होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /ट्विन टॉवर: सुपरटेक ने कैसे किया इतना बड़ा खेल, पोल खोल रहे ये 3 नक्‍शे

ट्विन टॉवर: सुपरटेक ने कैसे किया इतना बड़ा खेल, पोल खोल रहे ये 3 नक्‍शे

ट्विन टॉवर बनाने वाले सुपरटेक ने 3 नक्‍शे बनवाए थे और अवैध रूप से ग्रीन एरिया में खड़ी कर दी थीं टॉवरें.  (ANI Photos)

ट्विन टॉवर बनाने वाले सुपरटेक ने 3 नक्‍शे बनवाए थे और अवैध रूप से ग्रीन एरिया में खड़ी कर दी थीं टॉवरें. (ANI Photos)

न्‍यूज 18 हिंदी के पास सुपरटेक के तीन नक्‍शे हैं. ये नक्‍शे साल 2006, साल 2009 और साल 2012 के हैं. जिनमें स्‍पष्‍ट रूप ...अधिक पढ़ें

नोएडा. सुपरटेक एमराल्‍ड कोर्ट हाउसिंग सोसायटी में खड़ी की गईं ट्विन टॉवर अब इतिहास बन चुकी हैं. कुतुबमीनार से भी ऊंची लेकिन अवैध रूप से बनाई गईं दोनों जुड़वा टॉवरों को 28 अगस्‍त को बारूद लगाकर ढहा दिया गया है. सुपरटेक की योजना इन टॉवरों को 40-40 मंजिल ऊंची बनाने और दिल्‍ली-एनसीआर की अनोखी बिल्डिंग बनाने की थी लेकिन रेजिडेंट्स के हक की जमीन पर बनाई गई इन टॉवरों को टूटना ही था. एमराल्‍ड सोसायटी के ग्रीन एरिया की जमीन पर खड़ी की गई इन टॉवरों के अवैध और जबरन बनाए जाने की कहानी की पोल खुद सुपरटेक के तीन नक्‍शे खोल रहे हैं. ये बता रहे हैं कैसे सुपरटेक ने एकाएक पार्क की जमीन पर ट्विन टॉवरें खड़ी कर दीं.

न्‍यूज 18 हिंदी के पास सुपरटेक के तीन नक्‍शे हैं. ये नक्‍शे साल 2006, साल 2009 और साल 2012 के हैं. जिनमें स्‍पष्‍ट रूप से दिखाई दे रहा है कि कैसे सुपरटेक ने कैसे अपने पैसे और क्षमता का इस्‍तेमाल करके अपनी योजना के नक्‍शे ही बदल दिए और इनकी हवा तक आसपास के रेजिडेंट्स को नहीं लगी. सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचे रेजिडेंट्स में से ही एक सीनियर सिटिजन ने बताया कि कायदे से बिल्‍डर किसी हाउसिंग सोसायटी के लिए एक बार ही नक्‍शा बनवाकर उसे पास करवाता है, अगर कहीं छोटे-मोटे बदलाव की जरूरत होती है तो निवेश करने वाले फ्लैट खरीदारों की रजामंदी से उस बदलाव को करवा सकता है लेकिन सुपरटेक ने ट्विन टॉवर के लिए अपने प्‍लान के अनुसार 3 अलग-अलग सालों में 3 अलग-अलग नक्‍शों को पास करवाया जो सुप्रीम कोर्ट में सुपरटेक के खिलाफ बड़े सबूत साबित हुए.

पहला नक्‍शा, साल 2006

आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

दिल्ली-एनसीआर
दिल्ली-एनसीआर
सुपरटेक एमराल्‍ड कोर्ट हाउसिंग सोसायटी का नक्‍शा नंबर 1, साल 2006.

सुपरटेक एमराल्‍ड कोर्ट हाउसिंग सोसायटी का नक्‍शा नंबर 1, साल 2006.

सुपरटेक का यह पहला नक्‍शा साल 2006 का है. जब एमराल्‍ड कोर्ट हाउसिंग सोसायटी में टॉवरों का निर्माण होना था. यह सुपरटेक का पूरा प्‍लान बता रहा है जिसमें स्‍पष्‍ट रूप से दिखाई दे रहा है कि इसमें हाउसिंग सोसायटी की एस्‍टर, एस्‍पायर, सोवरेन आदि टॉवरें बनाई जानी हैं. इन सभी टॉवरों के बीच में एक बड़ा ग्रीन एरिया है जहां पार्क बनाया जाना है. यह एक सेंट्रल पार्क की तरह है जो सभी टॉवरों से घिरा है. इस नक्‍शे में सब कुछ स्‍पष्‍ट है. जहां लाल घेरा है वहां कुछ भी नहीं है. यह ग्रीन एरिया का ही हिस्‍सा है.

दूसरा नक्‍शा, साल 2009

सुपरटेक एमराल्‍ड कोर्ट हाउसिंग सोसायटी का नक्‍शा नंबर 2, साल 2009.

सुपरटेक एमराल्‍ड कोर्ट हाउसिंग सोसायटी का नक्‍शा नंबर 2, साल 2009.

सुपरटेक का दूसरा नक्‍शा साल 2009 का है. इसमें बाकी सभी चीजें तो पहले नक्‍शे की तरह ही हैं. हालांकि इसमें बिल्‍डर ने टॉवरों की फ्लोर संख्‍या बढ़ाई है. इसमें सभी टॉवरें, चिल्‍ड्रन पार्क, पंप रूम, फायर वॉटर, डॉमेस्टिक वॉटर टेंक आदि सब पहले नक्‍शे जैसे हैं लेकिन इसमें बीच में बने ग्रीन एरिया में लाल घेरे में एक और आकृति दिखाई दे रही है. यह आकृति दो जुड़ी हुई गोल टॉवरों की है जो ट्विन टॉवर ही हैं. यह बिल्‍कुल बिजली के प्‍लग जैसी दिखाई दे रही हैं जो आपस में जुडी हुई खड़ी हैं. बिल्‍डर के इस नक्‍शे में ग्रीन एरिया का यह हिस्‍सा इन टॉवरों से घिरा है.
तीसरा नक्‍शा, साल 2012

सुपरटेक एमराल्‍ड कोर्ट हाउसिंग सोसायटी का नक्‍शा नंबर 2, साल 2012.

सुपरटेक एमराल्‍ड कोर्ट हाउसिंग सोसायटी का नक्‍शा नंबर 2, साल 2012.

यह नक्‍शा साल 2012 का है जबकि एमराल्‍ड कोर्ट हाउसिंग सोसायटी के सेंट्रल पार्क यानि ग्रीन एरिया के एक कोने पर ट्विन टॉवरें स्‍पष्‍ट रूप से खड़ी हुई दिखाई दे रही हैं. लाल घेरे में ये ट्विन टॉवरें एस्‍टर और एस्‍पायर सोसायटीज के एकदम पास हैं जबकि रोड के नजदीक वाली सोसायटीज से दूर हैं. यह ग्रीन एरिया के एक कोने पर खड़ी की गई हैं. हालांकि 40-40 मंजिल की दो टावरें एकदम सामने खड़ी कर दी जाएं तो इससे पीछे की कम ऊंचाई वाली टॉवरों की धूप और हवा रुकना लाजिमी है. इतना ही नहीं इनमें दूरी का भी ध्‍यान नहीं रखा गया था. महज 9 मीटर की दूरी पर ये टॉवरें खड़ी कर दी गईं.

सुपरटेक के खिलाफ लंबे समय से केस लड़ने वालों में शामिल एक वरिष्‍ठ नागरिक और इस सोसायटी के रेजिडेंट ने बताया कि जो चीज पहले नक्‍शे में है ही नहीं वह दूसरे और तीसरे में बिल्‍डर ने पैदा कर दी और इसके लिए सोसायटी के लोगों से पूछा तक नहीं गया. सीधे उनके सामने दो टॉवरें ले जाकर खड़ी कर दीं जबकि ये जगह सार्वजनिक इस्‍तेमाल के लिए ग्रीन एरिया की थी. बिल्‍डर ने यहां लालच दिखाया और उसका नतीजा हुआ कि दोनों टॉवरें ध्‍वस्‍त हो गईं.

Tags: Supertech twin tower

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें