Home /News /uttar-pradesh /

supertech twin tower will be demolished by explosives in noida dlnh

हाईराइज बिल्डिंग गिराने के लिए ऐसे लगाए जाते हैं विस्फोटक, जानें तरीका

सुपर टेक ट्विन टॉवरों को धवस्त करने से पहले उन पर एक परीक्षण किया जाएगा. (फाइल फोटो)

सुपर टेक ट्विन टॉवरों को धवस्त करने से पहले उन पर एक परीक्षण किया जाएगा. (फाइल फोटो)

विस्फोटक Explosives) लगाकर जब कहीं भी बिल्डिंग गिराई जाती है तो देखने वालों की भीड़ लग जाती है. लेकिन मौके पर मौजूद कंपनी के लोगों की मानें तो सुपरटेक ट्विन टावर (Supertech Twin Tower) के 300 मीटर एरिया में किसी को भी जाने की अनुमति नहीं होगी. यहां तक की जब टावर गिराए जाएंगे तो आसपास की सोसाइटी में भी छतों तक पर किसी को रहने की इजाजत नहीं दी जाएगी. लेकिन 300 मीटर दूर खड़े होकर टावर को गिरते हुए देखा जा सकता है. इस दौरान नोएडा पुलिस (Noida Police) भी मौजूद रहेगी.

अधिक पढ़ें ...

    नोएडा. सुपरटेक के ट्विन टावर (Supertech Twin Tower) सियान और एपेक्स (Cyan and Apex Tower) को गिराने की तैयारियां और तेज हो गई हैं. अभी टावर के कुछ जरूरी हिस्सों को तोड़ने का काम चल रहा है. जल्द ही यह काम पूरा हो जाएगा. इसके बाद विस्फोटक (Explosives) लगाने का काम किया जाएगा. यह काम भी काम से कम 20 से 25 दिन में पूरा होगा. इसके लिए टावर की खास जगहों पर छड़ के रूप में विस्फोटक भरा जाएगा. कानपुर (Kanpur) से विस्फोटक लाने का प्लान बनाया गया है. टावर गिराने के दौरान आसपास की दूसरी बिल्डिंग्स को कोई नुकसान न हो इसका भी प्लान तैयार कर उस पर अमल किया जा रहा है.

    बिल्डिंग गिराने के लिए ऐसे लगाया जाता है विस्फोटक

    जानकारों की मानें तो किसी भी हाईराइज बिल्डिंग को गिराने के लिए उसके कॉलम और बीम में विस्फोटक भरे जाते हैं. कॉलम और बीम को वी शेप में काटा जाता है. फिर उसके अंदर विस्फोटक की छड़ रख दी जाती है. विस्फोटक ग्राउंड फ्लोर से लेकर 1 और 2 फ्लोर तक तो लगातार विस्फोटक रखा जाता है. लेकिन उसके बाद 4-4 फ्लोर का गैप देकर जैसे दूसरे के बाद 6 पर और 6 क बाद 10, 14, 18 और 22वें फ्लोर पर विस्फोटक भरा जाएगा. सूत्रों की मानें तो इसके लिए पूरी बिल्डिंग में करीब 7 हजार छेद किए जाएंगे.

    विस्फोटक लगाने के दौरान ऐसी रहेगी सुरक्षा

    सुपरटेक ट्विन टावर में विस्फोटक लगाने के दौरान सिर्फ तकनीशियनों को ही जाने की अनुमति होगी. इसके अलावा किसी भी बाहरी व्यक्ति को जाने की अनुमति नहीं होगी. दोनों टावर में करीब 20 से 25 दिन तक विस्फोटक लगाने का काम चलेगा. इस दौरान दोनों टावर की सुरक्षा स्थानीय पुलिस के हवाले रहेगी.

    Twin Tower ढहेगा तो बंद रहेंगी कई सड़कें, नोएडा एक्सप्रेसवे पर भी 22 मई को जाना नामुमकिन

    टावर गिराने में कुल 4 हजार किलो विस्फोटक का इस्तेमाल किया जाएगा. टावर में हर रोज सिर्फ उतना ही विस्फोटक लाया जाएगा जितना एक दिन में लगाया जा सके. बाकी के स्टाक को टावर से अच्छी खासी दूरी पर रखा जाएगा.

    विस्फोट और मलबे से ऐसे की जाएगी आसपास की सुरक्षा

    जानकारों का कहना है कि ट्विन टावर को गिराने से पहले उसे लोहे के जाल से कवर कर दिया जाएगा. जाल पर कागज की एक मोटी सीट से ढक दिया जाएगा. इसके अलावा हर फ्लोर पर हरे रंग के कपड़े का जाल भी लगाया जाएगा. इससे होगा यह कि जब मलब हवा में उछलेगा तो वो आसपास की बिल्डिंग्स पर नहीं गिरेगा. बल्कि जाल से टकराकर वहीं रह जाएगा. इन दोनों तरीकों से धूल का गुबार भी ऊपर तक नहीं जाएगा. इतना ही नहीं बराबर के दूसरे टावर और ट्विन टावर के बीच में स्टील के कंटेनर की एक दीवार भी खड़ी की जाएगी.

    Tags: Explosion, Noida Police, Supertech twin tower

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर