होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Crime Against Women: 2021 में NCW को मिलीं कुल शिकायतों में UP के मामले सबसे ज्यादा

Crime Against Women: 2021 में NCW को मिलीं कुल शिकायतों में UP के मामले सबसे ज्यादा

NCW को 2021 में कुल 31 हजार शिकायतें मिलीं, जिनमें यूपी से मिलीं 15,828.

NCW को 2021 में कुल 31 हजार शिकायतें मिलीं, जिनमें यूपी से मिलीं 15,828.

Crime in UP : एनसीडब्ल्यू के आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, सबसे अधिक आबादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश में महिलाओं के खिलाफ अ ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली. राष्ट्रीय महिला आयोग (NCW) को साल 2021 में महिलाओं के खिलाफ अपराध की करीब 31 हजार शिकायतें मिलीं, जो 2014 के बाद सबसे अधिक हैं. इनमें से आधे से ज्यादा मामले उत्तर प्रदेश के हैं. 2020 की तुलना में इन शिकायतों में 30 प्रतिशत की वृद्धि दिखी. 2020 में 23,722 शिकायतें प्राप्त हुई थीं.

    एनसीडब्ल्यू के आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, सबसे अधिक आबादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश में महिलाओं के खिलाफ अपराधों की सबसे अधिक 15,828 शिकायतें दर्ज की गईं, इसके बाद दिल्ली में 3,336, महाराष्ट्र में 1,504, हरियाणा में 1,460 और बिहार में 1,456 शिकायतें दर्ज की गईं. कुल दर्ज हुई 30,864 शिकायतों में से अधिकतम 11,013 शिकायतें सम्मान के साथ जीने के अधिकार से जुड़ी थीं. इसके बाद घरेलू हिंसा की 6,633 और दहेज उत्पीड़न की 4,589 शिकायतें थीं.

    आंकड़ों के मुताबिक, सम्मान के साथ जीने के अधिकार और घरेलू हिंसा से जुड़ी सबसे ज्यादा शिकायतें यूपी से मिलीं. एनसीडब्ल्यू को 2014 के बाद से प्राप्त शिकायतों की संख्या पिछले साल सबसे अधिक रही. 2014 में कुल 33,906 शिकायतें प्राप्त हुई थीं. आयोग की प्रमुख रेखा शर्मा ने इससे पहले कहा था कि शिकायतों में वृद्धि इसलिए हो रही है कि आयोग लोगों को अपने काम के बारे में ज्यादा जागरूक बना रहा है. शर्मा ने कहा, ‘इसके अलावा, आयोग ने हमेशा महिलाओं की मदद के लिए नई पहल शुरू करने का काम किया है. इसके अनुरूप, हमने जरूरतमंद महिलाओं को सहायता सेवाएं प्रदान करने के और उनकी शिकायतें दर्ज करने के लिए चौबीसों घंटे का एक हेल्पलाइन नंबर शुरू किया है.’

    आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

    दिल्ली-एनसीआर
    दिल्ली-एनसीआर

    जुलाई से सितंबर 2021 तक हर महीने 3,100 से अधिक शिकायतें प्राप्त हुईं, आखिरी बार 3,000 से अधिक शिकायतें नवंबर 2018 में प्राप्त हुई थीं, जब भारत का ‘मीटू’ आंदोलन अपने चरम पर था. एनसीडब्ल्यू के आंकड़ों के अनुसार, महिलाओं के शील भंग या छेड़छाड़ के अपराध के संबंध में 1,819 शिकायतें प्राप्त हुई हैं, बलात्कार और बलात्कार के प्रयास की 1,675 शिकायतें, महिलाओं के प्रति पुलिस की उदासीनता की 1,537 और साइबर अपराधों की 858 शिकायतें प्राप्त हुई हैं.

    साइबर सुरक्षा के बारे में जानकारी प्रदान करने की दिशा में काम करने वाली एक गैर-लाभकारी संस्था, ‘आकांक्षा श्रीवास्तव फाउंडेशन’ की संस्थापक, आकांक्षा श्रीवास्तव ने कहा कि जब शिकायतें बढ़ती हैं तो यह अच्छी बात है क्योंकि इसका मतलब है कि अधिक महिलाओं में बोलने का साहस है और अब इसके लिए मंच उपलब्ध है और वे जानती हैं कि कहां शिकायत करनी है.

    Tags: Crime against women, Crime in up, NCW

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें