‘मेहनत से पाया मुकाम, ख्वाहिशों को दिया अंजाम’

अंशु गुप्ता बताती हैं कि एक दिन फेसबुक पर अचानक ही मैंने डेलीवुड द्वारा हो रहे ऑडिशन के बारे में पढ़ा. जिसे सीरियस ना लेते हुए मैंने भी रजिस्ट्रेशन कर दिया क्योंकि मुझे उम्मीद नहीं थी कि मेरा सिलेक्शन हो सकता है.

News18Hindi
Updated: August 8, 2018, 11:11 PM IST
‘मेहनत से पाया मुकाम, ख्वाहिशों को दिया अंजाम’
डेलीवुड मिसेज इंडिया-2018 फर्स्ट रनर अप बनी अंशु गुप्ता
News18Hindi
Updated: August 8, 2018, 11:11 PM IST
आज की इस भाग दौड़ वाली जिंदगी में जहां गृहणी अपनी गृहस्ती को संवारने में व्यस्त रहती हैं और अपने सपनों को देखने तक का उन्हें मौका नहीं मिल पाता है. वहीं एक महिला हैं, जिन्होंने ना सिर्फ सपने देखे बल्कि उस मुकाम को हासिल भी किया. हम बात कर रहे हैं हाल ही में डेलीवुड मिसेज इंडिया-2018 फर्स्ट रनर अप बनी अंशु गुप्ता की, जो दिल्ली की रहने वाली है.

अंशु दो बच्चों की मां हैं. उनकी बड़ी बेटी 14 वर्षीय तनिमा और 8 वर्षीय बेटा दक्ष है. अंशु गुप्ता की मानें तो बच्चों की परवरिश और परिवार की जिम्मेदारियों में ना जाने कब 16 साल बीत गए, पता ही नहीं चला. इस दौरान उन्हें खुद के बारे में कभी सोचने का मौका ही नहीं मिला. लेकिन जहा इंटरनेशनल फैशन कोरियोग्राफर बाबला कथूरिया, विनोद अहलावत और ओनम जैसे लोग हों वहां हम जैसी घरेलू महिलाओं के सपनों को पंख मिल ही जाते है. सच में जहां चाह है वहां राह है.

डेलीवुड मिसेज इंडिया तक का सफर
अंशु गुप्ता बताती हैं कि एक दिन फेसबुक पर अचानक ही मैंने डेलीवुड द्वारा हो रहे ऑडिशन के बारे में पढ़ा. जिसे सीरियस ना लेते हुए मैंने भी रजिस्ट्रेशन कर दिया क्योंकि मुझे उम्मीद नहीं थी कि मेरा सिलेक्शन हो सकता है. रजिस्ट्रेशन के बाद मेरी मुलाकात फैशन जगत के जाने माने कोरियोग्राफर बाबला कथूरिया से हुई. जिन्होंने मेरा कॉन्फिडेंस बढ़ाया और मैं ऑडिशन में सेलेक्ट हो गई. इसके बाद मैंने ठान लिया था कि मेरे भी अपने सपने हैं, जिसे मुझे उड़ान देनी है. सबसे बड़ी बात कि मेरे पति और परिवार ने मेरा खूब साथ दिया.

इसके बाद मैंने पीछे मुड़कर देखा ही नहीं और दिन रात एक कर दिया. जिसके परिणाम स्वरूप आज में गर्व से कह सकती हूं कि में हाउस वाइफ जरूर हूं लेकिन अब मेरी भी खुद की पहचान है जो डेलीवुड के माध्यम से मिली है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर