लाइव टीवी

नोएडा: मौत से लड़ती 18 दिन की मासूम को एक मोबाइल मैसेज ने कैसे दी नई जिंदगी

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 11, 2019, 10:57 AM IST
नोएडा: मौत से लड़ती 18 दिन की मासूम को एक मोबाइल मैसेज ने कैसे दी नई जिंदगी
मौत से लड़ती 18 दिन की मासूम को एक मोबाइल मैसेज ने कैसे दी नई जिंदगी

बच्ची के पिता सरोज पासवान ने बताया की उसकी 18 दिन की बच्ची सुपर स्पेशलिटी बाल चिकित्सालय एवं पोस्ट ग्रेजुएट शिक्षण संस्थान के NICU में भर्ती है. उसको ऑक्सीजन रखा गया है.

  • Share this:
नोएडा. नोएडा के चाइल्ड पीजीआई में एक बच्ची जिंदगी और मौत से एनआईसीयू (NICU) में लड़ रही थी. लड़की के मां-बाप इतने गरीब थे कि 3 दिन में ही उनके पास इतना पैसा नहीं बचा कि वह अपनी बच्ची का इलाज करा सके. डॉक्टरों ने जब मां-बाप से कहा कि 4 हजार रुपये जमा करा दीजिए नहीं तो बच्ची को कहीं और रेफर करा लीजिए.  तब बेबस मां-बाप के पैरों तले जमीन खिसक गई. मजबूर मां बाप लोगों से उधार लेकर थक चुके थे.

न्यूज18 की अनोखी पहल

आखिर एक रिक्शा चलाने वाले की कमाई ही कितनी होती है. मां-बाप बैठ कर रो ही रहे थे. इसी बीच एक शख्स ने मदद का व्हाट्सएप मैसेज सोशल मीडिया में वायरल कर दिया. उस मैसेज को न्यूज 18 संवाददाता कुणाल जायसवाल ने भी देखा. जांच के लिए न्यूज 18 की टीम नोएडा के चाइल्ड पीजीआई में पहुंच गई. जब पीड़ित से इस मामले में बात की तो उस समय चौंकाने वाला मामला सामने आया कि आखिर इतना बड़ा अस्पताल है और बिना पैसों के कोई अपने बच्चे को बिना इलाज के वापस कैसे ले कर जा सकता है.

ऑक्सीजन पर जिंदा बच्ची

बच्ची के पिता सरोज पासवान ने बताया की उसकी 18 दिन की बच्ची सुपर स्पेशलिटी बाल चिकित्सालय एवं पोस्ट ग्रेजुएट शिक्षण संस्थान के NICU में भर्ती है. उसको ऑक्सीजन रखा गया है. रोज के हजारों रुपये खर्च हो रहे है. अब नर्स दबाब बना रही है कि पैसे जमा करो या बच्ची को कहीं और ले जाओ. ऑक्सीजन पाइप हटाते ही मेरी बच्ची मर जाएगी.

प्रधानमंत्री आयुष्मान योजना से मिला मदद का भरोसा

हमने इस मामले में चाइल्ड पीजीआई के सुपरिटेंडेंट डीके सिंह के पास जब हमारी टीम पहुंची और उनसे पूरे प्रकरण के बारे में बताया. डीके सिंह ने बिना देर किए उस बच्ची की फाइल मंगाई और जिला स्वास्थ्य विभाग को मदद के लिए एक लेटर दे दिया. मेडिकल सुपरिटेंडेंट ने मानवता का परिचय देते हुए सबसे पहले लेटर बनाया और साथ ही साथ प्रधानमंत्री आयुष्मान योजना के बारे में भी बताया, और पीड़ित बच्ची खुशी के पिता से आधार कार्ड और राशन कार्ड भी लिया. ताकि यह कंफर्म हो सके कि आयुष्मान योजना में इलाज के लिए इन लोगों का रजिस्ट्रेशन है या नहीं.
Loading...

बेबस पिता बोले- थैंक्स न्यूज18

सीएमओ अनुराग भार्गव ने लेटर लेकर अपने पास बुलाया और मदद का वादा किया. इसके बाद न्यूज़ 18 की टीम चाइल्ड पीजीआई से बाहर निकल कर खुशी के पिता को अपनी गाड़ी में साथ लेकर सीएमओ दफ्तर पहुंची जहां पर सीएमओ लेटर पर मदद के लिए साइन किए. और 30 हज़ार की तत्काल मदद हो गई. वहीं बच्चे के पिता ने बताया कि बच्ची की हालत अब ठीक है और ऑक्सीजन भी हटा ली गई है. जल्द ही अब हम उसे घर ले जाएंगे. बेबस पिता के चेहरे पर खुशी थी, बोला थैंक्स न्यूज 18.

ये भी पढ़ें:

Ayodhya Verdict: ओवैसी के बयान पर हिंदू-मुस्लिम पक्षकार बोले- उनकी बातों का कोई महत्व नहीं देता

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नोएडा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 11, 2019, 10:47 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...