होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

ट्विन टावर में विस्फोटक लगाने की मंजूरी मिली, 28 को हो सकता है धमाका

ट्विन टावर में विस्फोटक लगाने की मंजूरी मिली, 28 को हो सकता है धमाका

नोएडा पुलिस की एनओसी के साथ ही सेंट्रल बिल्डिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट का भी पेंच फंसता हुआ नजर आ रहा है.   (ANI)

नोएडा पुलिस की एनओसी के साथ ही सेंट्रल बिल्डिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट का भी पेंच फंसता हुआ नजर आ रहा है. (ANI)

पहले से तय प्लान के मुताबिक सुपरटेक ट्विन टावर (Supertech Twin Tower) सियान और एपेक्स 21 अगस्त की दोपहर तक गिराए जाने थे. 20 अगस्त तक टावर में विस्फोटक (Explosive) लगाने का काम पूरा कर लिया जाना था. 14 अगस्त को इस संबंध में मॉकड्रिल (Mokdril) भी होनी है. लेकिन अब टावर गिराने का काम 28 अगस्त को किया जाएगा. एडिफिस कंपनी का दावा है कि बहुत ही एक्सपर्ट तरीके और नई तकनीक के साथ काम हो रहा है. विस्फोटक लगाने का काम शुरू होने से पहले ही नोएडा पुलिस (Noida Police) ने टावर की सुरक्षा बढ़ा दी है. 

अधिक पढ़ें ...

नोएडा. सेंट्रल बिल्डिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट (CBRI) ने भी सुपरटेक के विवादित ट्विन टावर (Supertech Twin Tower) सियान और एपेक्स में विस्फोटक लगाने की मंजूरी दे दी है. शुक्रवार से टावर में विस्फोटक लगाने का काम शुरू हो जाएगा. 28 अगस्त तक टावर को गिरा दिया जाएगा. इससे पहले नोएडा पुलिस (Noida Police) भी एडिफिस कंपनी को एनओसी दे चुकी है. कंपनी का कहना है कि शुक्रवार से टावर में विस्फोटक लगाने का काम शुरू कर दिया जाएगा. कंपनी की तरफ से आने वाली एक रिपोर्ट के इंतजार में सीबीआरआई ने अभी तक एनओसी नहीं दी थी. नोएडा अथॉरिटी (Noida Authority) ने भी एक बैठक के दौरान 15 अगस्त तक रिपोर्ट सीबीआरआई को देने की तारीख तय कर दी थी.

टावर गिराने के लिए ऐसे लगाया जाएगा विस्फोटक

टावर गिराने के लिए बिल्डिंग के कॉलम और बीम में विस्फोटक भरे जाते हैं. कॉलम और बीम को वी शेप में काटा जाता है. फिर उसके अंदर विस्फोटक की छड़ रख दी जाती है. विस्फोटक ग्राउंड फ्लोर से लेकर 1 और 2 फ्लोर तक तो लगातार विस्फोटक रखा जाता है. लेकिन उसके बाद 4-4 फ्लोर का गैप देकर जैसे दूसरे के बाद 6 पर और 6 क बाद 10, 14, 18 और 22वें जानकारों की मानें तो किसी भी हाईराइज बिल्डिंग को गिराने के लिए उसके कॉलम और बीम में फ्लोर पर विस्फोटक भरा जाएगा. सूत्रों की मानें तो इसके लिए पूरी बिल्डिंग में करीब 7 हजार छेद किए जाएंगे.

विस्फोटक लगाने के दौरान ऐसी रहेगी सुरक्षा

सुपरटेक ट्विन टावर में विस्फोटक लगाने के दौरान सिर्फ तकनीशियनों को ही जाने की अनुमति होगी. इसके अलावा किसी भी बाहरी व्यक्ति को जाने की अनुमति नहीं होगी. दोनों टावर में करीब 20 से 25 दिन तक विस्फोटक लगाने का काम चलेगा. इस दौरान दोनों टावर की सुरक्षा स्थानीय पुलिस के हवाले रहेगी. टावर गिराने में कुल 3.5 हजार किलो विस्फोटक का इस्तेमाल किया जाएगा. टावर में हर रोज सिर्फ उतना ही विस्फोटक लाया जाएगा जितना एक दिन में लगाया जा सके. बाकी के स्टाक को टावर से अच्छी खासी दूरी पर रखा जाएगा.

पंजाब में भी अब आप की सरकार, सीएम केजरीवाल ने यह निकाला पराली का हल

पुलिस सिक्योरिटी में पलवल से ऐसे आएगा विस्फोटक

सूत्रों की मानें तो नोएडा के सेक्टर-93ए में स्थित ट्विन टावर को गिराने में 3.5 हजार किलो विस्फोटक का इस्तेमाल किया जाएगा. विस्फोटक यूपी के बाहर नागपुर से खरीदा गया है. विस्फोटक को नोएडा से दूर पलवल के पास रखा गया है. प्लान के मुताबिक 2 अगस्त से टावर में विस्फोटक लगाने का काम शुरू हो जाएगा. रोजाना पुलिस की सिक्योरिटी में ही विस्फोटक पलवल से नोएडा तक आएगा.

सुबह से शाम तक एडिफिस कंपनी के इंजीनियर टावर में विस्फोटक लगाने का काम करेंगे. टावर में विस्फोटक लगाने के बाद शाम को जितना बचेगा उसे पुलिस की निगरानी में ही वापस पलवल भेज दिया जाएगा. विस्फोटक लगाने से पहले टावर और उसके आसपास के इलाके को सीसीटीवी से कवर किया जाएगा.

Tags: Explosion, Noida Police, Supertech twin tower

अगली ख़बर