लेकर 81 गांव के किसान करीब दो माह से नोएडा प्राधिकरण के खिलाफ धरना प्रदर्शन कर रहे हैं.

    आबादी की समस्याओं का निस्तारण कर रहे हैं
    किसान नेता सुखबीर खलीफा ने आरोप लगाया कि नोएडा प्राधिकरण के अधिकारी तानाशाही रवैया अपनाए हुए हैं. किसानों की जमीन लेने के बावजूद भी प्राधिकरण के अधिकारी ना तो उन्हें उचित मुआवजा दे रहे हैं, ना ही उनकी आबादी की समस्याओं का निस्तारण कर रहे हैं.

    बोर्ड के माध्यम से कराना चाहते हैं न की शासन के स्तर पर
    वहीं, बीते 24 अक्टूबर को खबर सामने आई थी कि पिछले दो माह से नोएडा प्राधिकरण के बाहर धरना प्रदर्शन कर रहे किसानों और प्राधिकरण के बीच किसानों की मांगों को लेकर सहमति बन गई. किसानों को वार्ता के लिए समय दिया गया था. भारतीय किसान परिषद के जितेंद्र ने बताया था कि मीटिंग में मुआवजा और जमीन का इस्तेमाल कॉमर्शियल की हमारी मांगे मान ली गई हैं. लेकिन हम इसे बोर्ड के माध्यम से कराना चाहते हैं न की शासन के स्तर पर.

    (इनपुट- भाषा)

    Tags: Kisan Andolan, Noida Authority, Noida news, Uttar pradesh news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर