होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

जानें नोएडा में लगी गांधीजी की सबसे बड़ी मूर्ति और चरखे की खासियत

जानें नोएडा में लगी गांधीजी की सबसे बड़ी मूर्ति और चरखे की खासियत

नोएडा अथॉरिटी का दावा है कि 1150 किलो प्लास्टिक वेस्ट से बनी महात्मा गांधी जी की मूर्ति देश की पहली मूर्ति है.

नोएडा अथॉरिटी का दावा है कि 1150 किलो प्लास्टिक वेस्ट से बनी महात्मा गांधी जी की मूर्ति देश की पहली मूर्ति है.

नोएडा अथॉरिटी (Noida Authority) का दावा है कि 1150 किलो प्लास्टिक वेस्ट से बनी महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) जी की मूर्ति देश की पहली मूर्ति है. लोगों को प्लास्टिक वेस्ट के संबंध में जागरुक करने के लिए पहले प्लास्टिक वेस्ट से बना चरखा और अब मूर्ति लगाने का काम किया गया है. खास तरीके से बनाई और 20 फीट ऊंची होने के चलते गिनीज बुक (Guinness Book) ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में नाम दर्ज कराने की कार्रवाई भी की जाएगी.

अधिक पढ़ें ...

नोएडा. पहले राष्ट्रपिता महात्मा गांधीजी (Mahatma Gandhi) की निशानी चरखा और अब खुद गांधीजी की मूर्ति. यह पहला मौका है जब नोएडा (Noida) के बीचों-बीच गांधीजी की 20 फीट ऊंची मूर्ति और करीब 1650 किलो का चरखा लगाया गया है. दोनों ही चीजें प्लास्टिक वेस्ट से बनी हुई हैं. लोगों को जागरुक करने के लिए प्लास्टिक वेस्ट (Plastic Waste) से मूर्ति और चरखे को बनाया गया है. इसका निर्माण नोएडा अथॉरिटी ने कराया है. अथॉरिटी का दावा है कि दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) समेत देश में प्लास्टिक वेस्ट से बनी इतनी बड़ी गांधीजी की मूर्ति और चरखा कहीं नहीं है. स्वंतत्रता दिवस (Independence Day) 15 अगस्त से पहले इसे नोएडा वालों के लिए एक बड़े तोहफे के रूप में देखा जा रहा है.

सेक्टर-94 में कमांड कंट्रोल रूम के पास लगा है चरखा

नोएडा अथॉरिटी ने शहरवासियों को तोहफे के रूप में सबसे पहले गांधीजी के चरखे की सौगात दी थी. इस चरखे का कुल वजन 1650 किलो है. इसमे 1250 किलो तो सिर्फ वेस्ट प्लास्टिक है. इसके अलावा लकड़ी का भी इस्तेमाल किया गया है. दिखने में यह एक बड़ा चरखा है. इस चरखे को सेक्टर-94 में सेंट्रल कमांड कंट्रोल रूम से 100 से 150 मीटर की दूरी पर रखा गया है. नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे और महामाया फ्लाई से चरखा देखते ही बनता है. नोएडा अथॉरिटी का दावा है कि यह प्लास्टिक वेस्ट से बना दुनिया का सबसे बड़ा चरखा है.

80 दिन में बनाई गांधीजी की 20 फीट ऊंची मूर्ति

सोमवार को नोएडा से विधायक पंकज सिंह और नोएडा अथॉरिटी की सीईओ रितु माहेश्वरी ने महात्मा गांधी की मूर्ति का अनावरण किया. 1650 किलो का चरखा बनाने के बाद नोएडा अथॉरिटी ने अब गांधीजी की 20 फीट ऊंची मूर्ति बनाई है. यह मूर्ति भी चरखे की तरह से प्लास्टिक वेस्ट से बनी है. मूर्ति 6 फीट चौड़ी है. मूर्ति का वजन 1150 किलोग्राम है. मूर्ति को नोएडा के सेक्टर-137 गोलचक्कर पर रखा गया है. इस मूर्ति को अवार्ड विनर संदीप पंवार ने सिर्फ 80 दिन में तैयार किया गया है.

पंजाब में भी अब आप की सरकार, सीएम केजरीवाल ने यह निकाला पराली का हल

एक प्लास्टिक वैन चलाकर लोगों से इसके लिए प्लास्टिक जमा की गई थी. इसके बदले में उन्हें लकड़ी की बोतल और जूट के थैले दिए गए थे. इस अभियान में मूर्ति के लिए 52 किलो पॉलिथीन और 816 प्लास्टिक की बोतल इकट्ठी की गईं थी. कुल 10 वैन ने शहर में जगह-जगह घूमकर प्लास्टिक वेस्ट जमा किया था

Tags: Guinness Book of World Record, Mahatma Gandhi Statue, Noida Authority, Plastic waste

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर