Home /News /uttar-pradesh /

metro and bullet train stations will built in jewar airport campos igi airport delhi dlnh

जेवर एयरपोर्ट के भीतर से चलेंगी तीन मेट्रो और एक बुलेट ट्रेन, सभी स्टेशन होंगे अंडरग्राउंड

मेट्रो ट्रेन के तीन स्टेशन बनाने के प्लान को डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट में शामिल किया गया है. यह तीन मेट्रो स्टेशन एयरपोर्ट के मुख्य हिस्सों को आपस में जोड़ेंगे.  (सांकेतिक तस्वीर)

मेट्रो ट्रेन के तीन स्टेशन बनाने के प्लान को डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट में शामिल किया गया है. यह तीन मेट्रो स्टेशन एयरपोर्ट के मुख्य हिस्सों को आपस में जोड़ेंगे. (सांकेतिक तस्वीर)

Jewar Airport News: जेवर हवाई अड्डा और इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट को आपस में जोड़ने के लिए मेट्रो ट्रेन का कॉरिडोर बनाने की तैयारी चल रही है. डीपीआर बनाने की जिम्मेदारी दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन को दी गई है. इस कॉरिडोर में 120 किमी की रफ्तार से मेट्रो ट्रेन दौड़ेंगी. यह करीब 36 किमी का कॉरिडोर होगा. हालांकि दिल्ली और नोएडा मेट्रो का मीटर गेज अलग होने के चलते डीएमआरसी दो विकल्प पर काम कर रही है.

अधिक पढ़ें ...

नोएडा. जेवर एयरपोर्ट की कनेक्टिविटी के लिए मेट्रो ट्रेन के तीन स्टेशन बनाने के प्लान को डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट में शामिल किया गया है. यह तीन मेट्रो स्टेशन एयरपोर्ट के मुख्य हिस्सों को आपस में जोड़ेंगे. फ्लाइट से उतरने के बाद ट्रेन के लिए एयरपोर्ट के बाहर न आना पड़े इसके लिए बुलेट ट्रेन का स्ट्रेशन परिसर में ही बनाया जाएगा. ये सभी स्टेशन अंडर ग्राउंड होंगे. यह तीन स्टेशन पैसेंजर टर्मिनल, कार्गों टर्मिनल और मेंटीनेंस एंड रिपेयरिंग हब के पास बनेंगे. सभी स्टेशन के बीच एक से डेढ़ किमी की दूरी होगी. पैसेंजर टर्मिनल के पास ही बुलेट ट्रेन का स्टेशन भी बनाया जाएगा.

जेवर और आईजीआई एयरपोर्ट के यात्रियों को कनेक्टिविटी के चलते किसी तरह की परेशानी न उठानी पड़े इसके लिए मेट्रो ट्रेन का कॉरिडोर बनाने की तैयारी चल रही है. सूत्रों की मानें तो कॉरिडोर बनाने के लिए डीएमआरसी दो विकल्प पर काम कर रही है. पहला यह कि शिवाजी पार्क, दिल्ली से लेकर जेवर एयरपोर्ट तक अलग से लाइन बिछाकर कॉरिडोर तैयार किया जाए.

रोबोट-ड्रोन बना रहे हैं बच्चे, उंगली उठाने वाले मदरसे के बारे में नहीं जानते-वस्तानवी

दूसरा यह कि जेवर से लेकर बॉटेनिकल गॉर्डन तक एक अलग ट्रैक बिछा दिया जाए. इसके बाद ब्ल्यू लाइन से आगे का सफर तय हो सकेगा. लेकिन परेशानी यह भी है कि डीएमआरसी और नोएडा मेट्रो का मीटर गेज अलग-अलग है.

ग्रेटर नोएडा एयरपोर्ट के बीच पॉड टैक्सी प्रोजेक्ट पर भी विचार
ग्रेटर नोएडा और जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट के बीच पॉड टैक्सी चलाने के विकल्प पर भी काम किया जा रहा है. पॉड टैक्सी प्रोजेक्ट के लिए डीपीआर बनवाई जा रही है. कहा गया है कि यह यातायात इको फ्रेंडली है. इसका खर्च मेट्रो के सापेक्ष केवल 20 फ़ीसद होगा. पॉड टैक्सी प्रोजेक्ट को अमल में लाने के लिए ज्यादा जमीन की जरूरत नहीं पड़ेगी.

Tags: Bullet train, Delhi Metro News, Greater noida news, Jewar airport

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर