Home /News /uttar-pradesh /

non disputed projects of builders will be seized for auction in noida and greater noida dlnh

नीलामी के लिए बिल्डर्स के अच्छे प्रोजेक्ट होंगे सीज, जानें वजह

अब किसी भी कार्रवाई के तहत बिल्डर्स के अच्छे प्रोजेक्ट वाले फ्लैट-विला और प्लाट ही सीज किए जाएंगे.

अब किसी भी कार्रवाई के तहत बिल्डर्स के अच्छे प्रोजेक्ट वाले फ्लैट-विला और प्लाट ही सीज किए जाएंगे.

हाल में गौतम बुद्ध नगर प्रशासन (Gautam Budh Nagar) ने यूपी रेरा (UP RERA) के आदेश पर करीब 40 बिल्डर्स की 600 करोड़ रुपये की प्रापर्टी को सीज किया है. इसमे से करीब 500 करोड़ रुपये की प्रापर्टी आनलाइन नीलाम (Online Auction) की जानी है. लेकिन इसमे बहुत सारी प्रापर्टी ऐसी है जिसका बिल्डर्स ने ऑक्यूपेंसी सर्टिफिकेट (ओसी) या कंप्लीशन सर्टिफिकेट (सीसी) का पैसा संबंधित अथॉरिटी में जमा नहीं किया है. और जब इस तरह की प्रापर्टी को कोई ई-नीलामी में खरीदेगा तो उसे ओसी और सीसी की जरूरत होगी. क्योंकि जब तक अथॉरिटी (Authority) को ओसी और सीसी का पैसा नहीं मिलेगा वो रजिस्ट्री नहीं करेगी.

अधिक पढ़ें ...

    नोएडा. अब किसी भी कार्रवाई के तहत बिल्डर्स के अच्छे प्रोजेक्ट वाले फ्लैट-विला (Flat-Vila) और प्लाट ही सीज किए जाएंगे. यह वो प्रापर्टी होगी जिस पर कोई विवाद नहीं होगा और सभी तरह की कार्रवाई पूरी कर ली गई होगी. अथॉरिटी की भी देनदारी नहीं होगी. गौतम बुद्ध नगर (Gautam Budh Nagar) प्रशासन ने यह बड़ा ऐलान किया है. इसके पीछे मकसद यह है कि सीज किए गए फ्लैट-विला आसानी से बिना किसी विवाद के नीलाम हो जाएं. जल्द ही 500 करोड़ रुपये कीमत की सीज प्रापर्टी आनलाइन नीलाम (Online Auction) होने जा रही है. उस नीलामी में आ रहीं अड़चन को देखते हुए ही यह फैसला किया गया है. इस नीलामी में भी अब उसी प्रापर्टी को रखा जाएगा जिसका मालिकाना हक आसानी से दिया जा सके.

    बिल्डर्स से इसलिए होनी है 1400 करोड़ की रिकवरी

    गौतम बुद्ध नगर प्रशासन के मुताबिक बिल्डर्स के खिलाफ यह कार्रवाई यूपी रेरा की लिखा-पढ़ी के बाद हुई है. बड़ी संख्या में फ्लैट खरीदारों को यह बिल्डर्स या तो फ्लैट पर कब्जा नहीं दे रहे थे या उनके रुपये नहीं लौटा रहे थे. रेरा ने भी बिल्डर्स को दर्जनों लैटर लिखे. लेकिन रेरा की इस कार्रवाई को बिल्डर्स ने गंभीरता से नहीं लिया.

    इसी के चलते ही डीएम सुहास एलवाई के निर्देश पर बिल्डर्स के खिलाफ संपत्ति सीज करने की कार्रवाई को अंजाम दिया गया. इतना ही नहीं रेरा के आदेशों को न मानने वाले बिल्डर्स के खिलाफ फ्लैट खरीदार सुप्रीम कोर्ट चले गए थे. जहां खरीदारों की सुनवाई के दौरान कोर्ट ने बिल्डर की प्रॉपर्टी को जब्त कर नीलाम करने की बात कही थी.

    यूपी रेरा के यह नियम तय करते हैं कि बिल्डर्स अच्छा है या बुरा, जानें सब कुछ

    यूपी रेरा और कोर्ट के आदेश पर नोएडा और ग्रेटर नोएडा के अलग-अलग बिल्डर्स से करीब 1400 करोड़ रुपए की रिकवरी होनी है. इसमे से 600 करोड़ रुपये की रिकवरी गौतम बुद्ध नगर प्रशासन के पास पहुंच चुकी है. लेकिन लगातार हो रही कार्रवाई के बाद भी बिल्डर्स बकाए की रकम जमा नहीं करा रहे हैं. जिसके चलते प्रशासन बिल्डर्स की 500 करोड़ रुपए की प्रापर्टी सीज कर चुका है. कहा जा रहा है कि होली के बाद प्रशासन सख्ती दिखाते हुए बिल्डर्स से 14 सौ करोड़ रुपए वसूलने का प्लान बना रहा है.

    350 फ्लैट और 69 विला होने हैं नीलाम

    नोएडा और ग्रेटर नोएडा में साल 2021 में 40 बिल्डर्स की करीब 500 करोड़ रुपए से ज्यादा की संपत्ति को सीज किया था . सीज संपत्ति में 350 फ्लैट, 6 प्लाट, 35 दुकानें और 69 लग्जरी विला बताए जा रहे हैं. इसमें शॉप्रिक्स मॉल की जब्त की गई दुकानें भी शामिल हैं. प्रशासन के मुताबिक सभी विला और दुकानों के साथ ही बकाएदार 40 बिल्डरों की जब्त संपत्ति भी नीलाम की जाएगी.

    Tags: Noida news, Online Sale, Supreme court of india, UP RERA

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर