Home /News /uttar-pradesh /

Noida News: सुपरटेक ट्विन टावर को ध्‍वस्‍त करने में कितना विस्‍फोटक लगेगा? पता लगाने पहुंचे विदेशी इंजीनियर

Noida News: सुपरटेक ट्विन टावर को ध्‍वस्‍त करने में कितना विस्‍फोटक लगेगा? पता लगाने पहुंचे विदेशी इंजीनियर

Noida News: सुपरटेक के ट्विन टावर को गिराने की तैयारी तेज हो गई है. स्थिति का आकलन करने के लिए दक्षिण अफ्रीका से इंजीनियर आए हैं. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

Noida News: सुपरटेक के ट्विन टावर को गिराने की तैयारी तेज हो गई है. स्थिति का आकलन करने के लिए दक्षिण अफ्रीका से इंजीनियर आए हैं. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

Supertech Twin Tower Demolition: नोएडा सेक्‍टर-93A स्थित सुपरटेक के ट्विन टावर को गिराने की तैयारियां जोरशोर से चल रही हैं. दोनों गगनचुंबी इमारतों को गिराने के लिए कितने विस्‍फोटक की जरूरत होगी, इसका आकलन करने के लिए दक्षिण अफ्रीका से इंजीनियर नोएडा पहुंच चुके हैं. विदेशी इंजीनियर इसके साथ ही अन्‍य पहलुओं का अध्‍ययन भी करेंगे.

अधिक पढ़ें ...

नोएडा. दिल्‍ली-एनसीआर के प्रमुख शहर में से एक नोएडा में स्थित सुपरटेक के ट्विन टावर को गिराने की तैयारी जोरशोर से चल रही है. नोएडा सेक्‍टर-93A में स्थित दोनों गगनचुंबी इमारतों को गिराने के लिए कहां कितने विस्‍फोटक की जरूरत होगी, इसका पता लगाने के लिए दक्षिण अफ्रीका के इंजीनियर नोएडा पहुंच चुके हैं. विदेशी इंजीनियर इसके अलावा अन्‍य पहलुओं का भी अध्‍ययन करेंगे. दक्षिणी अफ्रीकी इंजीनियर ने ट्विन टावर से सटी एमराल्‍ड सोसाइटी का भी निरीक्षण किया है. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद सुपरटेक के दोनों गगनचुंबी इमारतों को गिराया जाएगा. सुपरटेक ने एपेक्‍स और सियान नाम के दो टावर को गिराने के लिए एडिफिस इंजीनियरिंग नामक भारतीय कंपनी के साथ करार किया है. दक्षिण अफ्रीका की एक कंपनी एडिफिस इंजीनियरिंग की सहयोगी है.

बता दें कि सुपरटेक ट्विन टावर तोड़ने का ठेका भारतीय कंपनी एडिफिस को मिला है. एडिफिस की सहयोगी साउथ अफ्रीका की एक कंपनी है. जानकारी के मुताबिक, फ्रांस से भी इंजीनियर आएंगे. फिलहाल एपेक्स और सियान टावर को तोड़ने का काम तेज़ी से किया जा रहा है. कितनी मात्रा में और कहां-कहां विस्फोटक लगने हैं, इसकी मार्किंग की जा रही. दूसरी तरफ मजदूरों की संख्या भी बढ़ाई गई है. अब 300 मजदूर को इस काम में लगाया गया है. बता दें कि दोनों टावर को तोड़ने के लिए 22 मई तक की तिथि तय की गई है. 22 अगस्‍त 2022 तक इन इमारतों का मलबा हटाया जाएगा.

आसपास के 15 टावर का ऑडिट
इमारत को गिराने से पहले यहां बने 15 टावरों का स्ट्रक्चरल ऑडिट भी कराया जा रहा है, ताकि इनकी मजबूती का आकलन किया जा सके. इसको देखने के लिए शनिवार को अफ्रीका के 2 इंजीनियर यहां पहुं. इसके बाद फ्रांस के इंजीनियर भी दोनों टावरों का आकलन कर अपनी रिपोर्ट देंगे. इसके साथ ही शनिवार शाम तक ब्लास्ट डिजाइन की एप्रूव कॉपी भी सीबीआरआई (CBRI) नोएडा प्राधिकरण को सौंप देगी.

इत्र कारोबारी पीयूष जैन को लेकर बड़ी खबर, आयकर विभाग का 25 ठिकानों पर छापा

चूक की कोई गुंजाइश नहीं
देश में अब तक केरल के मराडु में 18 मंजिला टावर को ध्वस्त किया गया है. सुपरटेक के दोनों टावर देश के सबसे ऊंचे टावर हैं, जिनको ध्वस्त किया जाना है. साथ ही इनकी बगल वाले टावर से दूरी महज 9 मीटर है. ऐसे में चूक या गलती की गुंजाइश न के बराबर है. इसलिए देसी और विदेशी कंपनियों के इंजीनियर टावरों का अध्ययन कर रहे हैं.

10 सेकंड में ध्‍वस्‍त हो जाएगा टावर
इमारत को ध्वस्त तो 10 सेकंड में कर दिया जाएगा. इसका मलबा 60 फीट चौड़ी सड़क पर गिरेगा. इससे करीब 100 मीटर तक धूल फैलेगी. इसके हटने में करीब 20 मिनट का समय लगेगा, ऐसे में करीब 100 मीटर रेंज के सभी टावरों को खाली कराकर लोगों को तीन से चार घंटे तक बाहर रहना होगा.

Tags: Noida news, Supertech Twin Tower case

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर