होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /यमुना अथॉरिटी के मास्टर प्लान पर जल्द लगेगी मुहर, बची हैं दो आपत्ति

यमुना अथॉरिटी के मास्टर प्लान पर जल्द लगेगी मुहर, बची हैं दो आपत्ति

यमुना अथॉरिटी के अफसरों का कहना है कि नए मास्टर प्लान में लॉजिस्टिक सिटी, फन सिटी, स्पोर्ट्स सिटी का प्रस्ताव दिया गया है. Demo Pic

यमुना अथॉरिटी के अफसरों का कहना है कि नए मास्टर प्लान में लॉजिस्टिक सिटी, फन सिटी, स्पोर्ट्स सिटी का प्रस्ताव दिया गया है. Demo Pic

यमुना अथॉरिटी (Yamuna Authority) के अफसरों का कहना है कि नए मास्टर प्लान (Master Plan) में लॉजिस्टिक सिटी (Logistic Cit ...अधिक पढ़ें

नोएडा. साल 2041 को ध्यान में रखते हुए यमुना अथॉरिटी (Yamuna Authority) मास्टर प्लान (Master Plan) तैयार कर रही है. प्लान तैयार करने वाली कंपनी अथॉरिटी के सामने प्लान का डिजाइन पेश कर चुकी है. सूत्रों की मानें तो जल्द ही मास्टर प्लान पर मुहर लग जाएगी. प्लान के संबंध में अब सिर्फ दो आपत्तियां ही बची हैं. जल्द ही उन्हें भी दूर कर लिया जाएगा. प्लान के तहत अथॉरिटी नया शहर बसाने जा रही है. नए शहर में झुग्गी-झोपड़ी के लिए कोई जगह नहीं होगी. प्लान के मुताबिक इंडस्ट्रियल एरिया (Industrial Area) के पास में ही रेजिडेंशियल एरिया (Residential Area) भी बसाया जाएगा. पार्क और खेलकूद के मैदान विकसित किए जाएंगे. अथॉरिटी के अफसरों का मानना है कि देश में पहली बार इस तरह का प्लान तैयार किया गया है.

20 साल बाद 39 लाख हो जाएगी आबादी

यमुना अथॉरिटी के अफसरों का कहना है कि नए मास्टर प्लान में लॉजिस्टिक सिटी, फन सिटी, स्पोर्ट्स सिटी का प्रस्ताव दिया गया है. इतना ही नहीं फाइनेंशियल सिटी, इलेक्ट्रॉनिक सिटी आदि बसाने का प्रस्ताव भी शामिल है. 2041 तक यमुना अथॉरिटी के सेक्टर्स में 39 लाख के करीब आबादी हो जाएगी और इसके लिए कम से कम 8 लाख घरों की जरूरत होगी. वहीं जनसंख्या के अनुसार लगभग 12 हजार हेक्टेयर जमीन व्यावसायिक इस्तेमाल लिए भी चाहिए होगी.

आपके शहर से (नोएडा)

नोएडा
नोएडा

नए शहर में होगा सर्विस कॉरिडोर

यमुना अथॉरिटी मास्टर प्लान के तहत नए शहर में सर्विस कॉरिडोर भी बनाया जाएगा. कॉरिडोर को नए डिजाइन के साथ बेहद खूबसूरत बनाया जाएगा. इस सर्विस कॉरिडोर में रेहड़ी पटरी, मोची, धोबी, नाई, सब्जी विक्रेता समेत अन्य सभी तरह के लोगों को कारोबार करने के लिए जगह दी जाएगी. प्लान के मुताबिक यह सर्विस कॉरिडोर वेंडिंग जोन का ही एक विकसित रूप होगा.

नीचे दुकानें ऊपर घर बनाए जा सकेंगे

मास्टर प्लान में जेवर एयरपोर्ट के पास एरोपोलिस सिटी विकसित करने की रिपोर्ट का जिक्र किया गया है. रिपोर्ट में ओलंपिक पार्क, ओलंपिक विलेज, गोल्फ कोर्स, सेंट्रल बिजनेस सेंटर, वेयर हाउस, लॉजिस्टिक हब जैसी बड़ी योजनाओं के बारे में भी बात की गई है. लेकिन इस सब के बीच अच्छी बात यह है कि यहां कारोबार करने वालों को दुकान के ऊपर मकान बनाने की छूट दी जाएगी. अथॉरिटी के अफसरों के मुताबिक यह तरीका यूरोपीय देशों में अपनाया जाता है.

नोएडा में बनेंगे 18 डॉग शेल्टर, डॉग बाइट के केस घटाने को अथॉरिटी ने बनाया यह प्लान

 तीन ट्रांसपोर्ट नगर भी बसाएगी अथॉरिटी

इंडस्ट्री सेक्टर को और रफ्तार देने के लिए यमुना अथॉरिटी ने नया प्लान तैयार किया है. जल्द ही अथॉरिटी अपने सेक्टर में तीन नए ट्रांसपोर्ट नगर बसाएगी. यमुना एक्सप्रेसवे के किनारे मल्टी मॉडल ट्रांसपोर्ट हब और लॉजिस्टिक्स हब बनने के चलते तीनों ट्रांसपोर्ट नगर को बेहद खास माना जा रहा है. अथॉरिटी फिल्म सिटी, इंडस्ट्रियल सेक्टर-33 और सेक्टर-23 में ट्रासपोर्ट नगर बसाएगी. प्लान के तहत यहां लोड और अनलोड होने वाले ट्रकों को खड़ा करने की जगह दी जाएगी. साथ ही तीनों ट्रांसपोर्ट नगर के पास में ही मैकेनिक और पार्टस की दुकान भी होंगी.

नए मास्टर प्लान में हर काम के लिए छोड़ी गई है जमीन

यमुना अथॉरिटी के नए मास्टर प्लान में हर काम के लिए जमीन भी चिन्हित कर दी गई है. जैसे इंडस्ट्रियल लैंड के लिए करीब-20 फीसदी, मिश्रित भूमि उपयोग करीब 15 फीसदी, आवासीय 12 फीसदी, व्यावसायिक में 8 फीसदी, ग्रीन बेल्ट में 35 फीसदी, सड़क आदि में 10 फीसदी जमीन का उपयोग किया जाएगा. नोएडा और ग्रेटर नोएडा के बाद यमुना में हरियाली को लगभग दोगुना कर दिया गया है.

Tags: Film city in up, Transport department, Yamuna Authority

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें