Home /News /uttar-pradesh /

online auction of flat plot shop in noida and greater noida supreme court up rera dlnh

नोएडा-ग्रेटर नोएडा में फ्लैट खरीदारों को वापस मिलेंगे 14 सौ करोड़, जानें कैसे

यूपी रेरा के आदेश पर बिल्डर्स को बकाए की रिकवरी सर्टिफिकेट जारी किए जा रहे हैं.

यूपी रेरा के आदेश पर बिल्डर्स को बकाए की रिकवरी सर्टिफिकेट जारी किए जा रहे हैं.

यह शायद यूपी रेरा (UP RERA) और सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) की कार्रवाई का असर है कि अब फटाफट बिल्डर्स से वसूली हो रही है. लेकिन यूपी रेरा के चेयरमैन राजीव कुमार का बयान बताता है कि खासतौर पर नोएडा (Noida)-ग्रेटर नोएडा और गाजियाबाद (Ghaziabad) में बिल्डर्स ने अपने काम कम कर दिया है. लेकिन बीते चार महीने नवंबर 2021 से फरवरी 2022 तक यूपी रेरा में 116 प्रोजेक्ट रजिस्टर्ड हो चुके हैं. लेकिन इसमे ज्यादातर प्रोजेक्ट नॉन एनसीआर (NCR) वाले जिलों के हैं.

अधिक पढ़ें ...

    fनोएडा. फ्लैट खरीदने के बाद भी उस पर कब्जा न मिलना, फ्लैट की रजिस्ट्री का न होना या फिर और दूसरी वजह से फ्लैट नहीं मिल पा रहा है तो दिया गया पैसा वापस मिलेगा. नोएडा (Noida)-ग्रेटर नोएडा के फ्लैट खरीदारों के लिए यह बड़ी खुशखबरी है. इसके लिए गौतम बुद्ध नगर प्रशासन तैयारियों में जुट गया है. उत्तर प्रदेश भूसंपदा विनियामक प्राधिकरण (UP RERA) यूपी रेरा के आदेश पर बिल्डर्स को बकाए की रिकवरी सर्टिफिकेट जारी किए जा रहे हैं. बकाया जमा न होने पर प्रापर्टी सीज की जा रही है. जल्द ही 500 करोड़ रुपये की सीज प्रापर्टी आनलाइन नीलाम की जाएगी. दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के आदेश पर अधूरे पड़े फ्लैट कम्पलीट कराए जा रहे हैं.

    बिल्डर्स से होनी है 14 सौ करोड़ रुपये की रिकवरी

    जानकारों की मानें तो यूपी रेरा के आदेश पर नोएडा और ग्रेटर नोएडा के अलग-अलग बिल्डर्स से करीब 1400 करोड़ रुपये की रिकवरी होनी है. इसमे से 600 करोड़ रुपये की रिकवरी गौतम बुद्ध नगर प्रशासन के पास पहुंच चुकी है. लेकिन लगातार हो रही कार्रवाई के बाद भी बिल्डर्स बकाए की रकम को जमा नहीं करा रहे हैं. जिसके चलते प्रशासन बिल्डर्स की 500 करोड़ रुपये की प्रापर्टी को सीज भी कर चुका है. सूत्रों की मानें तो होली के बाद प्रशासन सख्ती दिखाते हुए बिल्डर्स से 14 सौ करोड़ रुपये वसूलने का प्लान बना रहा है.

    पहले चरण में फ्लैट खरीदार को दिए जाएंगे 500 करोड़

    एक नहीं कई-कई बार नोटिस जारी होने के बाद भी जब बिल्डर्स ने बकाए की रकम जमा नहीं की तो प्रशासन ने उनकी 500 करोड़ रुपये की प्रापर्टी सीज कर दी. इसमे फ्लैट-विला और प्लाट के साथ ही बिल्डर्स के ऑफिस भी शामिल हैं. साल 2021 में सीज प्रापर्टी को नीलाम करने की पूरी तैयारी कर ली गई थी. लेकिन विधानसभा चुनाव आने की वजह से नीलामी टल गई. लेकिन अब होली के बाद आनलाइन नीलामी किए जाने की तैयारी चल रही हैं. आनलाइन नीलामी होने से दूसरे शहरों में बैठे लोग भी अपनी पसंद के फ्लैट और विला खरीद सकेंगे.

    mughals Heritage Monuments: Delhi-Agra की मुगल इमारतों पर सालभर में बिकती हैं 200 करोड़ की टिकटें, जानें डिटेल

    यह है नीलाम होने वाले फ्लैट और विला की संख्या

    नोएडा और ग्रेटर नोएडा में साल 2021 में 40 बिल्डर्स की करीब 500 करोड़ रुपये से ज्यादा की संपत्ति को सीज किया है. सीज संपत्ति में 350 फ्लैट, 6 प्लाट, 35 दुकानें और 69 लग्जरी विला बताए जा रहे हैं. इसमे शॉप्रिक्स मॉल की जब्त की गई दुकानें भी शामिल हैं. प्रशासन के मुताबिक सभी विला और दुकानों के साथ ही बकाएदार 40 बिल्डरों की जब्त संपत्ति भी नीलाम की जाएगी.

    चर्चा यह भी है कि आज के बाजार रेट के हिसाब से बिल्डर्स की सीज की गई संपत्ति की कुल कीमत 500 करोड़ रुपये से भी ज्यादा है. जानकारों की मानें तो नीलामी से जुड़ी सभी प्रक्रिया पूरी कर ली गई है. शासन से भी मंजूरी मिल गई है. जिन बिल्डरर्स की प्रॉपर्टी जब्त की गई है उसमे अंतरिक्ष, केलटेक, सनवर्ड, इको ग्रीन, हैबीटेक, गायत्री, सुपर सिटी, लॉजिक्स, मस्कोट होम्स, जेएसएस बिल्डकान, न्यूटेक प्रमोटर्स शामिल हैं.

    Tags: Noida news, Online Sale, Supreme court of india, UP RERA

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर