Home /News /uttar-pradesh /

construction and demolition site waste will process in noida interlocking tiles dlnh

अब एक कॉल पर फ्री में उठेगा कंस्ट्रक्शन एंड डिमोलिशन वेस्ट, जानें प्लान

एक फोन कॉल पर मलबा उठाने के लिए कर्मचारी आ जाएंगे. यह एक प्राइवेट कंपनी के कर्मचारी होंगे, आपका मलबा फ्री में उठाएंगे. Demo Pic

एक फोन कॉल पर मलबा उठाने के लिए कर्मचारी आ जाएंगे. यह एक प्राइवेट कंपनी के कर्मचारी होंगे, आपका मलबा फ्री में उठाएंगे. Demo Pic

नोएडा (Noida) से निकलने वाले सी एंड डी वेस्ट (CnD Waste) से इंटरलाकिंग टाइल्स आदि बनाए जाएंगे. टाइल्स का इस्तेमाल नोएडा अथॉरिटी (Noida Authority) अपने यहां करेगी. वहीं डस्ट का इस्तेमाल गड्ढे भरने में किया जाएगा. वेस्ट जमा करने के लिए 14 कलेक्शन सेंटर नोएडा में बनाए गए हैं. वेस्ट की जानकारी देने के लिए एक मोबाइल नंबर भी जारी किया गया है. सेक्टर-80 में बने प्लांट पर हर रोज 300 टन वेस्ट को रिसाइकिल किया जा सकेगा.

अधिक पढ़ें ...

नोएडा. अगर आप नोएडा (Noida) में नया घर-ऑफिस या फैक्ट्री बनवा रहे हैं, पुरानी बिल्डिंग को तुड़वा रहे हैं तो निकलने वाले मलबे को लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं है. एक फोन कॉल पर मलबा उठाने के लिए कर्मचारी आ जाएंगे. यह एक प्राइवेट कंपनी के कर्मचारी होंगे, आपका मलबा फ्री में उठाएंगे. इसके लिए नोएडा अथॉरिटी (Noida Authority) ने एक प्लान तैयार किया है. प्लान के तहत कंपनी ने नोएडा के सेक्टर-80 में अपना कंस्ट्रक्शन एंड डिमोलिशन वेस्ट (CnD Waste) प्लांट बनाया है. नोएडा से निकलने वाले मलबे को यहां रिसाइकिल किया जाएगा. मलबा उठाने के लिए नोएडा में 14 कलेक्शन सेंटर बनाए गए हैं.

घर, ऑफिस और होटल-रेस्टोरेंट से कूड़ा उठाएगी कंपनी

नोएडा अथॉरिटी और कंपनी के बीच हुए समझौत के मुताबिक कंपनी घर, ऑफिस, होटल-रेस्टोरेंट, पब्लिक प्लेस और कंस्ट्रक्शन साइट से कूड़ा उठाएगी. यह मलबा पूरी तरह से फ्री में उठाया जाएगा. मलबा इकट्ठा करने के लिए शहर में 14 कलेक्शन सेंटर भी बनाए गए हैं. हर सेंटर की जानकारी अथॉरिटी की वेबसाइट पर डाल दी जाएगी. इसके साथ ही उस कलेक्शन सेंटर से जुड़े व्यक्ति का मोबाइल नंबर भी दिया जाएगा. अभी प्लांट के नंबर 18008919657 पर भी फोन किया जा सकता है.

नोएडा शहर में निकलने वाले मलबे से इंटरलॉकिंग टाइल्स और ईटें बनाई जाएंगी. नोएडा अथॉरिटी ने इसके लिए कंपनी को सेक्टर-80 में जगह दी है. गौरतलब रहे शहर में लगातार निर्माण कार्य चलता रहता है. लोग अपने मलबे को इधर-उधर फेंक देते हैं. इससे शहर में सफाई व्यवस्था बिगड़ती है. इसके साथ ही शहर में प्रदूषण भी फैलता है.

2 महीने तक पर्थला गोलचक्कर पर रहेगा ट्रैफिक रूट डायवर्जन, जानें प्लान

कूड़े को रिसाइकिल करने में पहले नम्बर पर है यह राज्य

राज्य में हर रोज निकलने वाले कूड़े को रिसाइकिल करने में मध्य प्रदेश पहले नम्बर पर है. मध्य प्रदेश में हर रोज 6424 मीट्रिक टन कूड़ा निकलता है. लेकिन निकलने वाले कूड़े का 80 फीसद हिस्सा रिसाइकिल कर लिया जाता है. इसी तरह से दूसरे और तीसरे नम्बर पर तेलंगाना 78 और गुजरात 75 फीसद हैं. सबसे कम रिसाइकिल 9 प्रतिशत कूड़ा पश्चिम बंगाल करता है. यहां हर रोज 7700 मीट्रिक टन कूड़ा निकलता है. टॉप 10 राज्यों में राजस्थान 68, तमिलनाडु 60, उत्तराखण्ड 58, दिल्ली-महाराष्ट्र 55 और कर्नाटक 37 फीसद है.

हर घर से कूड़ा उठाने में अव्वल हैं गुजरात और मध्य प्रदेश

मंत्रालय की ओर से जारी रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि किस राज्य में कितने वार्ड हैं. साथ ही कितने वार्ड में हर एक घर से रोज कूड़ा उठाया जा रहा है. रिपोर्ट की मानें तो सभी वार्ड के हर घर से हर रोज कूड़ा उठाने के मामले में गुजरात अव्वल है. गुजरात में 1415 वार्ड हैं और हर रोज सभी वार्ड के हर घर से कूड़ा उठाया जाता है. दूसरे नम्बर पर मध्य प्रदेश है. मध्य प्रदेश में 6999 वार्ड हैं और सभी वार्ड के हर एक घर से रोजाना कूड़ा उठाया जाता है.

Tags: Air pollution, Construction work, Noida Authority

अगली ख़बर