होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /ट्विन टावर के पड़ोस में रहने वालों के लिए बना प्लान, जानें सब कुछ

ट्विन टावर के पड़ोस में रहने वालों के लिए बना प्लान, जानें सब कुछ

ट्विन टावर गिरने पर धूल और मलबे को बिखरने से रोकने के लिए और भी कई कदम उठाए जा रहे हैं.

ट्विन टावर गिरने पर धूल और मलबे को बिखरने से रोकने के लिए और भी कई कदम उठाए जा रहे हैं.

सुपरटेक के ट्विन टावर (Supertech Twin Tower) सियान की ऊंचाई 29 मंजिला और एपेक्स की 32 मंजिल है. जानकारों की मानें तो दो ...अधिक पढ़ें

    नोएडा. 28 अगस्त की दोपहर सुपरटेक के ट्विन टावर (Supertech Twin Tower) गिरा दिए जाएंगे, एडिफिस कंपनी की ओर से ऐसा दावा किया जा रहा है. लेकिन पड़ोस में बने टावर एमराल्ड (Emrald) और एटीएस टावर (ATS Tower) में रहने वालों का काम 27 अगस्त से ही शुरू हो जाएगा. एडिफिस कंपनी ने एमराल्ड और एटीएस के फ्लैट मालिकों से लेकर उनके यहां काम करने वाले घरेलू नौकर और पेट्स तक के लिए प्लान बनाया है. प्लान में गंभीर रूप से बीमार और बेड रेस्ट करने वालों को भी शामिल किया गया है. वहीं दोनों सोसाइटी की पार्किंग (Parking) में खड़े ऐसे वाहन परेशानी का सबब बन रहे हैं जिनके मालिक मौजूद नहीं हैं.

    सीबीआरआई की जांच के बाद ही मिलेगी फ्लैट में एंट्री

    सुपरटेक के ट्विन टावर गिरने के बाद भी एमराल्ड और एटीएस सोसाइटी के फ्लैट में एंट्री करना आसान नहीं होगा. फ्लैट में एंट्री करने से पहले सेंट्रल बिल्डिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट की टीम से मंजूरी लेने होगी. प्लान के मुताबिक सीबीआरआई की टीम टावर के गिरने के बाद आसपास बने टावर का निरीक्षण करेगी. निरीक्षण करने के बाद स्ट्रक्चरल ऑडिट रिपोर्ट देगी. इसके बाद भी अपने-अपने फ्लैट तक जाने के लिए सिर्फ सीढ़ियों की अनुमति दी जाएगी. सीबीआरआई की टीम पहले खाली लिफ्ट चलाकर देखेगी. सोसाइटी की बिजली भी जलाकर जांची जाएगी. सबसे खास बात यह कि इन सभी जांच से पहले एमराल्ड और एटीएस के टावरों के पिलर जांचे जाएंगे.

    आपके शहर से (नोएडा)

    नोएडा
    नोएडा

    तीन सोसाइटियों और हॉस्पीटल में ठहराए जाएंगे एमराल्ड-एटीएस के लोग

    जानकारों की मानें तो ट्विन टावर में विस्फोटक करने से पहले पड़ोस के टावर एमराल्ड और एटीएस को खाली कराया जाएगा. यहां रहने वाले करीब 700 हजार परिवारों को सेक्टर-93ए स्थित पाशर्वनाथ प्रेस्टीज सोसाइटी, सेक्टर-93 की पूर्वांचल सिल्वर सिटी और सेक्टर-137 की पूर्वांचल सोसाइटी में ठहराया जाएगा. सुराक्षित तरीके से अपने घरों से बाहर कैसे निकलना है और घरों को किस तरह से बंद करके आना है इसके लिए सभी को कंपनी की ओर से प्रशिक्षण भी दिया जाएगा.

    इसके साथ ही दोनों सोसाइटियों के करीब 10 से 12 ऐसे लोगों को भी चिन्ह्रित किया गया है जो लकवा आदि से ग्रासित हैं और बेड पर ही रहते हैं. प्लान के मुताबिक ऐसे लोगों को 27 अगस्त को ही नोएडा के सेक्टर-137 स्थित फेलिक्स अस्पताल में भर्ती करा दिया जाएगा. एम्बूलेंस की मदद से इन्हें अस्पताल तक पहुंचाया जाएगा. लेकिन अस्पताल या किसी और तरीके का इनसे कोई चार्ज नहीं वसूला जाएगा. वहीं पार्किंग में खड़े वाहनों को भी 27 अगस्त की शाम तक तय जगह पर पहुंचाकर पार्किंग को खाली करना होगा.

    28 अगस्त को यह प्लान होगा लागू के लिए निवासियों ने बनाई योजना

    28 अगस्त को सोसाइटियों में आने वाले घरेलू नौकरों को सुबह चार बजे आकर साढ़े छह बजे तक अपना काम खत्म करने के बाद चले जाना होगा.

    सुबह 7 बजे 10 मिनट के लिए सोसाइटी के बिजली-पानी बंद कर दिए जाएंगे.

    घर से बाहर जाने पर अपने फ्लैट के बाहर एक पर्ची चिपका कर उसकी फोटो आरडब्ल्यूए को भेजनी होगी.

    सुबह 7 बजे फ्लैट से बाहर निकलते समय गैस, बिजली-पानी के सभी कनेक्शन बंद कर बिजली का मेन स्विच बंद करना होगा.

    Tags: Explosion, Noida Authority, Supertech twin tower, Traffic Police

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें