होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /सुपरटेक ट्विन टावर ब्लास्टः जानें कितनी तेज थी धमाके की आवाज, लगाई गई थी 6 मशीनें

सुपरटेक ट्विन टावर ब्लास्टः जानें कितनी तेज थी धमाके की आवाज, लगाई गई थी 6 मशीनें

ट्विन टावर को ध्वस्त करने के दौरान आस-पास के इलाकों में 101.2 डेसिबल की ध्वनि दर्ज की गयी.

ट्विन टावर को ध्वस्त करने के दौरान आस-पास के इलाकों में 101.2 डेसिबल की ध्वनि दर्ज की गयी.

आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक टावरों को ध्वस्त करने से पहले परिवेशी शोर पार्श्वनाथ प्रेस्टीज में 49.5 डेसिबल, बारात घर मे ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

प्राधिकरण की तरफ से परिवेशीय शोर को मापने के लिए छह मशीनें लगाई थीं.
सिटी पार्क में विध्वंस के दौरान ध्वनि का स्तर 101.2 डेसिबल तक पहुंच गया.
इस माप के लिए ट्विन टावरों के निकटतम तीन स्थानों के आंकड़े लिए गए थे.

नोएडा. नोएडा में रविवार को ट्विन टावर को ध्वस्त करने के दौरान आस-पास के इलाकों में 101.2 डेसिबल की ध्वनि दर्ज की गयी. आधिकारिक आंकड़ों में यह जानकारी सामने आई है. अधिकारियों के मुताबिक उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (यूपीपीसीबी) ने परिवेशीय शोर को मापने के लिए छह मशीनें लगाई थीं और इस माप के लिए ट्विन टावरों के निकटतम तीन स्थानों के आंकड़े लिए गए थे. तीन मशीनों को पार्श्वनाथ प्रेस्टीज, बारात घर और सिटी पार्क में लगाया गया था. सभी तीन मशीनें विस्फोट स्थल से लगभग 300-500 मीटर की दूरी पर थीं. आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक टावरों को ध्वस्त करने से पहले परिवेशी शोर पार्श्वनाथ प्रेस्टीज में 49.5 डेसिबल, बारात घर में 65.9 डेसिबल और सिटी पार्क में 56.6 डेसिबल दर्ज किया गया था.

आंकड़ों के मुताबिक टावरों को ध्वस्त करने के दौरान पार्श्वनाथ प्रेस्टीज में 84.9 डेसिबल, बारात घर में 101.2 डेसिबल और सिटी पार्क में 89.8 डेसिबल दर्ज किया गया था. यूपीपीसीबी के क्षेत्रीय अधिकारी प्रवीण कुमार ने पीटीआई-भाषा को बताया, ‘‘सिटी पार्क में विध्वंस के दौरान ध्वनि का स्तर 101.2 डेसिबल तक पहुंच गया, जो ध्वस्त हो चुके टावरों के सामने स्थित है.’’  वहीं सुपरटेक ट्विन टावर को रविवार दोपहर धराशायी किए जाने के बाद 80,000 टन मलबे और धूल के विशाल गुबार के कारण सेक्टर-93 ए से सटे इलाकों में हवा की गुणवत्ता में खास बदलाव दर्ज नहीं किया गया.

नोएडा प्राधिकरण के अनुसार, विस्फोट के पहले और बाद में 20 निगरानी केंद्रों के माध्यम से वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) और पार्टिकुलेट मैटर (पीएम) 10 के स्तर की बारीकी से निगरानी की गई. प्राधिकरण ने एक ट्वीट में कहा, ”आंकड़ों से स्पष्ट है कि टावर के धराशायी होने के बाद भी, एक्यूआई और पीएम 10 का स्तर अनुमानित सीमा के भीतर रहा है.” विस्फोट से पूर्व दोपहर दो बजे सेक्टर-91, 125, 62, एक और 116 में एक्यूआई क्रमश: 57, 122, 108, 119 और 121 दर्ज किया गया.

आपके शहर से (नोएडा)

नोएडा
नोएडा

Tags: Noida news, Supertech twin tower

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें