होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे का काम फिर रुक गया, मिली एक नई तारीख, जानें वजह

नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे का काम फिर रुक गया, मिली एक नई तारीख, जानें वजह

नवंबर के बाद भी 5 महीने बीत चुके हैं. काम अभी भी अधूरा है. अब अथॉरिटी की तरफ से एक और डेटलाइन 30 सितम्बर 2022 की दी गई है. Demo Pic

नवंबर के बाद भी 5 महीने बीत चुके हैं. काम अभी भी अधूरा है. अब अथॉरिटी की तरफ से एक और डेटलाइन 30 सितम्बर 2022 की दी गई है. Demo Pic

Noida-Greater Noida Expressway News: दिल्ली से नोएडा-ग्रेटर नोएडा आने-जाने वालों को अभी थोड़ी परेशानी और उठानी पड़ेगी. एक्सप्रेसवे पर चल रहे रोड री सरफेसिंग के काम को खत्म होने में अभी 2 महीने और लगेंगे. ऐसा दावा जुलाई में काम करने वाली कंपनी ने किया था. वहीं वक्त से काम न पूरा करने के चलते कंपनी पर 6 बार में 1.72 करोड़ रुपये का जुर्माना भी लग चुका है. गौरतलब रहे नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे पर री सरफेसिंग का काम चलने की वजह से सुबह-शाम पीक टाइम पर ट्रैफिक जाम की परेशानी होने लगती है.

अधिक पढ़ें ...

नोएडा. दिल्ली-एनसीआर के करीब 2 लाख वाहनों को अभी नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे पर राहत मिलती हुई नहीं दिख रही है. करोड़ों रुपये की पेनल्टी और ब्लैक लिस्ट करने की चेतावनी के बावजूद एक बार फिर से एक्सप्रेसवे पर काम रुक गया है. साल 2021 से एक्सप्रेसवे पर रोड री सरफेसिंग का काम चल रहा है. अब बीते तीन दिन से फिर काम बंद पड़ा हुआ है. कंपनी का कहना है कि त्यौहार के चलते लेबर अपने-अपने गांव चली गई है. अब लेबर कब तक आएगी कुछ नहीं पता, जिसके चलते कंपनी को नोएडा अथॉरिटी की ओर से मिली 10वीं डेडलाइन 30 सितम्बर भी पूरी होती नहीं दिखाई दे रही है.

रोड री-सरफेसिंग के दौरान नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस वे पर ट्रैफिक जाम न हो, इसके लिए ट्रैफिक पुलिस ने उस हिस्से में सीसीटीवी कैमरे लगा दिए हैं जहां री-सरफेसिंग का काम चल रहा है. ट्रैफिक पुलिस के कंट्रोल रूम में 24 घंटे कैमरों की मदद से निगरानी की जा रही है. जैसे ही लगता है की ट्रैफिक की गति कम हो रही है और जाम लग सकता है तो फौरन ही उस एरिया के आसपास डयूटी दे रहे ट्रैफिक पुलिस के जवानों को इसका मैसेज दे दिया जाता है. मैसेज मिलते ही जवान मौके पर पहुंच जाते हैं.

सितम्बर तक चलेगा रोड री-सरफेसिंग का काम
नोएडा अथॉरिटी पहली बार नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस वे को री-सरफेसिंग की तकनीक के साथ दोबारा से बनवा रही है. इस तकनीक की मदद से सड़क को खुरचकर उसी वेस्ट मैटेरियल को दोबारा से इस्तेमाल कर सड़क को बनाया जाता है. 24 किमी के नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस वे पर नोएडा अथॉरिटी का हिस्सा 20 किमी का है.

नोएडा में 20 से 30 फीसद तक महंगी हो गई जमीन, आसान नहीं होगा घर-दुकान खरीदना

काम जून 2021 में ही खत्म हो जाना था
जानकारों की मानें तो यह काम साल 2021 में बहुत पहले ही खत्म हो जाना था. लेकिन कंसट्रक्शन कंपनी की लेट लतीफी के चलते साल 2022 भी आ गया. नोएडा अथॉरिटी की सीईओ रितु माहेश्वरी ने अब कंपनी को अल्टीमेटम जारी करते हुए एक बार फिर 75 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है. इससे पहले कंपनी पर 20-20 और 10, 22 और 25 लाख रुपये का जुर्माना लग चुका है.

4 बार आगे बढ़ चुका है रोड री-सरफेसिंग का काम
गौरतलब रहे नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे पर रोड री सरफेसिंग के काम के लिए 2019 में टेंडर प्रक्रिया शुरू हुई थी. लेकिन 2020 में कोरोना महामहारी के चलते यह काम 2021 जनवरी में शुरू हुआ. जून 2021 में काम खत्म होना था. लेकिन कंपनी लगातार काम को आगे बढ़ाते हुए वक्त की मोहलत मांगती रही. यह पहला मौका था जब इस काम की डेटलाइन 31 जुलाई 2021 कर दी गई.

नई डेडलाइन 30 सितंबर 2022
इसके बाद भी काम पूरा नहीं हुआ तो नोएडा अथॉरिटी ने कंपनी को एक और मौका देते हुए इसकी डेडलाइन 30 नवंबर कर दी. और उसके बाद का हाल सबके सामने है. नवंबर के बाद भी 5 महीने बीत चुके हैं. काम अभी भी अधूरा है. अब अथॉरिटी की तरफ से एक और डेडलाइन 30 सितम्बर 2022 की दी गई है.

Tags: Delhi-ncr, Noida Authority, Noida Expressway

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर