• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • Noida News: 15 हजार फ्लैट खरीदार भी हैं सुपरटेक बिल्डर से पीड़ित, रेंट भी दे रहे और EMI भी

Noida News: 15 हजार फ्लैट खरीदार भी हैं सुपरटेक बिल्डर से पीड़ित, रेंट भी दे रहे और EMI भी

सुपरटेक बिल्डर के खिलाफ इकोविलेज सोसाइटी के फ्लैट बॉयर्स में भी बेहद नाराजगी है.

सुपरटेक बिल्डर के खिलाफ इकोविलेज सोसाइटी के फ्लैट बॉयर्स में भी बेहद नाराजगी है.

Noida Supertech News: फ्लैट खरीदार (Flat Buyers) की एसोसिएशन नेफोमा (Nefoma) और नेफोवा (Nefowa) लगातार इस मुद्दे को अथॉरिटी और बिल्डर के सामने उठा रही है, लेकिन समस्या जस की तस है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नोएडा. ऐसा नहीं है कि सुपरटेक (Supertech) की एमरॉल्ड कोर्ट सोसाइटी में रहने वाले ही बिल्डर से परेशान हैं. सुपरटेक कंपनी की 3 और ऐसी सोसाइटी हैं, जिनके 15 हजार से ज्यादा फ्लैट खरीदार परेशान घूम रहे हैं. तीन बैठकें होने के बाद ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी (Noida Authority) भी उनकी समस्या का समाधान कराने में नाकाम साबित हुई है. 90 और बहुत सारे केस में 100 फीसद तक फ्लैट का पैसा देने के बाद भी खरीदार को अभी तक रजिस्ट्री नहीं मिली है. फ्लैट खरीदार की एसोसिएशन नेफोमा (Nefoma) और नेफोवा (Nefowa) लगातार इस मुद्दे को अथॉरिटी और बिल्डर के सामने उठा रही है, लेकिन समस्या जस की तस है.

    इको विलेज 1 में रहने वाले और नेफोवा के सीनियर वाइस प्रेसीडेंट मनीष कुमार ने बताया, ‘फ्लैट बुक कराने के करीब 7-8 साल बाद तो बिल्डर ने प्रोजेक्ट तैयार किए. उस पर भी जब हमें 4-5 साल पहले फ्लैट पर कब्जा मिला तो उसकी अभी तक रजिस्ट्री नहीं हुई है. जब भी बिल्डर से रजिस्ट्री की बात करो तो वो टाल जाता है.

    उनका आरोप है कि ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी भी इस मामले में हमारी कोई मदद नहीं कर रही है. अथॉरिटी का कहना है कि जब तक बिल्डर अथॉरिटी का बकाया नहीं चुकाएगा, रजिस्ट्री नहीं हो सकती है. मनीष ने बताया कि सही बात तो यह है कि बकाया वसूलने के लिए अथॉरिटी सख्त कदम भी नहीं उठाती है.

    बोले फ्लैट बॉयर्स- बिल्डर घर बैठकर नियम बनाते थे, अथॉरिटी शिकायत नहीं सुनती थी, लेकिन आज कोर्ट ने सुन ली

    बेनतीजा रहीं बिल्डर, अथॉरिटी और फ्लैट खरीदार की 3 बैठकें

    हाल ही में एक बार फिर इको विलेज 1, 2  और 3 के पीड़ित फ्लैट खरीदार ने ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी के कैम्प ऑफिस के सामने प्रदर्शन किया था. इसके बाद तय हुआ कि अथॉरिटी बिल्डर और फ्लैट खरीदार को संग बैठाकर परेशानी का हल निकालने की कोशिश करेगी. हुआ भी ऐसा ही है. तीन अलग-अलग तारीखों में अथॉरिटी ने इको विलेज 1, 2  और 3 के पीड़ित फ्लैट बायर्स की अपनी मौजूदगी में और अपने ही दफ्तर में बैठकें आयोजित कराईं. इस बैठक में कई सियासी लोग भी शामिल हुए, लेकिन नतीजे वही ढाक के तीन पात रहे.

    हाउस रेंट और ईएमआई दोनों दे रहे हैं फ्लैट मालिक  

    इको विलेज 2 के मिहिर गौतम का कहना है कि सही बात तो यह है कि हमारी परेशानी को कोई नहीं समझ रहा है. बिल्डर हमें हर बार टाल देता है और अथॉरिटी कोई कार्रवाई करती नहीं है. यही वजह है कि आपने कभी ऐसे फ्लैट मालिक नहीं देखे होंगे जो हाउस रेंट भी दे रहे हों और बैक की ईएमआई भी चुका रहे हों.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज