होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /नोएडा: पवन को क्यों बनना पड़ा पान्या, कैसे मिला नाम और पहचान? जानें प्राइड मेट्रो स्टेशन की कहानी

नोएडा: पवन को क्यों बनना पड़ा पान्या, कैसे मिला नाम और पहचान? जानें प्राइड मेट्रो स्टेशन की कहानी

Pride Metro Station Noida: पान्या से पहले कुदरत ने उसका लैंगिक अस्तित्व ही छीन लिया. फिर किस्मत ने परिवार और समाज से अल ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

एनएमआरसी ने सेक्टर-50 मेट्रो को प्राइड मेट्रो स्टेशन घोषित किया है
यहां पर काम करने वाले लोग एलजीबीटीक्यू समुदाय के ही हैं

रिपोर्ट: आदित्य कुमार

नोएडा. कभी सड़क पर, कभी बस स्टैंड पर तो कभी ट्रेन में यात्रा करने के दौरान आपने ट्रांसजेंडर को तो जरूर देखा होगा. यात्रियों से मांगते या फिर किसी को छेड़ते मजाक करते या फिर परेशान करते, लेकिन हम आपको एक ऐसे ट्रांसजेंडर से मिलवाते हैं जिसका नाम पान्या है. यकीनन पान्या से मिलने के बाद आपकी सोच जरूर बदल जाएगी.

दरअसल, पान्या से पहले कुदरत ने उसका लैंगिक अस्तित्व ही छीन लिया. फिर किस्मत ने परिवार और समाज से अलग कर दिया, लेकिन उसे एनएमआरसी के प्राइड मेट्रो स्टेशन ने एक मौका दिया, ताकि वह अपनी किस्मत को खुद लिख सके. अपने वजूद को नाम और पहचान दे सके, तो चलिए आगे बताते हैं कि,क्या है प्राइड मेट्रो स्टेशन और कैसे एलजीबीटीक्यू समुदाय के लिए वरदान है.

आपके शहर से (नोएडा)

नोएडा
नोएडा

क्यों स्पेशल है प्राइड मेट्रो स्टेशन?
नोएडा मेट्रो रेल कॉरपोरेशन यानी एनएमआरसी ने सेक्टर-50 मेट्रो को प्राइड मेट्रो स्टेशन घोषित किया है. यहां पर काम करने वाले लोग एलजीबीटीक्यू समुदाय के ही हैं. टिकट से लेकर चेकिंग और सफाई कर्मचारी तक एलजीबीटीक्यू समुदाय के ही हैं. एनएमआरसी की एमडी रितु माहेश्वरी बताती हैं कि, हमने तीन साल पहले इस प्राइड मेट्रो स्टेशन की शुरुआत की थी. इसमें अभी नौ लोग काम कर रहे हैं. आगे और भी लोगों को बढ़ाया जाएगा. वो बताती हैं कि समय-समय पर यहां वैकेंसी आती रहती हैं. एजुकेशन के आधार पर लोग nmrc.com वेबसाइट पर चेक कर सकते हैं.

क्या है पवन से पान्या बनने की कहानी?
NEWS 18 LOCAL से बात करते हुए पान्या बताती हैं कि, पहले मैं पवन के नाम से जानी जाती थी, लेकिन काफी हिम्मत करके अपने भीतर की आवाज को बिना किसी खौफ के सुना और आज मैं लड़की के जीवन को अपनाकर जी रही हूं. अब मुझे नाम और पहचान मिली है. वह आगे बताती हैं कि पहले लोग मुझे गाली देते थे, काफी हीन भावना से देखते थे, जॉब से निकाल देते थे, काम के बाद पैसे नहीं देते थे, लेकिन अब ऐसा नहीं है. मैंने 12वीं तक की पढ़ाई की है. अब मैं नोएडा मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (एनएमआरसी) के प्राइड मेट्रो स्टेशन पर जॉब करती हूं और अच्छा कमा रही हूं.

ट्रांसजेंडर समुदाय का प्राइड है यह स्टेशन
एक दिन नोएडा प्राइड मेट्रो स्टेशन पर जॉब का पता चला, उसके बाद मैंने अप्लाई किया और मेरा सेलेक्शन हो गया. तीन साल से यहां काम कर रही हूं. पान्या बताती हैं कि प्राइड मेट्रो स्टेशन एलजीबीटीक्यू समुदाय के लिए जॉब प्रोवाइड कराता है. ऐसे में कोई भी ट्रांसजेंडर यहां के लिए अप्लाई कर सकता है और सम्मान के साथ नौकरी कर सकता है.

Tags: Noida news, UP latest news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें