बसपा सुप्रीमो मायावती के भाई की 400 करोड़ रुपए की बेनामी संपत्ति जब्त

आनंद कुमार के खिलाफ बेनामी संपत्ती की जानकारी मिली थी, जिसके बाद वर्ष 2017 में आयकर विभाग ने उनसे पूछताछ की थी.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 18, 2019, 5:37 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 18, 2019, 5:37 PM IST
आयकर विभाग ने गुरुवार को बेनामी संपत्ति के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए नोएडा में 400 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त की है. बताया जा रहा है कि यह संपत्ति बसपा सुप्रीमो मायावती के भाई आनंद कुमार और उनकी पत्नी की है. आयकर विभाग ने नोएडा में 28 हजार वर्ग मीटर की जमीन भी सील की है, जिसकी सरकारी कीमत 400 करोड़ रुपये आंकी गई है. लेकिन, अगर मार्केट प्राइस की बात करें तो इसकी कीमत कई गुना ज्‍यादा होने की संभावना है.

गौरतलब है कि आनंद कुमार के खिलाफ बेनामी संपत्ति की जानकारी मिली थी, जिसके बाद 2017 में आयकर विभाग ने उनसे पूछताछ की थी. इनकम टैक्स विभाग के मुताबिक आनंद कुमार ने दिल्ली के व्यवसायी एसके जैन के सहयोग से कई हजार करोड़ की बेनामी संपत्ति जुटाई थी. इस मामले में एसके जैन को बोगस कंपनी मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने गिरफ्तार कर लिया था.

आनंद कुमार ने वर्ष 2007 से लेकर साल 2012 तक बेनामी संपत्ति बनाई थी. यह वही दौर था जब मायावती उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री थीं.

बसपा सुप्रीमो मायावती


मायावती के मुख्यमंत्री रहते आनंद कुमार की संपत्ति में कई गुना तक की वृद्धि दर्ज की गई. (फाइल फोटो)

एक रिपोर्ट के मुताबिक, वर्ष 2007 से 2012 के बीच आनंद कुमार की नेटवर्थ 7.5 करोड़ रुपये से बढ़कर 1,316 करोड़ रुपये तक पहुंच गई थी. आनंद कुमार पर आरोप लगा है कि उन्होंने बोगस कंपनियां बनाकर कई हजार करोड़ की बेनामी संपत्ति बनाई. यह भी आरोप है कि उन्होंने नोटबंदी के दौरान इन्हीं फर्जी कंपनियों की सहायता से करोड़ों रुपए बदलवाए थे.

ईडी भी अब कार्रवाई की तैयारी में
Loading...

अब आने वाले दिनों में बसपा के उपाध्यक्ष आनंद कुमार की मुश्किलें बढ़ सकती हैं, क्योंकि इनकम टैक्स विभाग द्वारा की गई इस कार्रवाई के बाद प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) भी कार्रवाई के तैयारी में हैं. इस मामले में ईडी मनी लांड्रिंग मामले में केस दर्ज किया था. अब वह इसमें तेजी लाने की तैयारी कर रही है, ऐसे में आनंद कुमार पर की गई इस कार्रवाई की आंच बसपा सुप्रीमो मायावती तक भी पहुंच सकती है. खासकर विधानसभा उपचुनाव और वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले मायावती की मुश्किल और बढ़ सकती है.

बसपा के उपाध्यक्ष हैं आनंद कुमार

गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव परिणाम आने के बाद मायावती ने संगठन में फेरबदल करते हुए भाई आनंद कुमार को बसपा का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया है. साथ ही आनंद कुमार के बेटे को पार्टी के नेशनल कोऑर्डिनेटर की जिम्मेदारी दी गई है. लिहाजा आनंद खिलाफ के कार्रवाई की तपिश पार्टी भी महसूस कर सकती है.

ये भी पढ़ें:

सोनभद्र नरसंहार: हर साल बिहार से IAS का एक करीबी आता था लगान वसूलने

सोनभद्र नरसंहार: IAS अफसर की थी 90 बीघा जमीन जिसके लिए बिछा दी 10 लाशें

 

 
First published: July 18, 2019, 12:44 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...