Home /News /uttar-pradesh /

flat seiz of bike bot scam accused rajesh in noida by police dlnh

बाइक बोट कंपनी के डायरेक्टर का फ्लैट सीज, सुविधाएं देखकर पुलिस भी दंग

बाइक बोट मामले में राजेश ने मुख्य आरोपी संजय भाटी के साथ मिलकर कई लोगों से ठगी की थी. news18 hindi

बाइक बोट मामले में राजेश ने मुख्य आरोपी संजय भाटी के साथ मिलकर कई लोगों से ठगी की थी. news18 hindi

पुलिस ने बुधवार को बाइक बोट (Bike Bot) कंपनी में निदेशक रहे राजेश भारद्वाज के नोएडा सेक्टर-121 स्थित क्लियो काउंटी सोसाइटी में के आलीशान फ्लैट (Flat) को सीज कर दिया है. पुलिस (Police) ने फ्लैट के बाहर नोटिस भी चस्पा कर दिया है. गौतम बुद्ध नगर (Gautam Budh Nagar) पुलिस आरोपी राजेश की और दूसरी संपत्तियों को खंगाल रही है. अरबों रुपये के घोटाले में निदेशक राजेश भी हिस्सेदार है. सीबीआई भी बाइक बोट घोटाले में एफआईआर दर्ज कर चुकी है.

अधिक पढ़ें ...

    नोएडा. बाइक बोट घोटाले (Bike Bot Scam) के एक और मुख्य आरोपी का फ्लैट सीज किया गया है. यह आरोपी राजेश भारद्वाज कंपनी में डायरेक्टर बताया जा रहा है. कोर्ट के आदेश पर पुलिस (Police) ने बुधवार की दोपहर फ्लैट (Flat) को सीज कर दिया है. फ्लैट की कीमत करीब 2 करोड़ से ज्यादा बताई जा रही है. फ्लैट के अंदर के इंटीरियर को देखकर गौतम बुद्ध नगर (Gautam Budh Nagar) पुलिस भी दंग रह गई. पुलिस आलीशान फ्लैट के दरवाजे पर नोटिस चस्पा कर दिया है. राजेश पर आरोप है कि उसने बाइक बोट कंपनी के नाम पर बुलंदशहर (bulandshahr) के सैकड़ों लोगों को करोड़ों रुपये का चूना लगाया है.

    अंदर से ऐसा दिखता है राजेश का आलीशान फ्लैट

    जानकारों की मानें तो फ्लैट को सीज करने पहुंची कासना पुलिस जब फ्लैट के अंदर पहुंची तो एक-एक चीज को देखकर दंग रह गई. राजेश का फ्लैट 4 बीएचके है. हर कमरे में एसी लगा हुआ है. इतना ही नहीं सभी बाथरूम में बाथटब बने हुए थे. फ्लैट का इंटीरियर भी आला दर्जे का है.

    पुलिस का कहना है कि राजेश भारद्वाज मूलरूप से बुलंदशहर के खुर्जा का निवासी है. बाइक बोट मामले में राजेश ने मुख्य आरोपी संजय भाटी के साथ मिलकर कई लोगों से ठगी की थी. राजेश के खिलाफ दादरी कोतवाली में मुकदमे दर्ज हैं. बाइक बोट घोटाले में शामिल सभी आरोपियों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की जा रही है. आरोपियों पर गैंगस्टर एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज है. जैसे-जैसे आरोपियों की संपत्ति का पता चलेगा आगे की कार्रवाई की जाएगी.

    10 अप्रैल को सुपरटेक के सियान और एपेक्स टावर में होंगे विस्फोट, जानें प्लान

    ऐसे समझें पूरे बाइक बोट घोटाले को

    बाइक-बोट घोटाला को साधारण शब्दों में इस तरह समझा जा सकता है कि ओला और उबर जैसी कंपनियों की तर्ज पर बाइक टैक्सी चलवाने का झांसा देकर एक प्रोजेक्ट लांच करवाने की तैयारी की घोषणा की गई थी, इसका झांसा देकर हजारों-लाखों निवेशकों से करोड़ों रूपये की ठगी की गई थी. ईडी के मुताबिक, बाइक-बोट कंपनी ने करीब एक लाख 75 हजार निवेशकों को काफी मोटे मुनाफे का लालच देकर करीब तीन हजार रुपये का निवेश करवाया. लोगों से पैसे निवेश करवाने के बाद उस फंड को फर्जी कंपनियों और ट्रस्ट में दान के नाम पर सारी रकम खपा दी गई. उसके बाद उस दान वाली रकम को कुछ कमीशन देकर संचालकों ने फिर से घुमाकर अपने खातों में ले लिया था.

    बाइक-बोट घोटाला को साधारण शब्दों में इस तरह समझा जा सकता है कि ओला और उबर जैसी कंपनियों की तर्ज पर बाइक टैक्सी चलवाने का झांसा देकर एक प्रोजेक्ट लांच करवाने की तैयारी की घोषणा की गई थी. इसका झांसा देकर हजारों-लाखों निवेशकों से करोड़ों रूपये की ठगी की गई थी. ईडी के मुताबिक बाइक-बोट कंपनी ने करीब 1 लाख 75 हजार निवेशकों को काफी मोटे मुनाफे का लालच देकर करीब 3000 रुपये का निवेश करवाया.

    Tags: Bike, Gautam budh nagar, Noida crime, Police

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर