• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • Noida: बच्चों के लिए हर मिनट 1000 लीटर ऑक्सीजन बनाएगा कोविड अस्पताल का यह प्लांट

Noida: बच्चों के लिए हर मिनट 1000 लीटर ऑक्सीजन बनाएगा कोविड अस्पताल का यह प्लांट

बच्चों के लिहाज से कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए नोएडा के अस्पताल में तैयारियां चल रही हैं. Demo Pic

बच्चों के लिहाज से कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए नोएडा के अस्पताल में तैयारियां चल रही हैं. Demo Pic

Noida COVID-19 Hospital: बच्चों पर कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए नोएडा कोविड अस्पताल में पीडियाट्रिक आईसीयू (ICU) और आईसोलेशन वार्ड (Isolation Ward) तैयार किया गया है. इसे बच्चों के प्ले-स्कूल की तर्ज पर बनाया गया है.

  • Share this:

    नोएडा. कोरोना (Corona) की तीसरी लहर की आशंकाओं के बीच नोएडा के कोविड अस्पतालों (Noida Covid Hospital) को चाक-चौबंद किया जा रहा है. खासतौर से ऑक्सीजन की डिमांड को पूरा करने के लिए हर मुमकिन इंतजाम किए जा रहे हैं. नोएडा सेक्टर-39 के कोविड अस्पताल में भी एक ऑक्सीजन प्लांट शुरु किया गया है. यह प्लांट एक मिनट में एक हजार लीटर ऑक्सीजन सप्लाई करेगा. तीसरी लहर में कोरोना के बच्चों पर अटैक को देखते हुए अस्पताल में पीडियाट्रिक आईसीयू (ICU) और आईसोलेशन वार्ड (Isolation Ward) तैयार किया गया है.

    नोएडा सेक्टर-39 के इस कोविड अस्पताल को बीते साल अगस्त में शुरू किया गया था. अभी तक के मौजूदा इंतजाम के तहत सिर्फ 200 मरीजों तक ही ऑक्सीजन पहुंच पा रही थी. लेकिन अब अस्पताल में प्रेशर स्विंग एडसॉर्बेशन की तकनीक पर ऑक्सीजन प्लांट तैयार किया गया है. यह एक साथ 400 बिस्तारों तक ऑक्सीजन सप्लाई करेगा.

    इस प्लांट की लागत 7 लाख रुपए आई है. यह प्लांट हवा में से ऑक्सीजन अलग कर उसे मरीजों के बिस्तर तक सप्लाई करेगा. जानकारों का कहना है कि इस ऑक्सीजन की क्वालिटी दूसरी ऑक्सीजन के मुकाबले खासी अच्छी होती है.

    UP RERA के फैसले से 2 साल तक टल सकता है फ्लैट पर कब्जा, बिल्‍डर्स खुश

    बच्चों के लिए प्ले क्लास की तर्ज पर है अस्पताल
    अस्पताल से जुड़े जानकारों की मानें तो तीसरी लहर बच्चों को भी अपनी चपेट में ले सकती है. इसलिए इस कोविड अस्पताल को प्ले क्लास की तर्ज पर तैयार किया गया है. अस्पताल में 30 बिस्तर का पीडियाट्रिक आईसीयू तैयार किया गया है. वहीं 70 बिस्तर वाला आइसोलेशन वार्ड भी बनाया गया है. आइसोलेशन वार्ड में वेंटिलेटर, एचएफएनसी और बाई-पेप जैसी इमरजेंसी वाली सुविधाएं भी होंगी.

    डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ के लिए हो रही हैं वर्कशॉप
    तीसरी लहर में इलाज के दौरान किसी भी तरह की रुकावट न आए, बीमारी को समझने में डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ का वक्त खराब न हो, इसके लिए इंटरैक्टिव मैननिकिन पर व्यावहारिक प्रशिक्षण दिया जा रहा है. जहां वो तकनीकों का परीक्षण भी कर सकते हैं. कोविड और नॉन कोविड मरीजों के लिए विभिन्न मॉड्यूल तैयार किए गए हैं. बच्चों के इलाज से संबंधित वेंटिलेटर, सीपीएपी, एचएफएनसी, इंट्रावेनस लाइन, बीएलएस और एसीएलएस के संचालन का भी प्रशिक्षण दिया गया.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज