Home /News /uttar-pradesh /

kiosks sold on crore rupees in online auction near jewar airport and yamuna expressway dlnh

जेवर एयरपोर्ट के पास एक से डेढ़ करोड़ रुपये की बिक गईं दूध-सब्जी की दुकानें

एयरपोर्ट का सिर्फ काम शुरू होने से ही आसपास की जमीनों के रेट आसमान छूने लगे हैं. (सांकेतिक फोटो)

एयरपोर्ट का सिर्फ काम शुरू होने से ही आसपास की जमीनों के रेट आसमान छूने लगे हैं. (सांकेतिक फोटो)

ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी (Greater Noida Authority) ने भी कुछ महीने पहले कमर्शियल यूज (Commercial Use) के लिए 11 प्लॉट बेचे थे. प्लॉट के लिए ऑनलाइन बोली (Online Auction) लगाई गई थी. इसमे से एक प्लॉट स्वर्णनगरी में था. यह 500 वर्गमीटर का प्लॉट था. अथॉरिटी ने इस प्लॉट की रिजर्व कीमत 85 लाख रुपये रखी थी. खरीदारों को इसके ऊपर की बोली लगानी थी. इस प्लॉट की बोली 11.12 करोड़ रुपये तक पहुंच गई थी. अथॉरिटी की शर्तों के मुताबिक इस प्लॉट पर कियोस्क (Kiosk) बनाकर सिर्फ दूध और सब्जी बेचने की ही इजाजत होगी.

अधिक पढ़ें ...

    नोएडा. जेवर एयरपोर्ट (Jewar Airport) अभी न तो बनकर तैयार हुआ है और ना ही अभी वहां से फ्लाइट आसमान में उड़ान भर रही हैं. लेकिन एयरपोर्ट का सिर्फ काम शुरू होने से ही आसपास की जमीनों के रेट आसमान छूने लगे हैं. रेजिडेंशियल और इंडस्ट्रियल प्लाट (Residential and Industrial Plot) की बात तो छोड़िए एक छोटे से दूध-सब्जी के कियोस्क (Kiosk) भी करोड़ों रुपये के बिक रहे हैं. यमुना अथॉरिटी (Yamuna Authority) ने जिस कियोस्क की शुरुआती बोली 9 लाख रुपये रखी थी, वो डेढ़ करोड़ रुपये का बिका है. यह सभी कियोस्क यमुना एक्सप्रेसवे (Yamuna Expressway) और जेवर एयरपोर्ट के नजदीकी सेक्टर्स में हैं. गौरतलब रहे यूपी विधानसभा चुनावों के चलते हुई देरी की वजह से बुधवार को यमुना अथॉरिटी ने कियोस्क की नीलामी आयोजित की थी.

    1.48 करोड़ रुपये में बिका 9.59 वर्गमीटर का कियोस्क

    यमुना अथॉरिटी जेवर एयरपोर्ट और यमुना एक्सप्रेसवे के पास कियोस्क का निर्माण करने जा रही है. लेकिन उससे पहले अथॉरिटी ने कियोस्क की नीलामी आयोजित की थी. ई-नीलामी में अलग-अलग साइज के 30 कियोस्क को शामिल किया गया था. सबसे बड़े कियोस्क का साइज 12.68 वर्ग मीटर था. नीलामी में शामिल होने के लिए 26 लोगों ने आवेदन किया था.

    इसमे सबसे महंगा कियोस्क 9.59 वर्गमीटर का बिका है. नीलामी में इसकी सबसे ऊंची बोली 1.48 करोड़ रुपये लगी है. जबकि 7.15 वर्ग मीटर के कियोस्क की बोली 1.12 करोड़ रुपये लगी. ऐसा भी नहीं है कि सभी कियोस्क करोड़ों रुपये में बिके हैं. अगर सबसे कम बोली वाले कियोस्क की बात करें तो वो साढ़े सात लाख रुपये में बिका है.

    प्लास्टिक की बोतल में घर पर आ रहा है पानी तो जान लें यह जरूरी बात

    ऑनलाइन नीलामी के दौरान सेक्टर-17 ए का 7.15 वर्गमीटर का कियोस्क भी खासा चर्चाओं में रहा. इस कियोस्क की बोली 1.12 करोड़ रुपये पर जाकर रुकी. जानकारों की मानें तो इस कियोस्क को अमित कुमार गुप्ता नाम के व्यक्ति ने खरीदा है. इसी तरह सेक्टर-18 में 9.59 वर्गमीटर का कियोस्क 1.48 करोड़ रुपये में रविंद्र सिंह ने खरीदा है. सेक्टर-17ए में एक कियोस्क 9.04 वर्गमीटर का 90.40 लाख रुपये की बोली में बिका है. सेक्टर-18 का 12.68 वर्गमीटर का कियोस्क 37.94 लाख रुपये में बिका. जबकि सेक्टर-17ए में 9.04 वर्गमीटर के कियोस्क की बोली 31 लाख रुपये पर जाकर रुकी.

    एक बार फिर लगेगी कियोस्क की बोली

    यमुना अथॉरिटी से जुड़े अफसरों की मानें तो ई-नीलामी में सभी 30 कियोस्क की बोली नहीं लगी है. इसके लिए एक बार फिर से नीलामी आयोजित कर कियोस्क बेचे जाएंगे. लेकिन पहली नीलामी ने अथॉरिटी को मालामाल कर दिया है. ऐसी उम्मीद जताई जा रही है कि बुधवार को हुई नीलामी से अथॉरिटी को 9 करोड़ रुपये का रेवेन्यू मिलेगा. जानकारों का कहना है कि जेवर एयरपोर्ट का निर्माण शुरू होने के बाद से एयरपोर्ट और यमुना एक्सप्रेसवे से सटे इलाकों में जमीन के रेट देखते ही देखते आसमान छू रहे हैं. हैरत की बात है कि जिन प्लॉट को कुछ महीने पहले तक खरीदार नहीं मिल रहे थे आज उनकी कीमत कई गुना बढ़ गई है.

    Tags: E-auction, Jewar airport, Yamuna Authority, Yamuna Expressway

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर