Home /News /uttar-pradesh /

runway taxiway and terminal work of jewar airport start after lucknow meeting dlnh

जेवर एयरपोर्ट के रनवे पर हुआ बड़ा फैसला, ऐसे विमान उतर सकेंगे

एयरपोर्ट के टैक्सी-वे और रनवे को लेकर बड़ा फैसला लिया गया है.  File Photo

एयरपोर्ट के टैक्सी-वे और रनवे को लेकर बड़ा फैसला लिया गया है. File Photo

किसी भी एयरपोर्ट का टैक्सी-वे (Taxi way) वो एरिया होता है जहां से होकर पैसेंजर रनवे पर खड़े विमान तक जाते हैं. योजना है कि जेवर एयरपोर्ट (Jewar Airport) पर तीन टैक्सी-वे बनाए जाएंगे. इनका डिजाइन इस तरह का रखा जाएगा कि पैसेंजर को विमान तक पहुंचने के लिए कम से कम पैदल चलना पड़े. एयरपोर्ट निर्माता कंपनी नियाल (Nial) इसी डिजाइन पर काम कर रही है. वहीं टाटा (Tata) और एल एण्ड टी (LnT) समेत तीन कंपनियां निर्माण का ठेका लेने वाली लाइन में हैं.

अधिक पढ़ें ...

    नोएडा. जेवर एयरपोर्ट (Jewar Airport) का काम तेजी पकड़ने लगा है. 2024 में पहली उड़ान के प्लान को देखते हुए हर एंगिल पर काम किया जा रहा है. हाल ही में इस मामले पर लखनऊ (Lucknow) में एक बैठक हुई थी. बैठक में एयरपोर्ट के टैक्सी-वे और रनवे (Runway) को लेकर बड़ा फैसला लिया गया है. मौजूदा वक्त में विमानों (Aeroplane) के साइज को देखते हुए रनवे के डिजाइन पर मुहर लगाई गई है. एयरपोर्ट की 17 किमी की बाउंड्रीवाल का काम भी जल्द से जल्द खत्म करने के भी निर्देश दिए गए हैं. गौरतलब रहे जेवर एयरपोर्ट का शुरुआती काम 6 गांवों की जमीन (Village Land) पर हो रहा है.

    60 और 75 मीटर पंख वाले विमान उतरेंगे जेवर एयरपोर्ट पर

    लखनऊ में हुई बैठक के दौरान इस लेआऊट पर मुहर लगाई गई है कि जेवर एयरपोर्ट पर तीन रनवे तैयार किए जाएंगे. पहले रनवे की लम्बाई 3900 मीटर और चौढ़ाई 45 मीटर होगी. इस रनवे पर 60 मीटर लम्बे पंख वाले विमान उतर सकेंगे. यह रनवे कोड ई कैटेगिरी का होगा.

    वहीं दूसरे रनवे पर 75 मीटर की लम्बाई के पंख वाले विमान उतरेंगे. यह कोर्ड एफ कैटेगिरी का रनवे होगा. इस एयरपोर्ट पर डोमेस्टिक पैसेंजर के लिए 10 गेट तो इंटरनेशनल फ्लाइट के पैसेंजर के लिए 2 गेट होंगे.

    AB के बीच 2 लाख फ्लैट खरीदारों के फंसे हजारों करोड़, जानें पूरा मामला

    6 गांवों की जमीन पर चल रहा है एयरपोर्ट का शुरुआती काम

    जानकारों की मानें तो जेवर एयरपोर्ट का शुरुआती काम 6 गांवों की जमीन पर चल रहा है. इसमे से 4 गांवों की जमीन को समतल कर उस पर दूसरा काम किया जा रहा है. वहीं दो गांवों की जमीन पर से मलबा हटाने का काम चल रहा है. उसके बाद जमीन का समतल किया जाएगा. इतना ही नहीं एयरपोर्ट के चारों ओर की करीब 17 किमी की बाउंड्रीवाल बनाने का काम भी चल रहा है. 9 किमी की बाउंड्रीवाल तैयार हो चुकी है. जबकि 8 किमी की बाउंड्री का काम बाकी रह गया है. जिसे जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा.

    220 केवीए के जनरेटर देंगे पावर सप्लाई

    जेवर एयरपोर्ट को जरूरत के हिसाब से 24 घंटे बिजली मिलती रहे इसके लिए सिर्फ एयरपोर्ट का पावर सप्लाई करने वाला 220 केवीए का जनरेटर लगाया जा रहा है. वहीं बिजली न होने की स्थिति में जनरेटर से सप्लाई देने के लिए 220 केवीए के ही जनरेटर लगाए जा रहे हैं.

    Tags: Jewar airport, Lucknow news, Noida International Airport

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर