• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • Noida: मात्र पांच रुपए में Dadi ki rasoi भूखों को देती है स्वादिष्ट भोजन

Noida: मात्र पांच रुपए में Dadi ki rasoi भूखों को देती है स्वादिष्ट भोजन

दादी

दादी की रसोई में लोगों को खाना परोसते हुए अनूप खन्ना

अनूप खन्ना बताते हैं कि मुझे लगता है किसी को मुफ्त में कुछ नहीं देना चाहिए नहीं तो उसका स्वाभिमान खत्म हो जाता है.

  • Share this:

    नोएडा: राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में आपको अगर भूख लगती है तो आप भरपेट खाना कितने रुपए में खा पाएंगे? 200, 100 या 50 रुपए में? लेकिन आपको जानकर आश्चर्य होगा कि नोएडा में मात्र पांच रुपए में भरपेट खाना आपको मिल सकता है. नोएडा के सेक्टर 29 स्थित गंगा शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में दादी की रसोई (dadi ki rasoi) मात्र पांच रुपए में भूखों को स्वादिष्ट और भरपेट खाना खिलाती है. दादी की रसोई के संचालक अनूप खन्ना (Anoop khanna) पिछले 6 सालों से लगातार रसोई चला कर गरीबों को निवाला उपलब्ध करा रहें हैं.

    मां की थी इच्छा खाना लोगों को खिलाया जाए
    अनूप खन्ना बताते हैं कि वर्ष 2015 में मेरी माता जी बीमार थी, उन्होंने खाना पीना छोड़ दिया था.मां ने कहा कि मैं खाना खा नहीं रही हूं मेरे बदले किसी गरीब को खिला दो. इसी के बाद सबसे पहले 21 अगस्त 2015 अपने जन्मदिन के दिन से दादी की रसोई की शुरुआत की थी और आज तक चलाते आ रहे हैं. उन्होंने बताया कि सबसे पहले जब शुरू किया था तो चावल दाल ही सिर्फ खिलाता था लेकिन धीरे धीरे लोग जुड़ते गए और अब तो फ्रूटी और मौसमी फल सब्जी भी खाने में होता है वो भी मात्र पांच रुपए में.

    अमीर गरीब सबके लिए पांच रुपए हाथ में रखना जरूरी
    अनूप खन्ना बताते हैं कि दादी की रसोई में जो भी व्यक्ति खाना चाहता है उसे लाइन में लगना ही पड़ता है और उसके हाथ में पांच रुपए पहले से ही होते हैं नहीं तो उन्हे खाना नहीं देते क्योंकि पीछे खड़े व्यक्ति का समय भी जरूरी है.  वो बताते हैं कि यहां की लाइन ऐसी होती है जिसमे मालिक और नौकर दोनो आगे पीछे ही खड़े होते हैं कोई भी व्यक्ति खास या आम नहीं होता है.

    पांच रुपए दाम इसलिये ताकि आत्म-सम्मान बना रहे
    पांच रुपए का खाना क्यों? मुफ्त में क्यों नहीं इस बात पर अनूप खन्ना बताते हैं कि मुझे लगता है किसी को मुफ्त में कुछ नहीं देना चाहिए नहीं तो उसका स्वाभिमान खत्म हो जाता है. उसी स्वाभिमान को बचाने के लिए मिनिमम पांच रुपए रखे गए है. कोई आदमी खाने आता है तो वो हक के साथ दुबारा खाना मांगता है क्योंकि पांच रुपए उसने दिए है.

    (रिपोर्ट-आदित्य कुमार)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज