होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /24 तक पूरा होगा विस्फोटक का काम, आज 7 विभागों के अफसर करेंगे निरीक्षण

24 तक पूरा होगा विस्फोटक का काम, आज 7 विभागों के अफसर करेंगे निरीक्षण

टावर गिरने के बाद मलबे से उठने वाले धूल के गुबार से निपटने के लिए क्या और कैसा प्लान बनाया गया है इसकी जानकारी अफसरों को देंगे.

टावर गिरने के बाद मलबे से उठने वाले धूल के गुबार से निपटने के लिए क्या और कैसा प्लान बनाया गया है इसकी जानकारी अफसरों को देंगे.

सुपरटेक के ट्विन टावर (Supertech Twin Tower) में विस्फोटक लगाने का काम कुल 46 लोग करते हैं. इसमे 10 भारतीय इंजीनियर यान ...अधिक पढ़ें

नोएडा. त्यागी महापंचायक के चलते 21 अगस्त को सुपरटेक के ट्विन टावर (Supertech Twin Tower) में विस्फोटक लगाने का काम नहीं हो सका है. शहर में वाहनों की भीड़भाड़ के चलते पलवल से विस्फोटक (Explosive) नहीं आ सका. लेकिन एडिफिस कंपनी का दावा है कि 24 अगस्त तक सियान और एपेक्स टावर (Cyan and Apex Tower) में विस्फोटक लगाने का काम पूरा कर लिया जाएगा. सियान टावर में पूरी तरह से विस्फोटक लग चुके हैं, वहीं एपेक्स का काम अभी बाकी है. सूत्रों की मानें तो आज 7 से ज्यादा विभागों के बड़े अधिकारी टावर में विस्फोटक लगाने का जायजा लेंगे. खास बात यह है कि टावर गिरने के दौरान उठने वाले धूल के गुबार से निपटने के लिए बनाए गए प्लान को भी देखेंगे.

एपेक्स की 8वीं मंजिल तक लग चुके हैं विस्फोटक

जानकारों की मानें तो सुपरटेक के ट्विन टावर सियान की ऊंचाई 29 मंजिला और एपेक्स की 32 मंजिल है. इसमे से सियान में विस्फोटक लगाने का काम पूरा कर लिया गया है. जबकि एपेक्स की 8वीं मंजिल तक विस्फोटक लगाए जा चुके हैं और बाकी में लगाने का काम चल रहा है. रविवार को नोएडा में त्यागी महापंचायत के चलते पलवल से टावर के लिए विस्फोटक नहीं आ सके थे, इसलिए  काम नहीं हो सका. वहीं सूत्रों की मानें तो आज सीबीआरआई, नोएडा अथॉरिटी, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, विद्युत निगम, गेल इंडिया, ट्रैफिक व सिविल पुलिस के अलावा अन्य विभागों के बड़े अधिकारी ट्विन टावर और आसपास की सोसाइटी का भी दौरा करेंगे.

आपके शहर से (नोएडा)

नोएडा
नोएडा

इस मौके पर ट्विन टावर को गिराने वाली कंपनी एडिफिस और जेट डिमोलिशन के इंजीनियर भी मौजूद रहेंगे. टावर गिरने के बाद मलबे से उठने वाले धूल के गुबार से निपटने के लिए क्या और कैसा प्लान बनाया गया है इसकी जानकारी अफसरों को देंगे. गेल के अफसर टावर के नीचे से जा रही गैस पाइप की सुरक्षा से जुड़े प्लान को परखेंगे.

Twin Tower Blast के दौरान आने-जाने को इन रास्तों का कर सकते हैं इस्तेमाल

तीन सोसाइटियों में ठहराए जाएंगे एमराल्ड और एटीएस के लोग

जानकारों की मानें तो ट्विन टावर में विस्फोटक करने से पहले पड़ोस के टावर एमराल्ड और एटीएस को खाली कराया जाएगा. यहां रहने वाले करीब 700 हजार परिवारों को सेक्टर-93ए स्थित पाशर्वनाथ प्रेस्टीज सोसाइटी, सेक्टर-93 की पूर्वांचल सिल्वर सिटी और सेक्टर-137 की पूर्वांचल सोसाइटी में ठहराया जाएगा. सुराक्षित तरीके से अपने घरों से बाहर कैसे निकलना है और घरों को किस तरह से बंद करके आना है इसके लिए सभी को कंपनी की ओर से प्रशिक्षण भी दिया जाएगा.

सियान-एपेक्स टावर गिराने को ऐसे लगाया जा रहा है विस्फोटक

टावर गिराने के लिए बिल्डिंग के कॉलम और बीम में विस्फोटक भरे जाते हैं. कॉलम और बीम को वी शेप में काटा जाता है. फिर उसके अंदर विस्फोटक की छड़ रख दी जाती है. विस्फोटक ग्राउंड फ्लोर से लेकर 1 और 2 फ्लोर तक तो लगातार विस्फोटक रखा जाता है. लेकिन उसके बाद 4-4 फ्लोर का गैप देकर जैसे दूसरे के बाद 6 पर और 6 क बाद 10, 14, 18 और 22वें जानकारों की मानें तो किसी भी हाईराइज बिल्डिंग को गिराने के लिए उसके कॉलम और बीम में फ्लोर पर विस्फोटक भरा जाएगा. सूत्रों की मानें तो इसके लिए पूरी बिल्डिंग में करीब 7 हजार छेद किए जाएंगे. गौरतलब रहे एपेक्स टावर में 32 और सियान में 29 फ्लोर हैं.

Tags: Explosion, Noida Authority, Noida Police, Supertech twin tower

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें