Home /News /uttar-pradesh /

Noida News: नोएडा-ग्रेटर नोएडा के हजारों फ्लैट खरीदारों के लिए बुरी खबर, 1 लाख रुपये तक का लग सकता है झटका

Noida News: नोएडा-ग्रेटर नोएडा के हजारों फ्लैट खरीदारों के लिए बुरी खबर, 1 लाख रुपये तक का लग सकता है झटका

नोएडा और ग्रेटर नोएडा के लाखों फ्लैट बॉयर्स रजिस्ट्री न होने से परेशान हैं.

नोएडा और ग्रेटर नोएडा के लाखों फ्लैट बॉयर्स रजिस्ट्री न होने से परेशान हैं.

Noida News: बिल्‍डर्स ने वक्‍त रहते फ्लैट की रजिस्‍ट्री नहीं कराई. अब बदले प्रावधानों के तहत फ्लैट खरीदारों को रजिस्‍ट्री कराने के लिए 50 हजार से 1 लाख रुपये तक खर्च करने पड़ सकते हैं.

    नोएडा. ग्रेटर नोएडा और नोएडा (Noida) के हजारों फ्लैट खरीदार चक्की के दो पाट के बीच पिस रहे हैं. एक तो कई साल से उनके फ्लैट की रजिस्ट्री नहीं हुई है. दूसरा यह कि अगर अब रजिस्ट्री हुई तो फ्लैट खीरदार को 50 हजार से लेकर 1 लाख रुपये तक ज्यादा देने होंगे. रजिस्ट्री (Registry) में देरी होने की वजह वो बिल्डर्स हैं, जिन्होंने यह फ्लैट (Flat) बेचे हैं, लेकिन अब 1 लाख रुपये तक का अतिरक्त खर्च का भार फ्लैट खरीदार को ही उठाना पड़ेगा. इस मामले में फ्लैट बायर्स को नोएडा और ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी (Greater Noida Authority) से भी किसी तरह की मदद की आस नहीं दिख रही है. फ्लैट खरीदारों की दो एसोसिएशन नोएडा एस्टेट फ्लैट ओनर्स मेन एसोसिएशन (Nefoma) और नोएडा एक्सटेंशन फ्लैट ओनर्स वेलफेयर एसोसिएशन (Nefowa) लगातार इसके खिलाफ प्रदर्शन कर रही हैं.

    नेफोमा अध्यक्ष अन्नू खान का कहना है कि खबरों के मुताबिक 18 अगस्त से एक बार फिर सर्किल रेट बढ़ने जा रहे हैं. आने वाले 6-7 दिन में तो रजिस्ट्री होने के कोई आसार नजर नहीं आ रहे हैं. इस हिसाब से जिनके फ्लैट की कीमत 50 से 60 लाख रुपये है, उन्हें 50 हजार रुपये और जिनके फ्लैट की कीमत 1 करोड़ है उन्हें 1 लाख रुपये तक रजिस्ट्री में खर्च करने पड़ेंगे.

    यह सब बिल्डर्स की गलती की वजह से हो रहा है. असल में जिन बिल्डर्स ने ये फ्लैट बेचे हैं, उन्होंने अभी तक अथॉरिटी में बकाया पैसा जमा नहीं कराया है. बकाया पैसा जमा न होने पर अथॉरिटी ने कड़ा कदम उठाते हुए बिल्डर्स के प्रोजेक्ट से संबंधित फ्लैट की रजिस्ट्री पर रोक लगा दी. बकाया जमा न करने वाले बिल्डर्स के खिलाफ अथॉरिटी ने कोई कदम नहीं उठाया है. फ्लैट खरीदार तो वक्त से रजिस्ट्री कराना चाहते थे, लेकिन बिल्डर की टाल-मटोल और अथॉरिटी की खामोशी की वजह से वो अभी तक रजिस्ट्री नहीं करा पाए.

    वक्‍त से होती रजिस्‍ट्री तो 20 हजार ही होते खर्च
    नेफोमा के मनीष कुमार बताते हैं कि अगर बिल्डर ने फ्लैट खरीदारों के साथ चीटिंग नहीं की होती तो रजिस्ट्री हो चुकी होती और रजिस्ट्री कराने के लिए भी उन्हें सिर्फ 20 हजार रुपये तक ही खर्च करने पड़ते. वक्‍त के साथ यूपी सरकार ने नए नियम बना दिए और रजिस्ट्री कराने के लिए फ्लैट की कीमत का 1 फीसद सरकार को देने होंगे. अब तो हम दोहरी मार झेल रहे हैं. फ्लैट की अभी तक रजिस्ट्री नहीं हुई है और रजिस्ट्री कराने की फीस भी बढ़ती जा रही है.

    Tags: Greater noida news, Noida Authority, Own flat, UP Government

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर